आईपीएल में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ नहीं : राजीव शुक्ला

Image caption भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट रिश्तों की वकालत होती रहती है.

आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला का मानना है कि वो आईपीएल में पाकिस्तान की भागीदारी के ख़िलाफ़ नहीं है.

बीबीसी से ख़ास बातचीत के दौरान राजीव शुक्ला ने कहा, “आईपीएल में हम पाकिस्तान के कोच लेते हैं, पाकिस्तान के अंपायर लेते है और सभी जगह पाकिस्तान के कमेंटेटर्स लेते हैं. तो इससे साबित होता है कि हम आईपीएल में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ बिलकुल नहीं है."

हालांकि आईपीएल में पाकिस्तानी खिलाड़ियों के खेलने के सवाल पर राजीव शुक्ला ने स्पष्ट तौर पर कुछ नहीं बताया.

उन्होंने कहा, "जहां तक पाकिस्तान के खिलाड़ियों की बात है तो उसका फ़ैसला हम सबसे बातचीत किए बिना नहीं ले सकते. उसके लिए सरकार और फ्रेंचायज़ी से बात करनी पड़ेगी.”

राजीव शुक्ला ने कहा कि सरकार ने पाकिस्तान की श्रंखला को हरी झंड़ी दिखाने में कोई देर नहीं की, वो कहते हैं, “हाल ही में संपन्न हुए पाकिस्तानी टीम के इस दौरे को लेकर भी सरकार की ओर से कोई पाबंदी या रोक नहीं थी. मुझे याद है कि जब इस दौरे को लेकर मैंने तत्कालीन गृहमंत्री पी चिदंबरम से ख़ुद बातचीत की तो उन्हें 30 सेकेंड भी नहीं लगे इस दौरे को मंजूरी देने में. सिर्फ़ कुछ आयोजन स्थलों को लेकर बातचीत हुई.”

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियाँदाद के पहले भारत आने और बाद में ना आने के सवाल पर राजीव शुक्ला का कहना था कि इस मुद्दे को मीडिया ने ही उछाला और उनके ना आने का निर्णय भी उनका ही था, और उसके साथ ही सारी बातें अपने आप समाप्त हो गई.

भारत पाकिस्तान मैच के दौरान तनाव की बात चलने पर राजीव शुक्ला का कहना है कि जब दोनों देश जल्दी-जल्दी खेलेंगे, रोज़ जीतेंगे और रोज़ हारेंगे तो यह जो प्रतिष्ठा का सवाल बन जाता है यह समाप्त हो जाएगा.

पाक दौर के लिए तैयार हम

इसके लिए लगातार सीरीज़ का होना ज़रूरी है. राजीव ने इस बात पर भी ज़ोर दिया इसके लिए हमने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों से बातचीत की कि हमारी नीति है कि हम थर्ड वेन्यू यानी किसी तीसरी जगह जाकर मैच नहीं खेलते.

राजीव शुक्ला के अनुसार, "हम एक दूसरे की ज़मीन पर ही खेलेंगे. आप न्यूट्रल वेन्यू का प्रस्ताव ना लाएँ. आप अपने यहॉ सुरक्षा या सिक्योरिटी का मुद्दा जल्द से जल्द सुलझाएँ, ताकि विश्व की टीमों का दौरा वहाँ शुरू हो, बाकी क्रिकेट बोर्ड को इस बात से संतुष्ट करना है कि खिलाड़ियों पर आतंकवादी या किसी भी अन्य तरह का हमला नहीं होगा. एक बार पाकिस्तान सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम करे, उसकी गारंटी दे, तो बाक़ी देश वहाँ का दौरा कर सकते हैं."

बातचीत के दौरान ही राजीव शुक्ला ने यह भी बताया कि पाकिस्तान के इस दौरे के लिए अलग से कोई समय तय नहीं था, इसे सिर्फ़ पाकिस्तान के लिए निकाला गया, क्योंकि इंग्लैंड की टीम को नए साल की छुट्टी मनाने वापस जाना था.

राजीव कहते हैं कि हम भी चाहते थे कि पाकिस्तान से सीरीज़ हो ताकि किसी को यह महसूस ना हो कि पाकिस्तान को लोगों ने बिल्कुल छोड़ दिया है.

राजीव शुक्ला चाहते हैं कि यह रिश्ते आगे भी बढ़ें, "इसलिए हमने इससे पहले दक्षिण अफ्रीक़ा में खेली गई चैंम्पियंस लीग में भी पाकिस्तान की सियालकोट की टीम को खिलाया जो दोनों देशों के क्रिकेट रिश्ते सुधारने की शुरूआत थी."

संबंधित समाचार