चीनी सनसनी शिवेन को क्लीन चिट

शिवेन इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ब्रिटिश ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष लॉर्ड कोलिन मोएनिहन ने साफ किया कि शिवेन ने अपने सभी डोप टेस्ट पास किए है. वह ‘क्लीन’ हैं.

ब्रिटिश ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष लॉर्ड कोलिन मोएनिहन ने मंगलवार को अपनी तेजी से लंदन ओलंपिक में सनसनी फैलाने वाली चीन की 16 साल की तैराक ये शिवेन को क्लीन चिट दे दी.

मोएनिहन ने कहा, “ शिवेन ने अपने सभी डोप टेस्ट पास किए है. वह ‘क्लीन’ हैं. इसलिए वह अपनी प्रतिभा का सम्मान पाने की पूरी हकदार हैं. ”

उन्होंने मीडिया से कहा, “ वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) की खेलों पर पूरी नजर है. शिवेन भी वाडा के कार्यक्रम से गुजर चुकी हैं और उनमें किसी तरह को कोई दोष नहीं है. यह पूरा विवाद यहीं खत्म होता है.”

शिवेन ने 400 मीटर मेडले में अपने सबसे बेहतरीन प्रदर्शन में करीब 5 सेकंड का और सुधार किया है. आखिरी 50 मीटर में वह अमरीकी पुरुष टीम के स्टार तैराक रेयान लोकी से भी तेज थीं.

जॉन ने किए सवाल

नामी अमरीकी कोच जॉन लियोनार्ड ने यह कह कर विवाद और बहस शुरु कर दी कि शिवेन का समय अविश्वसनीय है. उन्होंने सीधे शब्दों में तो नहीं बल्कि इशारे में कहा कि इस असाधारण प्रदर्शन के पीछे डोपिंग हो सकती है.

लियोनार्ड ने ब्रिटिश अखबार गार्जियन से कहा, “ मैं इस प्रदर्शन पर सवालिया निशान लगाऊंगा क्योंकि पहले भी ऐसे असाधारण रिकॉर्ड देखने को मिले हैं लेकिन बाद में पता लगा कि वे डोपिंग का नतीजा थे. ”

ये शिवेन की गति देख बीबीसी कमेंटेटर क्लेयर बाल्डिंग भी दंग रह गईं और उनके मुँह से निकल पड़ा – मार्क, कोई यदि अचानक इतनी तेजी से तैर जाए तो फिर पता नहीं कितने सवाल पूछे जाएँगे?

विशेषज्ञ और पूर्व ब्रिटिश ओलंपियन मार्क फोस्टर से पूछा गया ये सवाल संवेदनशील था क्योंकि पहले चीन के कुछ तैराक ड्रग स्कैंडल में फँस चुके हैं, पिछले महीने एक महिला विश्व चैंपियन पोज़िटिव भी पाई गई थीं.

मगर मार्क ने बात संभालते हुए कहा कि ये शिवेन 16 साल की हैं. उनकी उम्र को देखा जाए तो उन्होंने जो किया वो बिल्कुल संभव है.

संबंधित समाचार