अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा: ब्रेट-ली

ब्रेट-ली
Image caption ब्रेट-ली को मौजूदा क्रिकेट की दुनिया बेहतरीन तेज़ गेंदबाज़ों में से एक माना जाता है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी गेंदबाज़ी से बल्लेबाज़ों की छक्के छुड़ाने वाले ऑस्ट्रेलिया के तेज़ गेंदबाज़ ब्रेट-ली ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की है.

अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए ब्रेट-ली ने लिखा है, ''ये आधिकारिक है कि मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले रहा हूं. मैं आप सभी के प्यार, सम्मान और साथ का आभारी हूं. ये 13 साल मेरे जीवन के बेहतरीन साल रहे हैं.''

अपने 13 साल के अंतरराष्ट्रीय करियर में ब्रेट-ली को कई बार गंभीर चोटों का सामना करना पड़ा है.

पैंतिस साल के ब्रेट-ली वर्ष 2010 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं. पिछले कुछ समय से वे अपने पैरों में पिंडलियों की चोट से ग्रसित थे.

शुक्रवार को अपने संन्यास की घोषणा करते हुए ब्रेट-ली ने कहा कि अब उनका शरीर और दिमाग इस खेल से जुड़ी जटिलताओं को सहने में असमर्थ है.

उन्होंने आगे कहा कि, पिछले दिनों पिंडलियों में आयी मरोड़ के कारण वे ब्रिटेन अपने एक दिवसीय ब्रिटेन दौरे में नहीं जा पाए जिसके बाद उन्हें लगा कि अब शायद उनके संन्यास लेने का वक्त आ गया है.

मन की आवाज़

ब्रेट-ली के अनुसार, '' आज सुबह जब मैं सोकर उठा तो मुझे लगा कि मैं इसके लिए तैयार हुं. हालांकि मेरी योजना थी कि मैं सितंबर महीने में श्रीलंका में आयोजित होने वाले टी-20 अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के बाद खेलना छोड़ुं.''

उन्होंने आगे कहा, ''मेरी ये निजी राय है कि जब आप एक टीम में काम करते हैं तो आपको शारीरिक और मानसिक स्तर पर अपनी शत-प्रतिशत प्रतिबद्धता देना चाहिए. और पिछले कुछ महीनों के अपने प्रदर्शन को देखने के बाद मुझे नहीं लगता कि अब मेरे भीतर ऐसी इच्छा बाकी रह गई है.''

ब्रेट-ली के अनुसार वे इंडियन प्रीमियर लीग और ऑस्ट्रेलियन बिग-बैश लीग के अंतर्गत 20-20 क्रिकेट में हिस्सा लेते रहेंगे.

ब्रेट-ली ने अपने 13 साल के लंबे क्रिकेट इतिहास में 76 टेस्ट मैचों में 30.81 की औसत से 310 विकेट लिए हैं और 221 एकदिवसीय मैचों में 23.36 की औसत से 380 विकेट लिए हैं.

ब्रेट-ली को इन सालों में कई तरह की शारीरिक परेशानियों का सामना पड़ा है. इनमें टांगों में कई तरह की चोट, कोहनी की तकलीफ और अपेंडिक्स की समस्या भी शामिल है.

'असाधारण रिकॉर्ड'

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष जेम्स सुथरलैंड ने ब्रेट-ली के क्रिकेट करियर को याद करते हुए कहा , "ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में ब्रेट-ली के योगदान को एक ऐसे खिलाड़ी के रुप में किया जाएगा जो युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत थे.''

सुथरलैंड के अनुसार, ''विकेट लेने वाले खिलाड़ी के तौर पर उनके रिकॉर्ड तो असाधारण हैं ही, लेकिन कई गंभीर चोटों के बाद भी उनका दोबारा मैदान में वापसी करना भी काफी आकर्षक रहा है.''

ब्रेट-ली भारत में भी काफी लोकप्रिय थे. उन्होंने यहां एक वीडियो एल्बम के लिए गाना भी गाया था, जिसके बोल 'यू आर द वन फॉर मी' था और ये काफी लोकप्रिय भी हुआ था. इसके बाद ही उन्होंने एक हिंदी फिल्म 'विक्ट्री' में भी अभिनय किया था.

ब्रेट-ली ने स्पष्ट रुप से कहा है कि, ''हालांकि मैंने अपने क्रिकेट करियर का पूरा आनंद लिया है लेकिन मैं लंबे समय तक घर से बाहर रहने के कारण परेशान भी रहा हूं. मैंने अपने शानदार करियर के एक-एक पल का आनंद लिया है, लेकिन अब मैं अपने जीवन के दूसरे चरण में पहुंच गया हुं.''

वो आगे कहते हैं, ''मैं अपनी छुट्टियां घर पर रहकर बिताना चाहता हूं. मैं वहां रहकर मछलियां पकड़ना चाहता हुं या फिर अगले कुछ महीने के लिए सिर्फ घर पर रहकर आराम करना चाहता हूं.''

संबंधित समाचार