ली के खिलाफ खेलना सुखदायी: तेंदुलकर

ब्रेट ली इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ब्रेट ली ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास की घोषणा की

जब आस्ट्रेलिया के तेज़ गेंदबाज़ ब्रेट ली ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की तो क्रिकेट के दिग्गजों की प्रतिक्रियाओं का तांता लग गया.

जाहिर है 160.8 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गेंद फेंकने वाले ब्रेट ली जैसे खिलाड़ी हर दिन क्रिकेट की दुनिया में नहीं आते.

भारतीय खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर ने कहा कि ब्रेट ली जैसे गेंदबा़ज को खेलना हमेशा ही खुशी देता था.

ट्विटर पर तेंदुलकर ने लिखा,"तुम्हारे खिलाफ खेलना हमेशा ही सुखदायी रहा है बिंगा..एक सफल करियर के लिए मुबारक और भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाएँ.."

ली ने भी इस ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा- "हाँ दोस्त, सफर बहुत अच्छा रहा. पिच पर मुश्किलें खड़ी करने के लिए शुक्रिया. आपने मुझे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए प्रेरित किया है."

युवराज दुखी

केवल तेंदुलकर ही नहीं, युवराज सिंह ने भी ब्रेट ली को बधाई दी और उनकी तारीफ में लिखा.

"एक ऐसे व्यक्ति जिन्होंने हमेशा दिल से खेला है. मैच जिताने वाले चैंपियन, विश्व स्तरीय खिलाड़ी, एक प्रिय दोस्त और एक बेहद अच्छे इंसान. ब्रेट ली के रिटायरमेंट की खबर से में दुखी हूँ."

उन्होंने क्रिकेट से जुड़ी याद करते हुए लिखा, मेरा सबसे बेहतरीन लम्हा था 2004 में भारत और आस्ट्रेलिया के बीच चल पर्थ में चल रही सीरिज़. जहां बिंगा 155 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद फेंक रहे थे..

ब्रेट ली ने युवराज को धन्यवाद लिखा और कहा कि वे उम्मीद करते हैं कि युवराज की सेहत में सुधार हो रहा है.

ब्रेट ली 35 साल के हैं लेकिन उन्होंने पहले ही टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया है.

ज्यादातर तेज गेंदबाजों की तरह ब्रेट ली जिन्हें लोग "मुस्कुराता हुआ हमलावर" कहते हैं, उन्हें भी चोटों से गुजरना पड़ा.

लेकिन जानकार कहते हैं कि उनकी चोट ही उनके संन्यास का कारण नहीं है बल्कि जिस तरह से क्रिकेट उनके देश में खेला जा रहा था, उससे वे काफी निराश थे.

अब वे केवल टी-20 लीग में ही हिस्सा लेंगे लेकिन "मुस्कुराते हुए हमलावर", दुनिया के सबसे तेज गेंदबाज़ो में से एक, ब्रेट ली हमेशा ही अपने खेल के लिए याद रखे जाऐंगे.

संबंधित समाचार