भारत ने नेहरू कप जीतकर रचा इतिहास

 सोमवार, 3 सितंबर, 2012 को 01:04 IST तक के समाचार

भारत ने कैमरून को हराकर तीसरी बार जीता नेहरू कप खिताब

भारत ने रविवार को नेहरू कप फुटबॉल के फाइनल मुकाबले में कैमरून को हराकर इतिहास रच दिया है. भारत की नेहरू कप में ये लगातार तीसरी जीत है.

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में हुए मुकाबले में भारत ने वरीयता में श्रेष्ठ टीम कैमरून को पैनल्टी शूटआउट में 5-4 से पराजित किया.

भारत की तरफ से सुनील क्षेत्री, रॉबिन सिंह, डेंज़िल फ्रैंको, मेहताब हुसैन और क्लिफोर्ड मिरांडा सभी खिलाड़ियों ने पैनल्टी शूटआउट में गोल किया लेकिन कैमरून के खिलाड़ी थिएरी मेकॉन पैनल्टी को गोल में नहीं बदल सके और इस तरह भारत की टीम 5-4 से फाइनल मुकाबला जीत गई.

रोमांचक मुकाबला

इससे पहले दोनों ही टीमों ने खेल के सामान्य समय में 2-2 गोल कर अंतिम समय तक मुकाबला बराबरी पर रखा था.

भारत के गौरवांगी सिंह ने 19वें मिनट में पहला गोल किया.

लेकिन 29वें मिनट में ही कैमरून के मेकॉन थिएरी ने गोल कर मुकाबला 1-1 से बराबर कर दिया.

कैमरून की तरफ से दूसरा गोल 54वें मिनट में हुआ और फिर 78वें मिनट में कप्तान सुनील क्षेत्री ने पैनल्टी के ज़रिए गोल दागकर मुकाबला फिर से बराबर कर दिया.

पैनल्टी शूटआउट से पहले दोनों ही टीमों ने 2-2 गोल कर मैच बराबरी पर रखा था

इसके बाद बचे हुए समय में दोनों ही टीमें कोई गोल नहीं कर सकीं और मैच 15-15 मिनट के अतिरिक्त समय में चला गया.

अतिरिक्त समय में भी दोनों ही टीमें कोई गोल नहीं कर सकीं और फिर पैनल्टी शूटआउट में भारत ने ये मैच 5-4 से जीत लिया.

प्रशंसकों का समर्थन

पिछले दिनों लगातार हो रही बारिश की वजह से फुलबॉल प्रेमियों ने नेहरू कप से दूरी बनाए रखी थी लेकिन रविवार को बारिश न होने की वजह से क़रीब 25 हज़ार लोग फाइनल मुकाबला देखने जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में पहंचे.

इससे पहले के मैचों में दर्शकों की संख्या इतनी अच्छी नहीं रही थी.

बेहद कोलाहल से भरे फाइनल मुकाबले में दर्शकों ने भारतीय टीम का जोरदार समर्थन किया.

भारत का झंडा लहराकर और तुरही के साथ-साथ ड्रम बजाकर फुलबॉल प्रेमियों ने भारतीय खिलाड़ियों का खूब मनोबल बढ़ाया.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.