ओलंपिक दिन-3 हिट / मिस

मिस

बैडमिंटन के मिक्स्ड और डबल्स मुकाबलों में मेडल की अच्छी दावेदार मानीं जा रही ज्वाला गुट्टा ने कोर्ट और फिर कोर्ट के बाहर अपने व्यवहार के कारण काफी सुर्खियाँ बटोरी हैं.

कोर्ट पर तो उनका प्रदर्शन बेकार रहा ही, उनका व्यवहार भी अच्छा नहीं था. मैच के दौरान पहला गेम हार चुकीं ज्वाला एक बार अंपायर से भिड़ गईं और फिर काफी समय तक कोर्ट पर अपने गुस्से का इजहार करती रहीं.

नतीजा ये हुआ कि लगातार प्वाइंट्स हारकर वे मैच गँवा बैठीं. मैच के बाद आम तौर पर सभी खिलाड़ी मीडिया से बात करते हैं और अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति की ओर से नियुक्त कर्मचारी उन्हें मीडिया बॉक्स में ले आते हैं.

लेकिन मैच हारने के बाद ज्वाला ने उन्हें भी झिड़क दिया. मैच के दौरान वी दीजू के साथ उनका व्यवहार चर्चा में रहा. अगर ज्वाला का यही हाल रहा तो उनसे बहुत उम्मीद नहीं की जा सकती.

ये सही है कि हार को पचा पाना आसान नहीं होता. लेकिन अनुभवी खिलाड़ी वही होते हैं, जो हार में भी अपना संयम नहीं गँवाते और संतुलन कायम रखते हैं.

शिव थापा हारे तो झल्लाते हुए मीडिया से भागे. दीपिका कुमारी टीम इवेंट में हारीं, तो हाथ झटक के चलती बनीं और ज्वाला ने जो किया, वो तो किया ही.

इस मामले में भारतीय खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों से सीख लेने की जरूरत है.

जब बड़ा से बड़ा खिलाड़ी हार के बाद संयम बनाकर चलता है.

लगता है कि ब्रिटेन की मैराथन धावक पाउला रेडक्लिफ का ओलंपिक में मेडल जीतने का सपना अधूरा ही रह जाएगा.

लंदन ओलंपिक में कुछ करने की चाहत लेकर आने वाली रेडक्लिफ को उस समय तगड़ा झटका लगा, जब पैर की चोट के कारण उन्हें प्रतियोगिता से हटना पड़ा.

ये अजीब बात है कि पाउला रेडक्लिफ के नाम मैराथन का विश्व रिकॉर्ड है, लेकिन ये महिला ओलंपिक में पदक जीतने को तरसती रह गई है.

एक बयान जारी कर उन्होंने इस पर खेद जताया है.

उजबेकिस्तान की आर्टिस्टिक जिम्नास्ट लुजिया गैलियोलीना को फिलहाल ओलंपिक से बाहर कर दिया गया है.

कारण ड्रग टेस्ट में उनका फेल हो जाना है.

अभी उनका बी सैंपल टेस्ट होना है, जिसके बाद ही उन पर आखिरी फैसला होगा.

इस बार अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति बड़े पैमाने पर डोप टेस्ट करा रहा है.

ओलंपिक के कई मैचों के दौरान स्टेडियम की खाली सीट लोगों का ध्यान खींच रही है.

लेकिन आयोजन समिति का कहना है कि ये सीटें ओलंपिक परिवार के लिए सुरक्षित रखी गई हैं.

इनमें देशों के ओलंपिक फेडरेशन के अधिकारी शामिल हैं.

लेकिन खाली सीटें यही बता रही हैं कि अधिकारियों को भी इतनी सीटें नहीं चाहिए.

हिट

साइना नेहवाल ने बेहतरीन अंदाज में अपने विजय अभियान की शुरुआत की है. पहले दौर में उन्हें आसान प्रतिद्वंद्वी से सामना करना पड़ा.

लेकिन इन सबके बावजूद साइना ने जिस आक्रामक अंदाज में खेल खेला, वो शानदार था. कोर्ट पर उनका मूवमेंट देखने लायक था.

इन सबसे ऊपर साइना को इसका अंदाजा भी है कि ये अभी प्रतियोगिता की शुरुआत है और ज्यादा खुश होने की जरूरत नहीं.

यही बात कही साइना ने मैच के बाद बातचीत में. समय के साथ-साथ साइना मैच्योर हुई हैं, ये भारत के लिए और भी शुभ संकेत है.

ब्रिटेन की लिजी आर्मिटस्टेड ने अपने देश ब्रिटेन के लिए पहला मेडल हासिल किया है.

महिलाओं की रोड रेस में आर्मिटस्टेड ने रजत पदक हासिल किया.

आर्मिटस्टेड नीदरलैंड्स की मेरियान वोस से पिछड़ गई, लेकिन अपने देश के लिए पहला मेडल हासिल करना भी कोई कम बात नहीं होती.

ब्रिटेन का लंदन ओलंपिक में खाता खुल गया है. अब देखना है कि ब्रिटेन पदक तालिका में कहाँ तक जाता है.

तीरंदाजी की महिला टीम स्पर्धा में भारत की चुनौती तो टूट गई, लेकिन दक्षिण कोरिया ने रोमांचक मैच में चीन को पछाड़कर जब स्वर्ण पदक जीता, तो कोरियाई समर्थकों का उत्साह देखते ही बनता था.

रोमांचक फाइनल में दक्षिण कोरिया ने सिर्फ एक अंक के अंतर से जीत हासिल की. स्कोर रहा 210-209.

वर्ष 1988 में तीरंदाजी की टीम स्पर्धा शुरू होने के बाद लगातार सातवीं बार दक्षिण कोरिया ने स्वर्ण पदक जीता है.

इस आधार पर देखिए तो जश्न तो बनता है.

ओलंपिक फुटबॉल मुकाबले में जब सेनेगल की टीम उरुग्वे के खिलाफ मैदान में उतरी तो शायद ही किसी ने सोचा होगा कि इस मैच में बड़ा उलटफेर होने वाला है.

उरुग्वे की टीम 2010 के विश्व कप के सेमी फाइनल में पहुँची थी.

लेकिन इस मैच में उसकी एक न चली. सेनेगल के स्टार रहे मूसा कोनाटे, जिन्होंने दोनों हाफ में गोल मारे.

इस तरह उरुग्वे की टीम को लगा है करारा झटका.

अमरीका की तैराक डाना वूल्मर का सपना था. सपना ओलंपिक स्वर्ण जीतना और वो भी विश्व रिकॉर्ड के साथ.

लंदन ओलंपिक की बटरफ्लाई तैराकी में उनका सपना पूरा भी हुआ और समय लगा 56 सेकेंड से भी कम.

डाना ने 100 मीटर बटरफ्लाई तैराकी 55.98 सेकेंड में पूरी की और दर्शकों को रोमांचित कर दिया.

डाना पानी में तैरती नहीं भागती नजर आ रही थी और फिर उनका दो-दो सपना एक साथ पूरा हुआ.

संबंधित समाचार