कप्तानी छोड़ने के लिए तैयार धोनी

धोनी इमेज कॉपीरइट AP
Image caption धोनी ने कहा, ''कप्तानी मेरे लिए अतिरिक्त ज़िम्मेदारी है.''

टेस्ट क्रिकेट में अपनी कप्तानी और प्रदर्शन के लिए कड़ी आलोचना का सामना कर रहे भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा है कि वह टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने के लिए तैयार हैं.

सिडनी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए धोनी ने कहा कि अगर चयनकर्ताओं को उनसे बेहतर विकल्प मिलता है तो वह टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने के लिए तैयार हैं.

धोनी ने कहा, ''कप्तानी मेरे लिए अतिरिक्त ज़िम्मेदारी है. मैंने कप्तान के पद पर रहते हुए हमेशा बेहतर करने की कोशिश की है, लेकिन कप्तानी ऐसी चीज नहीं है जिससे मैं चिपका रहना चाहता हूं. अगर मुझसे कोई बेहतर कप्तान है तो वो मेरी जगह आ सकता है.''

धोनी की कप्तानी में भारत विदेश में लगातार सात टेस्ट हार चुका है. बल्लेबाज़ के तौर पर भी विदेशी पिचों पर उनका प्रदर्शन खराब ही रहा है.

इंग्लैंड में चार टेस्ट मैचों में उन्होंने 31.43 की औसत से 220 रन बनाए थे जबकि ऑस्ट्रेलिया में तीन टेस्ट मैचों में उन्होंने 20.40 की औसत से 102 रन बनाए.

इससे पहले वह अगले साल टेस्ट क्रिकेट से संन्यास के संकेत भी दे चुके हैं. धोनी ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि वह 2013 में क्रिकेट के एक फॉर्मैट से संन्यास ले सकते हैं ताकि वे विश्व कप खेल सकें.

दो साल में फैसला

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार धोनी ने कहा, "साल 2013 के लिए अभी दो साल हैं. मुझे नहीं पता कि तब तक मैं जिंदा भी रहूंगा या नहीं! हमें आईपीएल, चैंपियन्स लीग और लगातार सीरिज़ खेलनी है. आप क्रिकेट के कैलेंडर को पहले से नहीं जान पाते हैं. यह भी नहीं पता होता कि आपको आराम मिलेगा या नहीं.''

उन्होंने कहा, ''मुझे साल 2013 तक फैसला करना होगा लेकिन वो अभी दो साल दूर है.''

हालांकि धोनी ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में उनका सफर अभी खत्म नहीं हुआ है लेकिन इसका फैसला उनके हाथ में नहीं है.

उन्होंने कहा, ''यह फैसला कुछ और लोगों को करना है कि आप कितने अच्छे हैं.''

एक दिवसीय क्रिकेट मैचों के बारे में धोनी ने कहा, ''हमारी वन-डे टीम बहुत अलग है...जैसे आप किशोर कुमार से शॉन पॉल पर आ गए हैं. यह उस तरह का फर्क है. बड़ा शोर होता है. यह अलग पीढ़ी के खिलाड़ी हैं.

संबंधित समाचार