'ब्लेड रनर' पिस्टोरियस ने ओलंपिक इतिहास रचा

 शनिवार, 4 अगस्त, 2012 को 21:40 IST तक के समाचार
पिस्टोरियस

पिस्टोरियस ने ओलंपिक इतिहास रचा

'ब्लेड रनर' के नाम से मशहूर दक्षिण अफ्रीकी एथलीट ऑस्कर पिस्टोरियस ने कृत्रिम अंगो के साथ ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेकर इतिहास रचा है.

वे पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने कृत्रिम अंगों से दौड़ते हुए ओलंपिक खेलों में हिस्सा लिया.

ऑस्कर पिस्टोरियस पुरुषों की 400 मीटर दौड़ की हीट्स में दूसरे स्थान पर रहे और वे अब अगले चरण में भाग ले पाएँगे.

"इस दौड़ में पिस्टोरियस अच्छा दौड़े. उनके लिए ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने का सफर मुश्किल रहा है. दक्षिण अफ्रीकी फेडेरेशन चाहती थी कि वे पिछले साल का अपना क्वालिफाइंग टाइम दोहराएँ और अब उन्हें अपने देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलेगा"

बीबीसी के एथलेटिक्स कॉमेंटेटर स्टीव क्रैम

बीबीसी के एथलेटिक्स कॉमेंटेटर स्टीव क्रैम के अनुसार, "इस दौड़ में पिस्टोरियस अच्छा दौड़े. उनके लिए ओलंपिक के लिए क्वालिफाई करने का सफर मुश्किल रहा है. दक्षिण अफ्रीकी फेडेरेशन चाहती थी कि वे पिछले साल का अपना क्वालिफाइंग टाइम दोहराएँ और अब उन्हें अपने देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलेगा."

चार बार पैरा-ओलंपिक चैंपियन रहे 25 वर्षीय पिस्टोरियस जब बच्चे थे, तभी उनकी दोनों टांगें काटनी पड़ी थीं.

उन्होंने शनिवार को 400 मीटर की हीट में 45.44 सेकेंड का टाइम दिखाया और अब वे रविवार को सेमी-फाइनल में भाग लेंगे.

इस दौड़ के बाद पिस्टोरियस का कहना था, "मुझे जिन भी लोगों ने समर्थन दिया, मेरा परिवार...मैं सभी का शुक्रिया अदा करता हूँ. ये बहुत ही अदभुत अनुभव था. मै अपनी टीम को धन्यवाद देना चाहता हूँ. उन्हें मुझपर भरोसा है...मुझे उनपर, हम नौ साल से साथ हैं."

गौरतलब है कि पुरुषों के 400 मीटर के डिफेंडिंग चेंपियन अमरीका के लाशॉन मेरिट घायल हो गए और उन्हें प्रतियोगिता से बाहर होना पड़ा.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.