संन्यास की सलाह देने वालों को सचिन का करारा जवाब

 रविवार, 25 मार्च, 2012 को 13:59 IST तक के समाचार
सचिन

सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि वो अब सिर्फ खेल का मजा लेना चाहते है

अपने आलोचकों को करारा जवाब देते हुए सचिन तेंदुलकर ने रविवार को कहा कि अपने संन्यास पर वो खुद सही समय आने पर फैसला लेंगे.

मुंबई में पत्रकारों से बातचीत करते हुए सचिन ने कहा कि जो उन्हें संन्यास लेने की सलाह दे रहे हैं, वो उन्हें खेल के मैदान पर नहीं लाए हैं.

बातचीत में उन्होंने कहा कि वो इस सोच के समर्थक नहीं है कि खिलाड़ी को करियर की ऊंचाई पर संन्यास लेना चाहिए.

सचिन ने कहा, “मै इस बात से सहमत नहीं हूं कि खिलाड़ी को करियर की ऊंचाई पर खेल से संन्यास लेना चाहिए, मेरे हिसाब से ऐसा करना खुदगर्जी है. मै तब तक खेलना चाहता हूं जब तक देश के लिए खेलने का जज्बा बरकरार है.”

'मैच हारने का दुख'

सचिन ने कहा कि उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ मैच हारकर भारत के एशिया कप से बाहर होने पर दुख है.

सचिन का कहना था, “मैच से पहले टीम की बैठक में मैच जीतने की रणनीति बनती है, रिकॉर्ड तोड़ने की कोई रणनीति नहीं बनती. भारत मैच हारकर एशिया कप में पीछे चला गया इसका मुझे दुख है. उसी दिन मेरा सौवा शतक बना था, लेकिन मैच हार गए तो शतक की खुशी भी कम हो गई.”

"मै इस बात से सहमत नहीं हूं कि खिलाड़ी को करियर की ऊंचाई पर खेल से संन्यास लेना चाहिए, मेरे हिसाब से ऐसा करना खुदगर्जी है. मै तब तक खेलना चाहता हूं जब तक देश के लिए खेलने का जज्बा बरकरार है."

सचिन तेंदुलकर

सचिन ने कहा कि एशिया कप शुरू होने से पहले लोग कह रहे थे बांग्लादेश से ज्यादा दूसरी टीमों पर ध्यान देने की जरूरत है लेकिन वो गलत थे.

उन्होंने कहा, “बांग्लादेश ने टूर्नामेंट में बेहतरीन प्रदर्शन किया है. जितने भी मैच बांग्लादेश ने खेले सभी में उन्होंने अच्छे खेल का जज्बा दिखाया.”

एक पत्रकार के सवाल पर सचिन ने कहा कि सर डॉन ब्रैडमैन का उन्हें वर्ल्ड क्रिकेट टीम में शामिल करना उनके लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है.

सचिन ने कहा, “सर डॉन ब्रैडमैन ने मुझे अपने वर्ल्ड क्रिकेट टीम में जगह दी यही मेरे लिए सबसे बड़ी बात थी. इसी को मै अपनी सबसे बड़ी तारीफ मानता हूं.”

टेस्ट क्रिकेट

सचिन

एशिया कप में बांग्लादेश के खिलाफ खेलते हुए सचिन ने अपना सौवा शतक लगाया था.

टेस्ट क्रिकेट के महत्व पर बात करते हुए सचिन तेंदुलकर ने कहा कि क्रिकेट के इस संस्करण को बढ़ावा दिए जाने की जरूरत है.

तेंदुलकर ने कहा, “ टेस्ट क्रिकेट खेल का वो संस्करण है जिसमें खिलाड़ी की असली क्षमता पता चलती है.”

सचिन ने अपने सभी प्रशंसकों को धन्यवाद दिया और कहा कि वो भगवान के शुक्रगुजार है कि उन्हें इतने सारे लोगों का प्यार मिला.

वो अगला विश्व कप खेल पाएंगे या नहीं इस सवाल का जवाब देते हुए सचिन ने कहा कि वो सिर्फ खेल का मजा लेना चाहते है.

भारतीय टीम में युवा खिलाड़ियों की हौसला अफजाई करते हुए सचिन ने कहा कि देश का भविष्य उज्जवल है.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.