वेस्टइंडीज़ के सामने 260 रनों का लक्ष्य

Image caption फ़ाइनल में दोनों टीमों के बीच दिलचस्प मुक़ाबला होने की उम्मीद हे

मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम में आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के 260 रनों का पीछा करते हुए वेस्टइंडीज़ ने कुल 111 रन पर अपनी छह विकेट गंवा दिए हैं.

इससे पहले टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम को लैनिंग और हैंन्स ने अच्छी शुरुआत दी.

52 के योग पर कंगारुओं को पहला झटका लगा जब लय में दिख रहीं लैनिंग 31रन बनाकर आउट हो गई

उसके बाद रैचल हेंस और जैस कैमरन ने अर्द्धशतकीय पारियां खेलीं. हेंस ने 52 और कैमरन ने 75 रन बनाए. इन दोनों बल्लेबाज़ों ने दूसरे विकेट के लिए 64 रन की अहम साझेदारी की.

एक समय ऑस्ट्रेलिया तीन विकेट पर 181 रन बनाकर अच्छी स्थिति में था लेकिन यहां कैमरन (75), स्थेलेकर और कोएटे के एक के बाद एक आउट होने से पारी लड़खड़ा गई और टीम सात विकेट पर 209 के योग पर पहुंच गई।

अंतिम ओवर्स में जूडी फील्ड (36) और एलियस पैरी(25) ने उपयोगी पारियां खेल टीम को 259 तक पहुंचा दिया. वेस्टइंडीज के लिए क्विनटाइन ने तीन विकेट लिए.

वर्ष 1973 में शुरू हुए महिला विश्व कप का यह दसवां संस्करण है और भारत इसकी तीसरी बार मेज़बानी कर रहा है.

ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज ने टूर्नामेंट में कठिन परिस्थितियों में शानदार प्रदर्शन करते हुए ख़िताबी मुक़ाबले का रास्ता तय किया है.

ऑस्ट्रेलिया ने जहां एक ओर टूर्नामेंट में अपने अंतिम सुपर लीग मुकाबले में हार के अलावा सभी मैचों में जीते हैं, वहीं वेस्टीइंडीज ने शानदार प्रदर्शन करते हुए ऑस्ट्रेलिया को हराकर फाइनल में अपनी जगह पक्की की.

नया इतिहास

वेस्टइंडीज का लक्ष्य पहली बार ख़िताब जीतकर नया इतिहास रचने का होगा. ऑस्ट्रेलिया का पलड़ा भले ही भारी है लेकिन पिछले मैच में जीत हासिल करने के बाद कैरेबियाई टीम का हौसला बुलंद है जिसका फ़ायदा उसे मिल सकता है.

इससे पहले, कैरेबियाई महिला खिलाड़ियों ने सुपर-6 मैचों के सभी तीन प्रमुख मुक़ाबले जीतने से पहले सुपर-6 में अपनी जगह बनाने के लिए केवल ग्रुप स्तर पर एक ही मुक़ाबला जीता था.

वेस्टइंडीज ने अपने सुपर-6 मुक़ाबले में ऑस्ट्रेलिया पर जीत दर्ज कर पिछली चैंपियन इंग्लैंड और न्यूजीलैंड को टूर्नामेंट से बाहर का रास्ता दिखाया था.

ऑस्ट्रेलिया ने पांच बार महिला विश्व कप का ख़िताब अपने नाम किया है. मेजबान भारत की टीम पहले ही दौर में बाहर हो चुकी थी.

संबंधित समाचार