क्या गलत है अगर धोनी तक पहुंचना मुश्किल है?

 गुरुवार, 23 अगस्त, 2012 को 19:08 IST तक के समाचार
धोनी

धोनी वही कप्तान हैं जिनकी कप्तानी में भारत ने टी20 विश्व कप और वनडे वर्ल्ड कप जीता है

हाल ही में सन्यास लेने वाले भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने जब यह कहा कि सभी जानते हैं कि कप्तान महेंद्र सिंह धोनी तक पहुच पाना बहुत कठिन है तो इससे एक विवाद पैदा हो गया है.

एक राय यह है कि कप्तान को हमेशा अपने खिलाड़ियों के लिए उपलब्ध रहना चाहिए. पूर्व कप्तान सौरव गांगुली की भी कुछ ऐसी ही राय है.

लेकिन क्या हम यह भूल रहे हैं कि भारतीय क्रिकेट के कप्तान या फिर किसी सावर्जनिक ओहदे पर बैठे व्यक्ति की भी निजी जिंदगी हो सकती है.

क्या यह जरूरी है कि महेंद्र सिंह धोनी अपने फोन पर आने वाली हर कॉल का जवाब दें चाहे वो किसी भी वक्त हो?

धोनी को इस बात का श्रेय देना होगा कि जब उनसे प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस 'विवाद' पर सवाल किया गया तो उन्होंने माना कि उनसे संपर्क करना वाकई कठिन है.

उन्होंने कहा कि वे अपनी इस आदत को सुधारने का प्रयास भी करते रहे हैं क्योंकि इसे लेकर टीम के कई सदस्यों को शिकायत रहती है.

अलग स्वभाव

धोनी को जानने वाले लोग जानते हैं कि उनका स्वभाव या आदत बाकियों से अलग है.

वे गांगुली की तरह नहीं हैं जो नेटवेस्ट सिरीज जीतने के बाद शायद अपनी कमीज़ उतार सकते हैं.

वो सोशल वेबसाइट ट्विटर पर हैं तो सही और उनके 15 लाख से अधिक प्रशंसक हैं, लेकिन आज तक उन्होंने केवल 135 ट्वीट किए हैं.

वो उन लोगों की तरह नहीं जो हर दिन में अपनी हर हरकत पर टवीट करते हैं.

एक ऐसी जमाने में जब लोग बातें करते नहीं थकते वो उन लोगों में से हैं जो अपनी निजी जिंदगी में भी कुछ समय चाहते हैं.

धोनी वो कप्तान हैं जिनके चेहरे पर उनकी टीम के विश्व कप जीतने पर भी कोई भाव नहीं आते. वो ऐसे खाली बर्तन नहीं जो सबसे अधिक शोर करते हैं. शायद इसलिए उन्होंने लोग 'कैप्टन कूल' भी कहते हैं.

प्रधानमंत्री से तुलना

ट्विटर और फेसबुक पर उनकी तुलना भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से भी की गई है. यह कहा गया है कि दोनों अपनी टीम में सबसे चुप रहने वालों में से हैं.

क्यों हम भूल जाते हैं कि इंट्रोवर्ट या अंतर्मुखी लोग बोलते कम हैं और सुनते अधिक भी हैं और बेहतर भी.

चार्लस डारविन और एलबर्ट आईंसटाइन जैसे सबसे मशहूर लोग बहुत बड़े अंतमुर्खी लोग भी थे. महात्मा गांधी भी अंतर्मुखी लोगों में से गिने जाते रहे हैं.

क्यों हम भूल जाते हैं कि यह वही कप्तान हैं जिनकी कप्तानी में भारत पहले टी20 विश्व कप जीता और वनडे वर्ल्ड कप भी. उन्हीं की कप्तानी में भारत टेस्ट रेंकिंग में भी शीर्ष पर पहुंचा था.

धोनी कितने सफल कप्तान हैं, क्या इस सवाल का मापदंड उनकी आसान उपलब्धता होनी चाहिए या फिर उनका प्रदर्शन?

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.