'फिक्स था वर्ल्ड कप फ़ुटबॉल क्वालीफाइंग मैच'

यूरोपोल निदेशक रॉब वेनराइट
Image caption यूरोपोल निदेशक रॉब वेनराइट का कहना है कि इसमें यूरोप के अपराध गिरोह भी शामिल हैं.

यूरोपीय संघ की पुलिस जांच एजेंसी यूरोपोल ने कहा है कि उसे इस बात के सबूत मिले हैं कि यूरोप, अफ़्रीक़ा, एशिया और लातिनी अमरीका के फुटबॉल मैचों में बड़े पैमाने पर मैच फ़िक्सिंग हो रही है.

यूरोपोल ने लगभग 15 मुल्कों की पुलिस की साझा जांच में ये बात सामने आई है कि विश्व भर में हुए कम से कम 700 फुटबॉल मैच जो फ़िक्स किए गए थे.

संस्था के मुताबिक़ उन्होंने यूरोप में हुए तक़रीबन 400, और अफ़्रीक़ा, एशिया और लातिनी अमरीका को मिलाकर 300 मैचों की पहचान है कि जो इस दायरे में आते हैं.

वर्ल्ड कप

इनमें वर्ल्ड कप फुटबॉल और यूरोपियन चैंपियनशिप के क्वालीफाइंग मैच भी शामिल हैं.

जांचकर्ताओं का कहना है कि मैच फ़िक्सिंग का ये धंधा सिंगापुर में मौजूद अपराधी गिरोह चलाता है. उनके मुताबिक़ इस गिरोह ने फ़िक्स मैचों पर सट्टेबाज़ी करवाकर लाखों डॉलर कमाए हैं.

यूरोपोल के निदेशक रॉब वेनराइट ने कहा है, "ये काम एशिया स्थित एक गिरोह का है जो यूरोप के अपराधियों के साथ मिलकर ये धंधा चला रहा है."

संस्था का कहना है कि इस काम में कम से कम 400 लोगों का हाथ है, जिसमें खिलाड़ी से लेकर मैच और क्लब अधिकारी और अपराधी शामिल हैं.

जांच एजेंसी का कहना है कि मैच फ़िक्सिंग के लिए खिलाड़ियों और अधिकारियों को एक लाख तीस हज़ार डॉलर की रिश्वत मुहैया करवाई गई थी.

लंबी जांच

यूरोपोल ने पिछले 18 महीनों में इस मामले की जांच की और अबतक 50 लोगों की गिरफ़्तारी हो चुकी है.

मैच फ़िक्सिंग के सबसे अधिक मामले जर्मनी में पाए गए जहां 14 लोगों को 39-39 साल की कै़द की सज़ा सुनाई गई है.

संस्था ने 400 से अधिक ऐसे लोगों की पहचान की थी जो शक के दायरे में थे.

संबंधित समाचार