'एजेंट ने मैच फिक्सिंग के लिए कहा था'

सलमान बट इमेज कॉपीरइट PA
Image caption सलमान बट और मोहम्मद आसिफ़ पर मैच फ़िक्सिंग का षड़यंत्र रचने का मामला चल रहा है.

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट ने स्वीकार किया है कि उनके एजेंट ने उनसे मैच फिक्सिंग करने के लिए कहा था लेकिन उन्होने इसकी अनदेखी की.

इंग्लैंड के विरुद्ध खेले गए टेस्ट मैच में फिक्सिंग मामले में सदर्क क्राउन कोर्ट में चल रही सुनवाई के दौरान सलमान बट ख़ुद को निर्दोष बताते हुए सबूत पेश किए है.

सलमान बट ने अदालत को बताया कि मज़हर माजिद ने उनसे पिछले साल 20-20 वर्ल्ड कप के दौरान जान बूझकर विकेट गिराने और इंग्लैंड के विरुद्ध खेले गए टेस्ट मैच में रन न बनाने को कहा था, पर उन्होंने एजेंट के इस प्रस्ताव को दरकिनार कर दिया.

सलमान बट ने कहा कि सारी ज़िंदगी उन्होंने ऐसा काम नही किया और वो अपनी पूरी क्षमताओं के साथ ही खेले.

अभियोजन पक्ष का कहना था कि मज़हर माजिद ने सलमान बट और गेंदबाज़ मोहम्मद आसिफ़ से साथ मिलकर लॉर्ड्स में हुए मैच के कई हिस्सों को फ़िक्स किया और जानबूझ कर तीन नो बॉल डालीं.

सबूत

लेकिन सलमान बट और मोहम्मद आसिफ़ दोनों ने मैच में फ़िक्सिंग का षड्यंत्र रचने और अवैध तरीके से पैसे लेने की बात से इनकार किया है.

अपने बचाव में सबूत पेश करते हुए सलमान बट ने कहा कि ओवल टेस्ट के अंतिम दिन मज़हर माजिद ने उन्हे फ़ोन किया था.

अदालत में गवाही के दौरान सलमान बट ने बताया कहा कि माजिद ने उनसे पहले और तीसरे ओवर को मेडेन रखने को कहा था.

इसके जवाब में उन्होनें कहा था “ भाई, इसे छोड़ो, ठीक है“

यहाँ ठीक है का मतलब ये था कि जितनी जल्दी हो सके उससे पीछा छुड़ाया जा सके.

इस सवाल के जवाब में कि क्यों मैंच फिक्सिंग सेकैंडल का पर्दाफाश होने के बाद उनके कमरे से मोबाइल फोन के नौ सिम कार्ड मिले, सलमान बट ने कहा कि विदेशों में दौरे के समय स्थानिय फोन नम्बर लेना सस्ता पड़ता है.

सलमान बट के वकील का कहना था कि बट किसी तरह के षडयंत्र में शामिल नही थे.

मामले की सुनवाई जारी है.

संबंधित समाचार