सचिन चूके मगर अश्विन ने शतक जमाया

सचिन तेंदुलकर इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption सचिन ने 99वाँ शतक मार्च में लगाया था

सचिन तेंदुलकर का 100वाँ अंतरराष्ट्रीय शतक देखने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पहुँचे दर्शकों को काफ़ी निराशा हाथ लगी मगर ऑफ़ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने शतक लगाकर भारत को 482 रनों तक पहुँचने में मदद की.

मैच के चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक वेस्टइंडीज़ ने दो विकेट के नुक़सान पर 81 रन बना लिए हैं और उन्हें कुल 189 रनों की बढ़त मिल गई है.

अब जबकि सिर्फ़ एक दिन का खेल बचा है अगर कोई नाटकीय घटनाक्रम नहीं हुआ तो ये मैच ड्रॉ की ओर बढ़ता दिख रहा है.

सचिन तेंदुलकर ने 67 रनों से आगे खेलना शुरू किया था और वह काफ़ी संतुलित ढंग से तथा आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ते दिख रहे थे.

सुबह जो स्टेडियम थोड़ा बहुत ख़ाली था उस समय तक शतक की उम्मीद में खचाखच भर चुका था मगर 94 रनों के स्कोर पर रवि रामपॉल की गेंद पर स्लिप में उनका कैच डैरेन सैमी ने ले लिया.

सचिन का आउट होना था कि स्टेडियम में जैसे मुर्दनी छा गई. दर्शकों को यक़ीन नहीं हो रहा था कि वे इतिहास का गवाह नहीं बन सके. लोग काफ़ी देर तक जैसे ठगे से खड़े रह गए.

अश्विन का शतक

उसके बाद भारतीय क्रिकेट प्रेमियों की दिलचस्पी मैच में कम हो गई और उसी का फ़ायदा उठाकर बिना किसी दबाव के खेलते हुए स्पिनर अश्विन ने करियर का पहला शतक जड़ दिया.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अश्विन ने पहली पारी में पाँच विकेट भी लिए और शतक भी जमाया

भारत का चौथा विकेट वीवीएस लक्ष्मण के रूप में गिरा था जबकि वह 32 रन बनाकर आउट हुए. उसके बाद कोहली के साथ तेंदुलकर की 35 रनों की साझेदारी हुई मगर 322 के स्कोर पर तेंदुलकर पाँचवें विकेट के रूप में आउट हुए.

कोलकाता में शतक जमाने वाले कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इस मैच में ज़्यादा कुछ नहीं कर सके और सिर्फ़ आठ रनों पर आउट हो गए.

धोनी के आउट होने के बाद कोहली ने अश्विन के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाया मगर कोहली अर्द्धशतक जमाकर देवेंद्र बिशू की गेंद पर आउट हुए. उन्होंने 52 रन बनाए. दोनों के बीच 97 रनों की साझेदारी हुई.

कोहली के आउट होने के बाद इशांत शर्मा और प्रवीण ऐरॉन बड़ा स्कोर नहीं खड़ा कर सके. उधर अश्विन 90 से ऊपर पहुँच चुके थे और दूसरे छोर पर प्रज्ञान ओझा थे.

लोगों को लग रहा था कि अगर ओझा आउट हो गए तो अश्विन को शतक का मौक़ा नहीं मिलेगा. मगर ओझा दूसरे छोर पर बिना रन बनाए हुए ही डटे रहे. उन्होंने कुल 14 गेंदें खेलीं मगर खाता नहीं खोल सके.

इधर धीरे-धीरे कर अश्विन ने शतक पूर किया और शतक पूरा करने के तुरंत बाद 103 रनों के स्कोर पर रामपॉल की गेंद पर आउट हुए.

रिकॉर्ड

इसके बाद प्रज्ञान ओझा ने वेस्टइंडीज़ की दूसरी पारी में दो विकेट लिए. एड्रियन बराठ तीन और कर्क एडवर्ड्स 17 रन बनाकर आउट हुए.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption सचिन के आउट होते ही वानखेड़े स्टेडियम में दर्शक स्तब्ध रह गए

टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में ये पहली बार हुआ है कि एक मैच की पहली पारी में दोनों टीमों की ओर से कुल मिलाकर 11 या उससे ज़्यादा अर्द्धशतक बने.

वेस्टइंडीज़ की ओर से छह और भारत की ओर से पाँच बल्लेबाज़ों ने अर्द्धशतक मारे.

इसके अलावा अश्विन वीनू मांकड़ और पॉली उमरीगर के बाद तीसरे भारतीय बने जिन्होंने एक ही पारी में पाँच विकेट लिए और शतक भी जमाया.

सचिन तेंदुलकर 10वीं बार 90 से ज़्यादा रन बनाकर 'नर्वस नाइंटीज़' का शिकार हो गए.

सचिन ने विश्व कप के दौरान मार्च में दक्षिण अफ़्रीका के विरुद्ध नागपुर में आख़िरी शतक लगाया था और उसके बाद वह इंग्लैंड के विरुद्ध अगस्त में 91 रन बनाकर आउट हो चुके हैं.

भारत इस शृंखला में 2-0 की अजेय बढ़त पहले ही ले चुका है.

संबंधित समाचार