जब एक फ़ुटबॉल मैच में हुए 149 गोल

Image caption एक फ़ुटबॉल मैच में बन चुके हैं 149 गोल.

किसी भी फ़ुटबॉल मैच में ज़्यादा से ज़्यादा कितने गोल बन सकते हैं. दस, पंद्रह या बीस. ज़्यादा से ज्यादा तीस.

हाल ही में ब्रिटेन के वीमेंस वेल्स प्रीमियर लीग में कैस्ले लेडीज़ फ़ुटबॉल क्लब को कार्डिफ़ मेट्रो यूनिवर्सिटी की टीम ने 43-0 से धो डाला.

इस मैच के नतीजे से आपको थोड़ा आश्चर्य तो ज़रूर हुआ होगा. लेकिन बात इतनी ही नहीं है, फ़ुटबॉल के मैदान में एक ऐसा भी मैच हुआ है जब एक टीम के ख़िलाफ़ 149 गोल हो गए.

एक नजर कुछ ऐसे ही मुक़ाबलों पर जब फ़ुटबॉल के मैदान पर गोलों की बरसात हुई.

1. मालाग्से क्लब एसओई बनाम एएस अडीमा, 149-0

इस स्कोरलाइन पर आपको यकीन नहीं हुआ ना. लेकिन ये हकीकत है कि इस फ़ुटबॉल मैच में 149 गोल हुए थे.

ये मुक़ाबला खेला गया 31 अक्तूबर, 2002 को. मेडागास्कर में खेले गए इस मुकाबले को देखने वाले तब भौंचक्के रह गए जब उन्होंने देखा कि मालाग्से क्लब एसओई के खिलाड़ी ख़ुद अपनी ही टीम के ख़िलाफ़ गोल करते जा रहे हैं.

एएस अडीमा क्लब के खिलाड़ियों ने कोई गोल नहीं किया लेकिन वे फ़ुटबॉल इतिहास में सबसे बड़े अंतर से मैच जीत गए.

दरअसल मालाग्से क्लब के खिलाड़ियों ने अपने प्रबंधन के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने के लिए फ़ुटबॉल मैच को हथियार बनाया और अपनी टीम के ख़िलाफ़ ही गोल पर गोल बनाते चले गए.

जब अंतिम सीटी बजी तब स्कोर लाइन पर 149-0 अंकित हो चुका था. बाद में टीम प्रबंधन ने टीम मैनेजर को तीन साल के निलंबित कर दिया.

इसके अलावा मामिसोआ राजाफिंडराकोतो, मैनिट्रानिरिनाना एंड्रीआनियानिया, निकोलस राकोतोअरिमाना, डोमिनिक रोकोतोनंद्रासाना को 2002 सीजन के अंत तक के लिए निलंबित कर दिया गया.

2. कैस्ले लेडीज़ फ़ुटबॉल क्लब बनाम कार्डिफ़ मेट्रो यूनिवर्सिटी, 43-0

ब्रिटेन के वीमेंस वेल्स प्रीमियर लीग में कैस्ले लेडीज़ फ़ुटबॉल क्लब को कार्डिफ़ मेट्रो यूनिवर्सिटी की टीम ने 43-0 से धो डाला.

इस फ़ुटबॉल मैच को ऐसा मुकाबला मान सकते हैं जिसमें दोनों टीमें जीतने के लिए मैदान में खेल रही थी, लेकिन दूसरी टीम के खिलाड़ी बस दर्शक की भूमिका भी निभाते रहे.

इस नजरिए से देखें तो प्रतिस्पर्धी फ़ुटबॉल मुकाबले में ये सबसे बड़ी जीत कहलाएगी, भले रिकॉर्ड बुक में इसे दूसरे नंबर पर रहना होगा.

इस मुकाबले में कार्डिफ़ मेट्रो यूनिवर्सिटी की महिला फ़ुटबॉलरों ने औसतन दो मिनट के अंतराल पर गोल दागे.

3. अरबोराथ बनाम बोन अकॉर्ड, 36-0

ये मैच खेला गया 12 सितंबर, 1885 को. स्कॉटिश कप में बना ये रिकॉर्ड दशकों तक कायम रहा.

इस मैच में आरबोराथ के फारवर्ड जॉन पेट्री ने एक के बाद एक करते हुए 13 गोल दाग दिए थे.

करीब 127 साल बाद भी किसी एक खिलाड़ी के एक मैच में बनाया गया सबसे ज़्यादा गोलों का रिकॉर्ड अटूट है.

4. डूंडी हार्प बनाम अब्रेडीन रोवर्स, 35-0

ये मैच भी अपने आप में बेहद दिलचस्प रहा. 12 सितंबर, 1885 को डूंडी हार्प ने अब्रेडीन रोवर्स को 35-0 से हराया था.

रेफ़री के मुताबिक डूंडी हार्प ने 37 गोल किए थे लेकिन डूंडी के खिलाड़ियों का कहना था कि उन्होंने महज 35 गोल दागे हैं.

डूंडी टीम की ईमानदारी के चलते स्कोर लाइन 35-0 पर रहा वरना स्कोरलाइन 37-0 होता.

5. ऑस्ट्रेलिया बनाम आमरीका सामोआ, 31-0

ऑस्ट्रेलिया फ़ीफा की रैंकिंग में 20वें नंबर पर है जबकि अमरीका समोआ की फ़ीफा रैंकिग है 202.

अप्रैल, 2001 में खेले गए एक इंटरनेशनल मैच में ऑस्ट्रेलिया ने अमरीका समोआ को 31-0 से हराया.

इंटरनेशनल मुकाबलों में ये सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड है.

वैसे इस मैच में कई और रिकॉर्ड बने. ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आर्की थॉम्पसन ने एक मैच में 13 गोल करने के जॉन पैट्री के विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की. जबकि दूसरे स्ट्राइकर डेविड जेड्रिलिक ने भी 8 गोल दागे.

संबंधित समाचार