फिर हॉकी का बंटाधार होते-होते बचा

indian hockey team
Image caption भारतीय हॉकी टीम ने पोच वार सुल्तान अज़लान शाह टूर्नामेंट का ख़िताब जीता है.

मंगलवार को अचानक भारतीय हॉकी टीम चर्चा का केंद्र बन गई, जब यह ख़बर आई कि पांच बार के चैंम्पियन भारत को अगले महीने होने वाले सुल्तान अज़लान शाह कप हॉकी टूर्नामेंट में भाग लेने से वंचित होना पड़ेगा क्योंकि भारतीय खेल प्राधिकरण ने टीम की यात्रा का खर्च उठाने से इनकार कर दिया है.

अब यह बात अलग है कि चारों तरफ से दबाव पड़ने और खेल मंत्रालय के दखल के बाद ये मसला सुलझ गया है. हॉकी इंडिया के अनुसार भारतीय खेल प्राधिकरण ने यह कहकर टीम का हवाई किराया देने से इनकार कर दिया कि ये बजट से अधिक है.

भारतीय हॉकी टीम के लिए सुल्तान अज़लान शाह कप हॉकी टूर्नामेंट की अहमियत का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि भारत ने यह टूर्नामेंट 1985, 1991, 1995, 2009 और 2010 में जीता है, जबकि पिछली बार भारत ने कांस्य पदक जीता था.

भारत ने इस बार इस टूर्नामेंट के लिए कप्तानी का भार युवा दानिश मुज्तबा के कंधो पर डाला है और अनुभवी सरदार सिंह को आराम दिया है. इसके अलावा आगामी जूनियर विश्व कप को ध्यान में रखते हुए टीम में ज़्यादातर जूनियर खिलाड़ियों को जगह दी गई है.

खिलाड़ियो के मनोबल पर पडे़गा असर

अब भले ही यह मामला सुलझ गया है लेकिन इस पूरे मसले पर पूर्व ओलंपियन और हॉकी इंडिया के सरकारी पर्यवेक्षक हरबिंदर सिंह का कहना है कि जो भी हुआ वह ठीक नहीं हुआ और इसका असर सीधे-सीधे खिलाड़ियो के मनोबल पर पडे़गा.

इसके साथ ही हरबिंदर सिंह का यह भी कहना है कि एक तरफ तो भारत में हॉकी इंडिया लीग के मुक़ाबले खेले गए जिसमें दुनिया भर के हॉकी खिलाड़ियो को अच्छा पैसा भी मिला. इसके अलावा बीते रविवार को ही हॉकी वर्ल्ड लीग राउंड दो के मुकाबले समाप्त हुए जिसका मेजंबान भारत था, वहीं इस घटना से पूरी दुनिया में ये संदेश जाता कि भारत के पास अपने हॉकी खिलाड़ियो को विदेश में भेजने के लिए पैसा नही है.

वैसे भारतीय हॉकी टीम का तो मामला जैसे तैसे सुलझ गया लेकिन ख़बर यह भी है कि बिलकुल ऐसी ही समस्या का सामना पाकिस्तान भी कर रहा है क्योंकि उनकी हॉकी फेडरेशन के पास पैसा नहीं है और इसी वजह से पाकिस्तान की टीम टूर्नामेंट नहीं खेल सकेगी.

इसे लेकर भी हरबिंदर सिंह कहते हैं, "यह एशियाई हॉकी के लिए अच्छा नहीं है और अगर पाकिस्तान की टीम सुल्तान अज़लान शाह कप हॉकी टूर्नामेंट नहीं खेलती तो इसका टूर्नामेंट के स्तर पर भी असर पडे़गा."

संबंधित समाचार