वेरी वेरी स्पेशल लक्ष्मण ने क्रिकेट को कहा अलविदा

 शनिवार, 18 अगस्त, 2012 को 17:55 IST तक के समाचार

भारत के दिग्गज क्रिकेट खिलाड़ी वीवीएस लक्ष्मण ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की है. हैदराबाद में की गई एक पत्रकार वार्ता में भावुक लक्ष्मण ने ये घोषणा की.

वेरी वेरी स्पेशल लक्ष्मण के नाम से पहचाने जाने वाले लक्ष्मण ने 16 साल पहले भारत के लिए खेलना शुरु किया था. उसके बाद से लक्ष्मण ने कुल 134 टेस्ट खेले और 8781 रन बनाए. उनके नाम 17 टेस्ट शतक रहे.

लक्ष्मण ने कहा कि किसी भी खिलाड़ी की तरह उनके लिए भी क्रिकेट छोड़ने का फैसला आसान नहीं था. लक्ष्मण ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट छोड़ने के फैसले की जानकारी शनिवार सुबह ही चयनकर्ताओं की दी.

हैदराबाद में हुए एक समारोह में लक्ष्मण ने कहा, "16 साल पहले मैं टीम का हिस्सा बना था. अब सही समय आ गया है कि मैं आगे बढूँ और युवा खिलाड़ियों को मौका दिया जाए. टीम निजी सपनों से कहीं ऊपर होती है. भारत के लिए खेलना एक सपना था और बहुत कम लोगों का ये सपना पूरा होता है."

मीडिया से बातचीत में लक्ष्मण कई बार भावुक नजर आए. उन्होंने कहा, "ये भावनात्मक पल है मेरे लिए. कई संदेश आए मेरे पास. बहुत से लोग चाहते हैं कि मैं खेलता रहूँ. मेरे लिए आसान नहीं था. मेरे माता-पिता ने कहा कि दिल की आवाज सुनो."

बेमिसाल लक्ष्मण

  • लक्ष्मण ने 1996 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला.
  • 2000 में जब ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने 167 रन ठोके तो सबकी नजरों में आ गए
  • 2001 में उन्होंने ईडन गार्ड्स में ताबड़तोड़ 281 रन बनाए – ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ
  • वनडे मैचों में लक्ष्मण ने पहला मैच 1998 में जिम्मबाब्वे के खिलाफ खेला था

भारत के इंग्लैंड दौरे और वहाँ मिली करारी हार के बाद से ये अटकलें लगाई जा रही थीं कि लक्ष्मण को संन्यास ले लेना चाहिए.

सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण- इन चारों खिलाड़ियों को भारतीय टेस्ट क्रिकेट की रीढ़ माना जाता रहा है.

लक्ष्मण ने 1996 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेला. वर्ष 2000 में जब ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने 167 रन ठोके तो लक्ष्मण सबकी नजरों में आ गए. फिर 2001 में उन्होंने ईडन गार्ड्स में ताबड़तोड़ 281 रन बनाए – एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ.

ये पारी उनकी सबसे यादगार पारियों में से एक मानी जाती है. उस समय भारत फॉलो अन कर चुका था लेकिन राहुल द्रविड़ और लक्ष्मण ने मिलकर भारत को जीत दिलाई थी.

वनडे मैचों में लक्ष्मण ने पहला मैच 1998 में जिम्मबाब्वे के खिलाफ खेला था. वनडे मैचों में उन्होंने कुल 2338 रन बनाए . वनडे में उनका टॉप स्कोर था 131 रन.

लक्ष्मण के संन्यास लेने पर बीसीसीआई ने एक बयान में कहा, "बहुत कम बल्लेबाज हैं जो बल्लेबाजी को इतना आसान बना सकते हैं. वे अदुभत खिलाड़ी थे जो दबाव में भी बेहतरीन खेलते थे. मुश्किल हालातों में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जो पारी खेली थी खेलीं उसने भारतीय क्रिकेट को पुख्ता रूप देने में अहम भूमिका निभाई है- उन्होंने 2001 में 281 रन बनाए थे. अगर किसी खिलाड़ी का प्रदर्शन उस समय की सबसे बेहतरीन टीम के खिलाफ प्रदर्शन की कसौटी पर परखना हो तो लक्ष्मण टॉप पर होंगे."

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.