ओलंपिक दिन 10- हिट/मिस

हिट

मैरीकॉम इमेज कॉपीरइट BBC World Service

भारतीय महिला मुक्केबाज मैरीकॉम से उम्मीद तो सभी को थी. लेकिन क्वालिफाइंग राउंड में कड़े मुकाबले के कारण थोड़े सवाल भी उठने लगे थे. पर लंदन ओलंपिक के अपने पहले ही मैच में मैरीकॉम ने रुख स्पष्ट कर दिया है.

ओलंपिक में वे किसी तरह का जोखिम नहीं उठाना चाहती. मैरीकॉम ने शानदार जीत हासिल की और भारत की ओर से एक और मेडल की उम्मीद भी बनाए रखी है.

मगर ओलंपिक में उनका पहला मुक़ाबला उसी दिन था जिस दिन उनके जुड़वाँ बच्चों का जन्मदिन था. जीत के बाद मैरीकॉम की आँखों में आँसू थे कि वह जन्मदिन के दिन बच्चों के साथ नहीं हो सकीं पर ख़ुश भी थीं कि उस दिन उन्होंने ओलंपिक में पहली जीत हासिल की.

ब्रिटेन के एंडी मरे को इस साल विंबलडन के फाइनल में स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने मात दे दी थी.

लेकिन ओलंपिक फाइनल में फेडरर की एक नहीं चली.

घरेलू दर्शकों के सामने पूरे फॉर्म में नजर आ रहे एंडी मरे ने फेडरर को बुरी तरह हराया.

सीधे सेटों में जीत दर्ज करते हुए मरे ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया.

महिला सिंगल्स टेनिस में स्वर्ण पदक जीतने वाली अमरीका की सरीना विलियम्स ने एक और स्वर्ण पदक अपने नाम किया है.

महिलाओं के डबल्स मुकाबले में उन्होंने अपनी बहन वीनस विलियम्स के साथ मिलकर खिताब जीता.

उन्होंने फाइनल में चेक गणराज्य की आंद्रिया हलावचकोवा और लूसी हराडेका को 6-4, 6-4 से मात दी.

वर्ष 2008 के सिडनी ओलंपिक में भी दोनों बहनों ने महिला टेनिस के डबल्स का खिताब जीता था.

ओलंपिक में बैडमिंटन के सभी पाँच खिताबों पर चीन ने कब्जा कर लिया है.

रविवार को बैडमिंटन के पुरुष डबल्स में भी चीन ने स्वर्ण पदक हासिल किया.

चीन के काई युन और फू हाइफेंग की जोड़ी ने डेनमार्क की जोड़ी को हराया.

इससे पहले चीन ने महिला सिंगल्स, पुरुष सिंगल्स, मिक्स्ड डबल्स और महिला डबल्स का खिताब भी अपने नाम किया था.

इथियोपिया की टिकी जिलाना ने महिलाओं की मैराथन दौड़ में रिकॉर्ड समय के साथ जीत दर्ज की है.

जिलाना ने दो घंटे 23 मिनट और सात सेकेंड का समय लेकर ओलंपिक का नया रिकॉर्ड बनाया.

कीनिया की प्रिस्का जेप्टू को रजत पदक मिला.

जबकि रूस की तात्याना पेत्रोवा आर्खिपोवा को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा.

मिस

इमेज कॉपीरइट Reuters

यूसैन बोल्ट के 100 मीटर में फिर से जीतने पर जमैका में जश्न है, तो वहीं दूसरे नंबर पर भी जमैका के योहान ब्लेक रहे हैं.

लेकिन तीसरे खिलाड़ी असफा पॉवेल पीछे छूट गए.

वे ऐसे पीछे छूटे कि लगभग रुक गए और सबसे आखिर में आए.

एक समय उन्हें दुनिया का सबसे तेज धावक माना जाता था. लेकिन लगता है कि बोल्ट और ब्लेक की आंधी में पॉवेल बहुत पीछे छूट गए हैं.

अब सवाल ये उठने लगे हैं कि क्या भारतीय हॉकी टीम लंदन ओलंपिक में कोई मैच जीत पाएगी या नहीं. अभी तक भारतीय हॉकी टीम ने चार मैच खेले हैं और चारों में उसे मुँह की खानी पड़ी है.

रविवार को दक्षिण कोरिया ने उसे 4-1 से मात दी. भारत की टीम पहले ही सेमी फाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी है.

टीम मंगलवार को अपना आखिरी मैच बेल्जियम से खेलेगी. भारत को नीदरलैंड्स ने 3-2 से हराया था, तो न्यूजीलैंड ने 3-1 से.

जर्मनी ने उसे 5-2 से रौंदा तो अब कोरिया के हाथों शर्मनाक हार.

भारतीय हॉकी टीम की दुर्दशा के बाद आरोपों का सिलसिला भी शुरू हो गया है.

टीम के कोच माइकल नॉब्स ने कहा है खिलाड़ियों ने टीम की लुटिया डुबोई है.

सच है नॉब्स साहब, मैदान पर खिलाड़ी ही तो खेलते हैं. लेकिन जब टीम जीतती है तो खिलाड़ियों के साथ-साथ कोच की भी जय-जयकार होती है.

अब टीम हार रही है, तो उसकी जिम्मेदारी भी तो आप भी तो लीजिए.

एंडी मरे ने टेनिस में पुरुष सिंगल्स का खिताब तो जीत लिया.

लेकिन दूसरा गोल्ड जीतने की उनकी ख्वाहिश पूरी नहीं हो पाई.

मिक्स्ड डबल्स के फाइनल में मरे और लॉरा रॉबसन की जोड़ी हार गई.

फाइनल में उन्हें बेलारूस के मैक्स मिर्नी और विक्टोरिया अजारेन्का की जोड़ी ने हरा दिया. उन्हें रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा.

दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी रहे सर्बिया के नोवाक जोकोविच के लिए ओलंपिक अच्छा नहीं रहा है.

सेमी फाइनल में एंडी मरे के हाथों हारने के बाद जोकोविच को उम्मीद थी कि कम से कम कांस्य पदक तो उनके खाते में आ ही सकता है.

लेकिन जोकोविच के नसीब में कांस्य पदक भी नहीं था.

तीसरे स्थान के लिए हुए मैच में अर्जेंटीना के युआन मार्टिन डेल पोत्रो ने उन्हें 7-5 और 6-4 से हरा दिया.

संबंधित समाचार