जीत से शुरुआत करना चाहते हैं धोनी

धोनी
Image caption शुक्रवार को खेला जाएगा पहला वनडे मैच

भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार को इंग्लैंड के खिलाफ़ पहला एकदिवसीय मैच खेलेगी. पांच मैचों की इस श्रृंखला में पहला मैच हैदराबाद में खेला जाएगा.

भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी को उम्मीद है कि उनकी टीम जीत के साथ शुरुआत करेगी. भारतीय टीम के कई सीनियर खिलाड़ी चोट की वजह से टीम में नहीं है.

अप्रैल में विश्व कप जीतने के बाद भारतीय टीम को इंग्लैंड ने एकदिवसीय श्रृंखला में 3-0 से मात दी थी.

कप्तान धोनी को उम्मीद है कि इस बार भारतीय टीम पासा पलट देगी.

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की वेबसाइट पर उन्होंने कहा, "हमारा लक्ष्य जीत के साथ नए सत्र की शुरुआत करना है. इंग्लैंड में हम बढ़िया नहीं खेले थे लेकिन उससे ठीक पहले हमने क्रिकेट की सबसे बड़ी ट्रॉफ़ी विश्व कप जीती थी. मुझे भरोसा है कि ये बस वक्त की बात है कि कब हम पासा पलट दें."

ये पहली वनडे सिरीज़ है, जिसमें आईसीसी के नए नियम लागू होंगे. नए नियम के तहत दोनों छोर से नई गेंद से गेंदबाज़ी होगी. इसके अलावा बैटिंग और बॉलिंग पावर प्ले अब 16 से 40वें ओवर के बीच ले लेना होगा.

भारतीय कप्तान धोनी का कहना है कि ये मामला थोड़ा पेचीदा है. धोनी का कहना था कि कई बार टीम बैटिंग पावर प्ले आख़िरी पाँच ओवर में लेती थी. उन्होंने कहा कि दोनों छोर से नई गेंद के इस्तेमाल के कारण रिवर्स स्विंग कराने में भी मुश्किल आएगी

टीम में नए चेहरे

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption भारतीय टीम के गेंदबाज़ नए हैं

चोट की वजह से विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम के सिर्फ़ 4 सदस्य मौजूदा सिरीज़ में खेल रहे हैं. सचिन तेंदुलकर, वीरेंदर सहवाग, युवराज सिंह, ज़हीर ख़ान और मुनाफ़ पटेल चोट की वजह से टीम से बाहर हैं. जबकि हरभजन सिंह और एस श्रीसंत को ख़राब फ़ॉर्म की वजह से टीम में जगह नहीं मिली है.

धोनी को उम्मीद है कि टीम की बल्लेबाज़ी का भार गौतम गंभीर, सुरेश रैना और विराट कोहली बखूबी निभाएंगे.

वहीं गेंदबाज़ी में प्रवीण कुमार इकलौते अनुभवी गेंदबाज़ हैं.

इंग्लैंड की मजबूत बल्लेबाज़ी क्रम को तोड़ने की कोशिश लेग स्पिनर राहुल शर्मा, एस अरविंद और वरुण एरोन करेंगे. टीम में दो और स्पिनर- रविंद्र जडेजा और आर अश्विन शामिल हैं. जबकि तेज़ गेंदबाज़ी में प्रवीण कुमार और एरॉन का साथ उमेश यादव और विनय कुमार देगें.

धोनी को अपने युवा गेंदबाज़ों पर पूरा भरोसा है. उन्होंने कहा, "हमारी पिचों पर बल्लेबाज़ो को मदद मिलती है. लेकिन हमारे गेंजबाज़ इनपर गेंजबाज़ी करने में अभ्यस्त हैं. वो इन्ही पिचों पर गेंदबाजी़ करते हुए बड़े हुए हैं."

दूसरी ओर इंग्लैंड के कप्तान एलेस्टर कुक भारतीय ज़मीन पर ख़राब प्रदर्शन का सिलसिला तोड़ना चाहते हैं.

संबंधित समाचार