सिर्फ धोनी ने नहीं जितवाया विश्व कप: सहवाग

सहवाग और धोनी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption विश्व कप के फाइनल में सहवाग नहीं चल पाए थे

भारत के विस्फोटक बल्लेबाज माने जाने वाले वीरेंदर सहवाग ने कहा है कि सिर्फ महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी के कारण ही भारत ने विश्व कप क्रिकेट नहीं जीता था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक नोएडा में सबा करीम-जेनेसिस प्रो-क्रिकेट सेंटर के उदघाटन समारोह पर पत्रकारों से बात करते हुए सहवाग ने कहा कि भारत ने अच्छी टीम की बदौलत 2011 का विश्व कप जीता था.

ये पूछे जाने पर कि क्या धोनी के कारण भारत ने 2007 में ट्वेन्टी-20 विश्व कप और 2011 का विश्व कप जीता था, सहवाग ने कहा, "धोनी को एक मजबूत टीम मिली थी. जब आपको एक मजबूत टीम मिलती है, आपके लिए अच्छा प्रदर्शन करना आसान हो जाता है. जैसा एक समय ऑस्ट्रेलियाई टीम के साथ था. हम विश्व कप इसलिए जीते क्योंकि हमारी टीम अच्छी थी और टीम को धोनी के नेतृत्व का भी सहारा मिला."

सहवाग ने कहा कि श्रीलंका में एक दिवसीय सिरीज के दौरान टीम को सचिन तेंदुलकर की कमी खलेगी, लेकिन किस सिरीज में उन्हें खेलना है और किसमें नहीं, ये चुनना उनका अधिकार है.

कमी

सहवाग ने कहा, "मैं ही नहीं पूरा देश सचिन की कमी महसूस करता है, जब वे नहीं खेलते. लेकिन हमें ये भी समझना चाहिए कि वे अब 39 साल के हो गए हैं और उन्हें इसकी अनुमति होनी चाहिए वे चुनें कि उन्हें किस सिरीज में खेलना है और किसमें नहीं. वे न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सिरीज के लिए जरूर उपलब्ध रहेंगे."

उन्होंने कहा कि उन्हें अब फिटनेस की कोई समस्या नहीं है और वे 21 जुलाई से शुरू हो रही श्रीलंका के खिलाफ सिरीज के लिए पूरी तरह तैयार हैं.

सहवाग ने कहा, "मैंने आईपीएल के करीब-करीब हर मैच में हिस्सा लिया. वहाँ कोई फिटनेस की समस्या नहीं थी. श्रीलंका के खिलाफ एक दिवसीय सिरीज से वहीं होने वाले टी-20 विश्व कप की तैयारी में भी मदद मिलेगी."

सहवाग ने उन आशंकाओं को खारिज किया कि टेस्ट क्रिकेट का भविष्य खतरे में है. पिछले दिनों राहुल द्रविड़ ने अगले 10 साल में टेस्ट क्रिकेट के भविष्य पर आशंका जताई थी.

लेकिन सहवाग ने उनसे अलग राय जताई और कहा कि हर युवा क्रिकेट टेस्ट क्रिकेट जरूर खेलना चाहता है और यही चाहता है कि वो टेस्ट क्रिकेट में सफल हो.

संबंधित समाचार