गोल्डेन पोस्ट बॉक्स - ओलंपिक मसाला

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ब्रिटेन में डाक विभाग – रॉयल मेल - ओलंपिक को एक अनूठे अंदाज़ में मना रहा है.

वो सोना जीतनेवाले हर ब्रिटिश खिलाड़ी के शहर में एक पोस्टबॉक्स का रंग लाल से बदलकर सुनहरा कर दे रहा है. यानी लाल लेटरबॉक्स को गोल्डेन कर दिया जा रहा है.

साथ ही उन खिलाड़ियों के नाम पर अगले ही दिन एक सुनहरा संग्रहणीय डाक टिकट जारी किया जा रहा है.

मगर सबकुछ सही नहीं हो रहा. जैसे ब्रिटेन की ओलंपिक टीम की पोस्टर गर्ल – जेसिका एनिस – की जीत के बाद हुआ.

ब्रिटेन के ओलंपिक खिलाड़ियों में शायद जेसिका एनिस का नाम सबसे अधिक लोकप्रिय था जो ओलंपिक से पहले से ही लोगों की ज़ुबां पर चढ़ा हुआ था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption फिर से रंग दिया गया पोस्टबॉक्स को

और जेसिका ने अपनी इस शोहरत और लोगों की उम्मीदों का सम्मान रखते हुए हेप्टैथलन में स्वर्ण हासिल कर लिया.

इसके बाद उनके शहर शेफ़ील्ड के सिटी सेंटर में डाक विभाग ने एक पोस्टबॉक्स को लाल से सुनहरा बना दिया.

लेकिन कुछ ही दिन बाद किसी सिरफ़िरे ने इसपर ग्राफ़िटी बनाकर इसे बदरंग कर डाला.

इस कृत्य की तत्काल निन्दा हुई और पोस्टबॉक्स को दोबारा पेंट कर दिया गया.

एक स्थानीय नेता ने कहा – ये उपलब्धि से दमकने की घड़ी है और उसमें इस तरह की हरकत शर्म की बात है. लगता है ऐसा करनेवाले लोगों को अपने आप पर ही शर्म आती है.

'सुनहरी' यादें साथ ले गए

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption रंग साथ ले गए प्रशंसक

ओलंपिक में टेनिस के फ़ाइनल में रोजर फ़ेडरर को परास्त कर बेशकीमती स्वर्ण जीता एंडी मरे ने, जो स्कॉटलैंड के रहने वाले हैं.

मगर चैंपियन मरे के शहर में जिस लेटरबॉक्स पर सुनहरा रंग चढ़ाया गया था वो कुछ ही दिन में ग़ायब हो गया.

समझा जा रहा है कि इसके पीछे मरे के प्रशंसक हैं, जिन्होंने इस सुनहरे रंग का कुछ-कुछ कतरा खरोंचकर अपनी सुनहरी यादों के लिए संग्रह कर लिया.

ख़ैर इसे अब दोबारा पेंट किया जा रहा है.

घर कहीं और, रंग कहीं और

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption धोखे में सुनहरा हो गया ये पोस्टबॉक्स

इसी तरह एक साइक्लिस्ट में स्वर्ण जीतनेवाली लॉरा ट्रॉट रहनेवाली हैं कहीं और और रंग दिया गया कहीं और का लेटरबॉक्स.

दरअसल लॉरा का जन्म हुआ था हार्लो शहर में और रॉयल मेल को लगा वो यहीं की हैं. मगर बाद में पता चला कि उनका केवल वहाँ जन्म हुआ, मगर वो रहनेवाली हैं चेस्टनट शहर की.

अब चेस्टनट में एक लेटरबॉक्स को रंगने की बात हो रही है.

मगर हार्लो के काउंसिल ने कहा है, जो हुआ सो हुआ, हमारा गोल्डेन लेटरबॉक्स, गोल्डेन ही रहेगा.

पोल टूटा पोल वॉल्ट में

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption टूटे पोल के टुकड़े थामे क्यूबाई एथलीट

क्यूबा के पोल वोल्ट खिलाड़ी लज़ारो बोर्गेस का सपना तो रिकॉर्ड तोड़ने का रहा होगा, मगर टूट कुछ और गया, उनका पोल!

सबकुछ सही जा रहा था, क्वालिफ़ाइंग दौर के लिए बोर्गेस अपना डंडा लेकर दौड़े, उछले और तभी....डंडा दो फाँक हो गया.

और इसके साथ ही स्टेडियम में हर ओर से एक अफ़सोस भरी सामूहिक आह सुनाई दी.

स्टेडियम में बड़े विशाल टीवी पर्दों पर बार-बार इस दुर्घटना का रीप्ले दिखाया जाता रहा.

मगर भाग्यशाली रहे क्यूबाई एथलीट, कि उन्हें कोई चोट नहीं आई.

वैसे ठीक यही घटना 24 साल पहले भी हुई थी, सोल ओलंपिक में एक ब्रिटिश एथलीट का डंडा भी ऐसे ही टूट गया था.

संबंधित समाचार