भारतीय स्पिन गेंदबाज़ी बेदम: प्रसन्ना

Image caption धोनी ने कोलकाता टेस्ट के लिए स्पिन गेंदबाज़ी की मदद वाली पिच की मांग की थी.

भारतीय क्रिकेट टीम के अहम हथियारों में स्पिन गेंदबाज़ी भी शामिल रही है.

लेकिन कोलकाता टेस्ट में भारत का ये हथियार ना सिर्फ बेअसर रहा बल्कि सवाल उठ खड़े हुए कि क्या असल में भारतीय स्पिन गेंदबाज़ों में विकेट लेने की क्षमता है?

भारत के स्पिन गेंदबाज़ रहे इरापल्ली प्रसन्ना तो यही कह रहे हैं.

बीबीसी से खास बातचीत में इरापल्ली प्रसन्ना ने कहा, “मौजूदा समय में भारत की स्पिन गेंदबाज़ी में कोई दम नहीं है. भारतीय गेंदबाज़ों में आक्रामकता की बेहद कमी है, जिसका फ़ायदा इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों ने बखूबी उठाया.”

प्रसन्ना जहां भारतीय गेंदबाज़ो के प्रदर्शन से निराश हैं वहीं इंग्लैंड की स्पिन गेंदबाज़ी की खुलकर तारीफ करते हैं.

प्रसन्ना कहते हैं, “मोंटी पनेसर और ग्राहम स्वॉन ने गेंद की दिशा और लंबाई पर पूरा नियत्रंण रखा है. उन्होंने भारतीय बल्लेबाज़ो को टाईमिंग से खेलने का मौक़ा ही नहीं दिया और ना ही स्ट्रोक लगाने के लिए जगह दी.”

प्रसन्ना के अनुसार भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने मौजूदा श्रंखला के लिए अपने स्पिनरों पर उम्मीदों से ज़्यादा भरोसा किया और इंग्लैंड को बेहद कमतर माना, लेकिन यहीं दांव उल्टा पड गया.

उलटा पड़ा दांव

प्रसन्ना कहते हैं कि चार मैचों की श्रृंखला में भाग ले रही इंग्लैंड क्रिकेट टीम ने मुंबई और कोलकातामें जिस तरह का खेल दिखाया उसे देखकर लगता है कि वो अपने ही घर में, अपने ही विकेट पर खेल रहे हैं.

रन देकर विकेट खरीदने और अपनी फ़्लाईटेड गेंदबाज़ी के लिए आज भी मिसाल माने जाने वाले प्रसन्ना फ़्लाईट को किसी भी स्पिनर का हथियार मानते हैं.

भारतीय स्पिन गेंदबाज़ों की कमियां गिनाते हुए प्रसन्ना कहते हैं,“फ़्लाईट में दो बातें बेहद अहम हैं. एक तो स्पिन और दूसरा उसे छोडना. यह दोनों ही अश्विन और ओझा में नही हैं, वो केवल गेंद को उछाल दे रहे है, इनकी उछाल में स्पिन नहीं है. इसी का लाभ इंग्लैंड के बल्लेबाज़ उठा रहे है.”

भारतीय कप्तान धोनी ने अहमदाबाद में पहला टेस्ट मैच जीतने के बाद टर्निंग विकेट की ऐसी ज़िद पकड़ी जिसके पूरा होते ही इंग्लैंड के हाथो जैसे अलादीन का चिराग़ आ गया.

मोंटी पानेसर और ग्रैहम स्वॉन की घूमती और उछाल लेती गेंदो पर अचानक भारतीय बल्लेबाज़ नौसिखिए नज़र आने लगे और बरसों के बाद स्पिन की कला का जादू सबके सर चढ़कर बोलने लगा.

मंबई टेस्ट मैच जीतने के बाद अब कोलकाता टेस्ट भी इंग्लैंड ने जीत लिया है. वैसे इसमें इस बार मोंटी पानेसर के साथ-साथ तेज़ गेंदबाज़ एंडरसन का भी योगदान है.

यानी अपने ही घर में भारत पर गेंदबाज़ो को दोहरी मार.

संबंधित समाचार