ओलंपिक: हॉकी में भारत की लगातार दूसरी हार

भारत इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption न्यूजीलैंड से हार भारतीय हॉकी टीम की लंदन ओलंपिक में मुश्किलें बढ़ गई हैं

लंदन ओलंपिक में बुधवार को भारतीय हॉकी टीम अपना दूसरा मैच भी हार गई है. ग्रुप बी में न्यूजीलैंड ने भारत को 1-3 से हरा दिया

इससे पहले भारत हॉलैंड के खिलाफ अपना पहला मैच 2-3 से हार गया था.

पहले हॉफ में पहले बढ़त हासिल करने के बावजूद 3-1 से पिछड़े भारतीयों को दूसरे हॉफ में कई मौके मिले. एक मौके पर लगातार तीन पेनाल्टी कॉर्नर मिलने का भी कोई फायदा नहीं हुआ.

जबकि न्यूजीलैंड कई बार अपनी बढ़त को और बढ़ाने की स्थिति में था लेकिन गोलकीपर भरत छेत्री गजब का बचाव कर गए.

इससे पहले मैच शुरु होते ही तुषार खांडेकर ने 32 सेकंड में ही बेहतरीन मौका बनाया. लेकिन बॉल गोलकीपर के पैड पर लगी. बढ़त तो नहीं मिली लेकिन भारतीय पेनाल्टी कॉर्नर लेने में कामयाब रहे.

संदीप का गोल

इस पर संदीप सिंह पॉवरफुल ड्रैग फ्लिक गोलकीपर की दाईं ओर नेट में थी.

साइमन चाइल्ड के पास पांचवें मिनट में डिफ्लेक्शन से मैच को बराबरी पर लाने का जबरदस्त मौका था लेकिन बॉल गोलपोस्ट के करीब से निकल गई.

इसके बाद साइमन और हिल्टन ब्लेयर ने भारतीय डिफेंस को परेशान किया. इसका लाभ भी उन्हें मिला. 13वें मिनट में शिवेंदर सिंह के पैर से लगने के कारण न्यूजीलैंड को दूसरा पेनाल्टी कॉर्नर मिला.

एंड्रयू हेवर्ड का पुश गोलकीपर भरत छेत्री और डिफेंडर के बीच से निकला और न्यूजीलैंड मैच को बराबरी पर ले आया.

पेनाल्टी स्ट्रोक

24वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर के दौरान गलत ढंग से गेंद रोकने के कारण अंपाय़र ने न्यूजीलैंड को स्ट्रोक दे दिया जिसे फिलिप बुर्रोव ने बेहद आसानी से दूसरे गोल में बदल दिया.

इसके बाद भारत को गोल के ठीक सामने कुछ मौके मिले जो बेकार गए. इनमें से शिवेंदर का एक जबरदस्त शॉट भी था जो गोलकीपर ने बेहतरीन ढंग से रोक लिया.

पहला हॉफ खत्म के छह मिनट पहले जब निकोलस विल्सन के टीम के लिए तीसरा गोल किया तो उस समय चार डिफेंडर लाचार खड़े देख रहे थे.

दूसरे हॉफ की शुरुआत में भी न्यूजीलैंड ने कुछ अच्छे मौके बनाए. इसका दबाव भारतीय खिला़ड़ियों पर भी दिखा.

खतरनाक खेलने के कारण सरदार सिंह को पीला कार्ड दिया गया जबकि इससे पहले न्यूजीलैंड के स्टीवन एडुअर्ड को अंपायर हरा कार्ड दिखा चुके थे.

संबंधित समाचार