लिएंडर के लिए भूपति और सानिया की बेरुखी !

वेस्नीना और लिएंडर पेस इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption वेस्नीना और लिएंडर पेस मिश्रित युगल के फाइनल में हार गए

भारतीय टेनिस सितारों के आपसी संबंध मधुर नहीं हैं ये पिछले दिनों हुई खींचतान के बाद कोई दबी-छिपी बात नहीं रह गई है, पर इन्हीं में से कोई खिलाड़ी खिताबी जंग में हो और साथी खिलाड़ी हौसलाफजाई की जगह चुप्पी साध लें तो लगता है कि लगभग तीन हफ्तों बाद ये आपस में एक टीम के तौर पर कैसे सामने आएँगे.

मौका था विंबलडन के फाइनल का. लिएंडर पेस अपनी रूसी जोड़ीदार एलीना वेस्नीना के साथ मिश्रित युगल के खिताब के लिए अमरीकी माइक ब्रायन और लीजा रेमंड की जोड़ी के खिलाफ सेंटर कोर्ट पर उतरे.

इसके कुछ ही देर पहले रॉजर फेडरर ने एक रोमांचक मैच में ब्रितानी एंडी मरे को हराकर सातवीं बार विंबलडन का खिताब अपने नाम किया था.

टेनिस स्टार महेश भूपति, रोहन बोपन्ना और सानिया मिर्जा उस मैच के दौरान ट्विटर पर सक्रिय दिखे और फेडरर का गुणगान भी हुआ मगर उसके बाद लिएंडर के मैच के दौरान या उससे पहले इन खिलाड़ियों का कोई ट्वीट लिएंडर के लिए नहीं आया.

ट्विटर के इस पैमाने से ये अंदाजा तो नहीं लगाया जा सकता कि वे मैच देख रहे थे या नहीं मगर ये साफ था कि उन्होंने न तो मैच से पहले लिएंडर को शुभकामनाएँ देनी जरूरी समझीं और न ही मैच के दौरान कोई सक्रियता दिखी.

फेडरर के फैन

विंबलडन में लिएंडर के साथ खेलने से मना करने वाले भूपति और बोपन्ना एक टीम के रूप में ओलंपिक जा रहे हैं जबकि सानिया मिर्जा को लिएंडर के साथ ही मिश्रित युगल में ओलंपिक में खेलना है.

लिएंडर के साथ ओलंपिक में होंगे विष्णु वर्द्धन और वो जरूर लिएंडर के मैच में दिखाई पड़े. इतना ही नहीं लिएंडर के साथ कई मिश्रित युगल खिताब जीत चुकीं महिला टेनिस की महान खिलाड़ी अमरीकी मार्टिना नवरातिलोवा भी लिएंडर के मैच में उनका उत्साहवर्द्धन कर रही थीं.

इमेज कॉपीरइट AFPGetty Images
Image caption सानिया और भूपति की जोड़ी विंबलडन के दूसरे ही दौर में हारकर बाहर हो गई

इस मैच से पहले खत्म हुए पुरुष एकल मैच को लेकर महेश भूपति ने ट्वीट किया, "बेहतरीन टेनिस, मरे शायद ही इससे बेहतर खेल सकते हैं! फेड ने अपने जादू से रास्ता निकाल लिया है, अब अगर मरे ने जल्दी वापसी नहीं की तो उनके लिए पर्दा गिर सकता है."

इसके बाद जब मैच खत्म हुआ तो भूपति का दिल एंडी मरे के लिए भी पसीजा. उन्होंने लिखा, "वास्तव में उम्मीद करता हूँ कि एंडी एक दिन विंबलडन जीतेंगे. आज उन्हें सिर्फ रॉजर ही हरा सकते थे. मगर हारकर भी उन्होंने अँगरेजों को आज गर्व से रुलाया."

दूसरी तरफ ओलंपिक में उनके साझीदार होने जा रहे रोहन बोपन्ना ने मैच के दौरान ट्वीट किया, "फेडरर ने पिछले दो अंक लेकर जो मरे की सर्विस तोड़ी और सेट जीता है वो बेहतरीन टेनिस है..."

फिर मैच जीतने पर बोपन्ना का ट्वीट आया, "फिर दुनिया का नंबर एक खिलाड़ी बनने और अपने ग्रैंड स्लैम की संख्या 17 पहुँचाने पर रॉजर फेडरर को बधाई. निश्चित ही जीनियस."

उन्होंने भी साथी महेश भूपति की तरह ही एंडी मरे की तारीफ़ अगले ट्वीट में की, "एंडी मरे क्या खिलाड़ी है, उसे हमारा सलाम. निश्चित ही वो एक बेहद मेहनती खिलाड़ी हैं. उनकी हार पर बुरा लगा है."

सानिया भी

महेश भूपति और रोहन बोपन्ना की जोड़ी एक साथ विंबलडन में उतरी थी जहाँ उन्हें दूसरे ही दौर में सीधे सेटों में हार का सामना करना पड़ा. दूसरी तरफ भूपति ओलंपिक में भी सानिया मिर्जा के साथ जाना चाहते थे मगर लिएंडर को विष्णु वर्धन के साथ जो़ड़ी बनाने को कहा गया था इसलिए उन्हें मिश्रित युगल में सानिया के साथ खेलने का मौका दिया गया है.

यही भूपति और सानिया मिर्जा की जोड़ी इस विंबलडन में दूसरे ही दौर में हारकर बाहर हो गई.

मिर्जा ने भी मैच खत्म होने के बाद ट्वीट किया, "पहली बार मैच के बाद का किसी का बयान सुनकर मेरी आँखों में आँसू आए हैं.. मगर इसमें कोई शक नहीं कि रॉजर फेडरर एक जीनियस हैं."

वैसे लिएंडर की रूसी साझीदार वेस्नीना को भी सानिया और भूपति दोनों ही बखूबी जानते हैं क्योंकि सानिया उनके साथ पिछले साल फ्रेंच ओपन के फाइनल तक गई थीं और भूपति पिछले विंबलडन के फाइनल तक. मगर इस बार दोनों उनके लिए भी चुप ही रहे.

लिएंडर और वेस्नीना की जोड़ी को आखिर में ब्रायन और रेमंड की जोड़ी से 6-3, 5-7, 6-4 से हार का सामना करना पड़ा और तब भी ट्विटर पर ये खिलाड़ी शांत थे.

भारतीय टेनिस में युगल स्पर्धाओं से ही ओलंपिक में लोगों की उम्मीद रहती है मगर ओलंपिक से कुछ ही हफ्तों पहले इस तरह टीम में मनमुटाव का फिर से सामने आना लोगों की उस उम्मीद पर फिर पानी फेर रहा है.

संबंधित समाचार