अब सहवाग का ग़ुस्सा किस काम का !

  • 8 दिसंबर 2012
सहवाग
Image caption सहवाग ने दूसरी पारी में 49 रन बनाए

वीरेंदर सहवाग ने कोलकाता टेस्ट में दुर्गति के लिए भारतीय बल्लेबाज़ों को दोषी ठहराया है. दूसरा टेस्ट हार चुका भारत कोलकाता में भी बड़ी हार का सामना कर रहा है.

चौथे दिन का खेल समाप्त होने तक भारत को सिर्फ़ 32 रनों की बढ़त मिली है और उसके नौ विकेट गिर चुके हैं. मैच के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत में सहवाग ने संयम न दिखाने के लिए बल्लेबाज़ों को जम कर कोसा.

सहवाग ने कहा, "अगर आप इस विकेट पर टिक कर खेलो, तो रन बनाना मुश्किल नहीं है. टेस्ट क्रिकेट में आपको संयम दिखाना पड़ता है. आप कह सकते हैं कि हमने पर्याप्त संयम नहीं दिखाया. संयम काफ़ी अहम था."

सहवाग का कहना था कि अगर भारत पहली पारी में बड़ी स्कोर खड़ा करता, तो स्थिति कुछ और होती.

चिंता

उन्होंने कहा, "इस टेस्ट सिरीज़ और ख़ासकर दो टेस्ट मैचों में हमने ज़्यादा रन नहीं बनाए हैं. अगर हम 500 से ज़्यादा रन बना पाते तो स्थिति कुछ और होती. इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों ने संयम दिखाया और हमसे ज़्यादा रन बनाए. कप्तान कुक और अन्य बल्लेबाज़ों को पूरा श्रेय जाता है."

इंग्लैंड की अच्छी गेंदबाज़ी के बारे में उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि टीम ने अच्छी बल्लेबाज़ी नहीं की. सहवाग ने कहा कि वे बल्लेबाज़ों के प्रदर्शन को लेकर चिंतित हैं.

कोलकाता टेस्ट की स्थिति पर उन्होंने कहा कि वे काफ़ी निराश हैं क्योंकि विकेट ऐसी नहीं है, जिस पर रन नहीं

सहवाग ने भी माना कि कोई चमत्कार ही भारत को इस टेस्ट में बचा सकती है.

उन्होंने कहा, "हम यही उम्मीद करते हैं कि कुछ ऐसा घटित हो कि हम टेस्ट को ड्रॉ कर सके. केवल भगवान ही हमारी मदद कर सकते हैं."

ये पूछे जाने पर कि क्या वे इससे शर्मिंदा हैं कि दूसरी पारी में ऑफ़ स्पिनर आर अश्विन ने भारत की ओर से सर्वाधिक रन बनाए हैं, सहवाग ने कहा कि इसमें शर्मिंदा होने वाली बात नहीं है, वे भी टीम का हिस्सा हैं और वे बल्लेबाज़ी करना जानते हैं.

संबंधित समाचार