आईपीएल-5 में होगा सच का सामना

इमेज कॉपीरइट AFP

मंगलवार को हुए उदघाटन समारोह के बाद आईपीएल में आज से मैचों का सिलसिला शुरू हो रहा है. इस बार आईपीएल में 10 की बजाए नौ टीमें हिस्सा ले रही हैं.

कोच्चि टस्कर्स केरला की टीम को आईपीएल से हटा दिया गया है, इस कारण मैचों की संख्या कम हुई है. 54 दिनों तक चलने वाली इस प्रतियोगिता में कुल 76 मैच खेले जाएँगे.

प्रतियोगिता चार अप्रैल से 27 मई तक चलेगी. आईपीएल-5 का पहला मैच दो बार आईपीएल की चैम्पियन रही चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस के बीच चेन्नई में खेला जाएगा.

इस बार आईपीएल में सचिन तेंदुलकर कप्तानी करते नजर नहीं आएँगे. उन्होंने मुंबई इंडियंस की कप्तानी छोड़ दी है और हरभजन सिंह अब टीम की कप्तानी करेंगे.

उलटफेर

किन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके मिस्टर भरोसेमंद यानी राहुल द्रविड़ इस सीजन में राजस्थान रॉयल्स की कप्तानी करेंगे.

दूसरी ओर कैंसर से जूझ रहे युवराज सिंह भी इस बार आईपीएल में नजर नहीं आएँगे. इस कारण सौरभ गांगुली सहारा पुणे वॉरियर्स की कप्तानी करेंगे.

सहारा पुणे वॉरियर्स ने ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क को भी साइन किया है, जो वेस्टइंडीज दौरे के बाद आईपीएल खेलेंगे.

दूसरी ओर पिछले आईपीएल में धमाल मचाने वाले क्रिस गेल को रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर की टीम अपने पास रखने में सफल रही है. आईपीएल-4 में गेल घायल खिलाड़ी के स्थान पर टीम में रखे गए थे. अब भी पाकिस्तान के खिलाड़ी आईपीएल से दूर हैं.

इस सत्र में कोलकाता नाइट राइडर्स और किंग्स इलेवन पंजाब की टीमें नए लोगो के साथ मैदान पर उतर रही हैं. जबकि राजस्थान रॉयल्स की टीम की जर्सी बदल गई है. दूसरी ओर पुणे में सहारा ने अपनी टीम के लिए नया स्टेडियम बनाया है.

इसके अलावा मोबाइल कंपनियों से टीमों के करार हुए हैं और इंटरनेट पर हाई रिज्योल्यूशन में मैच दिखाने की व्यवस्था की गई है.

सवाल

इन सबके बावजूद आईपीएल के नए चेयरमैन के रूप में राजीव शुक्ला की सबसे बड़ी मुश्किल होगी आईपीएल की टीवी रेटिंग बढ़ाना.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption राजीव शुक्ला पर आईपीएल की लोकप्रियता बढ़ाने की जिम्मेदारी

पिछले साल आईपीएल में टीवी रेटिंग्स काफी कम रही थी. कारण ये माना जा रहा है कि विश्व कप जीतने के तुरंत बाद आईपीएल शुरू हो गया था और इस कारण टीवी रेटिंग पर असर पड़ा.

वैसे भी अब आईपीएल उस दौर में आ गया है, जब आईपीएल खुद और आईपीएल की टीमें मुनाफे का असली हिसाब-किताब करेंगे.

दरअसल शुरू से ही ये दलील जी रही थी कि पहले पाँच वर्षों तक मुनाफे के मोर्चे पर कुछ ठोस निकल कर नहीं आएगा. इसलिए आईपीएल-5 में टीम के मालिक भी अपना मुनाफा जोड़ेंगे और आयोजक के रूप में आईपीएल को भी अपने गणित का आकलन करना होगा.

अच्छा या बुरा

आईपीएल के शुरू होते ही एक बार फिर ये सवाल उठने लगा है कि आईपीएल राष्ट्रीय टीम के लिए अच्छा है या बुरा. आईपीएल-4 के दौरान ये सवाल खूब उठे थे कि खिलाड़ियों की प्राथमिकता क्या है राष्ट्रीय टीम या क्लब टीम.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सचिन तेंदुलकर मुंबई इंडियंस की कप्तानी नहीं करेंगे

सहवाग समेत कई खिलाड़ी आईपीएल के दौरान घायल हुए थे और बाद में वे घायल होने के कारण राष्ट्रीय टीम का हिस्सा नहीं बन पाए.

पिछले साल विश्व कप जीतने के बाद आईपीएल हुआ और उसके बाद राष्ट्रीय टीम की दुर्गति का सिलसिला भी शुरू हुआ.

भारत की टीम इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में 4-0 से टेस्ट सिरीज हारी. ऑस्ट्रेलिया में त्रिकोणीय सिरीज और बांग्लादेश में हुए एशिया कप के फाइनल में टीम नहीं पहुँच पाई.

टेस्ट रैंकिंग में भारत का शीर्ष स्थान गया, तो वनडे में भी टीम नीचे खिसक गई. हालाँकि आईपीएल के आयोजक इससे इनकार करते हैं कि आईपीएल से राष्ट्रीय टीम के प्रदर्शन पर असर पड़ा है.

आयोजकों का दावा है कि आईपीएल के कारण कई खिलाड़ियों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आने का मौका मिला है. सच्चाई जो भी हो, एक बार फिर आईपीएल के कारण क्रिकेट के मैदान पर धूम-धड़ाका तो देखने को मिलेगा ही, सवाल भी उठते रहेंगे.

संबंधित समाचार