फाइनल में फेडरर और मरे आमने-सामने

एंडी मरे इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption एंडी मरे ने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया

विंबलडन 2012 के पुरूषों के फाइनल में रोजर फेडरर का मुक़ाबला ब्रिटेन के एंडी मरे से होगा.

शुक्रवार को खेले गए दूसरे सेमीफाइनल में एंडी मरे ने फ़्रांस के जो विल्फ़्रेड सोंगा को 6-3, 6-4, 3-6, 7-5 से हराया जबकि पहले सेमीफाइनल में स्वीट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने सर्बिया के नोवाक जोकोविच को 6-3, 3-6, 6-4, 6-3 से हरा दिया.

1938 के बाद ये पहला मौक़ा है जब ब्रिटेन का कोई खिलाड़ी विंबलडन के फाइनल में पहुंचा है.

एंडी मरे ने पहले दोनों सेट आसानी से जीत लिए लेकिन सोंगा ने तीसरे सेट में मरे को मात दे दी. चौथे सेट में दोनों के बीच संघर्षपूर्ण मुक़ाबला हुआ लेकिन एंडी मरे ने आख़िरकार बाज़ी मार ली और 7-5 से सेट जीत कर फाइनल में जगह बना ली.

इससे पहले पहले सेमीफाइनल में छह बार के विंबलडन चैम्पियन और दुनिया के नंबर तीन खिलाड़ी स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने मंत्रमुग्ध कर देने वाले टेनिस का प्रदर्शन करते हुए रिकॉर्ड आठवीं बार विंबलडन के फाइनल में जगह बनाई है.

लंदन में हुए सेमी फाइनल में उन्होंने दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच को 6-3, 3-6, 6-4 और 6-3 से हरा दिया.

चार सेटों के मैच में फेडरर ने पहला सेट 6-3 से जीता. पहला सेट 24 मिनट तक चला और छठे गेम में उन्होंने जोकोविच की सर्विस ब्रेक की.

विंबलडन में फेडरर का कमाल

लेकिन दूसरे सेट में जोकोविच ने शानदार वापसी की और एक समय वे 3-0 से आगे थे. फेडरर ने कोशिश तो की, लेकिन वे दूसरा सेट 6-3 से हार गए.

शानदार सर्विस

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption फेडरर ने शानदार सर्विस की

तीसरा सेट फेडरर के नाम रहा और उन्होंने अपनी शानदार सर्विस से सबका दिल जीत लिया. उन्होंने तीसरा सेट 6-4 से जीता.

चौथा सेट पूरी तरह एकतरफा रहा और फेडरर ने अपने टेनिस कौशल का बेहतरीन प्रदर्शन किया. पूरे मैच में अपनी शानदार सर्विस से लोगों को मंत्रमुग्ध करने वाले फेडरर ने चौथे सेट में 6-3 से जीत हासिल की और मैच अपने नाम किया.

फेडरर का मैच देखने के लिए क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और पॉप सिंगर काइली मिनोग भी मौजूद थीं.

अगर रविवार को होने वाले फाइनल में फेडरर जीते, तो वे पीट सम्प्रास के सात विंबलडन खिताब की बराबरी कर लेंगे. साथ ही ये जीत उन्हें नंबर वन बना देगी और ये उनका 17वाँ ग्रैंड स्लैम खिताब होगा.

मीडिया में इस मैच को विंबलडन फाइनल से पहले का फाइनल माना जा रहा था. स्पेन के रफाएल नडाल के बाहर हो जाने के बाद इन दोनों को खिताब का बड़ा दावेदार माना जा रहा था.