कोलकाता टेस्ट: इन्तहा हो गई इंतज़ार की

एलेस्टर कुक
Image caption कुक ने लगातार तीसरे टेस्ट में शतक लगाकर भारतीय गेंदबाज़ों को काफ़ी परेशान किया है

कोलकाता टेस्ट में भी भारतीय गेंदबाज़ों को इंग्लैंड के कप्तान एलेस्टर कुक ने धूल चटा दी और इस तरह लगातार तीसरे टेस्ट में उन्होंने सैकड़ा जड़ दिया.

कुक के इस शतक ने उन्हें इंग्लैंड की ओर से सबसे ज़्यादा टेस्ट शतक जड़ने वाला खिलाड़ी भी बना दिया है. ये कुक का 23वाँ टेस्ट शतक था जो कि केविन पीटरसन, ज्यॉफ़री बॉयकॉट, वैली हैमंड और कॉलिन काउड्रे के 22 शतकों से ज़्यादा हो गया.

इस तरह कोलकाता टेस्ट के दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक इंग्लैंड ने भारत के 316 रनों के जवाब में एक विकेट के नुक़सान पर 216 रन बना लिए हैं.

भारत को एक मात्र सफलता निक कॉम्पटन के विकेट के रूप में मिली. वो विकेट प्रज्ञान ओझा ने लिया जब उन्होंने कॉम्पटन को 57 रनों के निजी स्कोर पर एलबीडब्ल्यू आउट किया.

मगर उससे पहले वह कुक के साथ मिलकर 165 रनों की साझेदारी कर चुके थे. उनके बाद आए जॉनथन ट्रॉट ने कुक का अच्छा साथ दिया और टीम को 216 के स्कोर तक पहुँचा दिया है. कुक 136 रन बनाकर क्रीज़ पर हैं.

धोनी का अर्द्धशतक

इससे पहले भारत ने पहले दिन के स्कोर सात विकेट पर 273 से आगे खेलना शुरू किया तो सबसे पहले ज़हीर ख़ान का विकेट गिरा जब उन्हें मॉन्टी पनेसर ने छह रनों के निजी स्कोर पर एलबीडब्ल्यू आउट किया.

इसके कुछ ही देर बाद इशांत शर्मा बिना खाता खोले ही चलते बने और भारत का स्कोर हो गया 296 रन नौ विकेट पर.

फिर कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और प्रज्ञान ओझा ने कुछ देर विकेट सँभाला और स्कोर को खींच कर किसी तरह 316 तक पहुँचाया. धोनी काफ़ी सँभलकर खेल रहे थे और उन्होंने कई बार जेम्स एंडरसन की गेंदों पर एक रन नहीं लिया जिससे ओझा का विकेट बचाया जा सके.

मगर उन्होंने 48 रनों के निजी स्कोर पर जब चौका लगाकर अपना अर्द्धशतक पूरा किया तो स्टीव फ़िन की अगली ही गेंद पर वह कैच थमा बैठे.

इंग्लैंड की ओर से जेम्स एंडरसन ने तीन और पनेसर ने चार विकेट लिए. फ़िन और स्वॉन को एक-एक विकेट मिले.

भारतीय गेंदबाज़ एक बार फिर पूरी तरह धारहीन नज़र आए. ज़हीर ख़ान और इशांत शर्मा ने इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों को बहुत ज़्यादा परेशान नहीं किया और यही वजह थी कि इंग्लैंड की सलामी जोड़ी ने इतना बड़ा स्कोर खड़ा किया.

भारत ने अहमदाबाद टेस्ट तो जीत था मगर मुंबई टेस्ट हारने के बाद शृंखला 1-1 से बराबर है और सारा दारोमदार अब इसी टेस्ट पर लगा है.

संबंधित समाचार