भज्जी ने श्रीसंत को चाँटा मारा था या नहीं?

श्रीसंत
Image caption श्रीसंत ने ट्विटर पर अपनी भावनाएँ व्यक्त की हैं

पहले आईपीएल मैच के दौरान हरभजन सिंह और श्रीसंत के बीच हुई झड़प को लेकर नया विवाद शुरू हो गया है.

दरअसल पाँच साल बाद इस विवाद को हवा उस समय मिली, जब गुरुवार को आईपीएल-6 के एक मैच के दौरान कोलकाता नाइट राइडर्स के कप्तान गौतम गंभीर और रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर के कप्तान विराट कोहली में भिडंत हो गई

इसके बाद मीडिया में हरभजन सिंह और श्रीसंत के बीच हुई झड़प को दोबारा सुर्ख़ियाँ मिलने लगीं.

श्रीसंत ने ट्विटर पर अपनी भड़ास निकाली, भज्जी पर गंभीर आरोप लगाए और कहा कि उन्हें चाँटा मारा ही नहीं गया था.

लेकिन उस चर्चित 'स्लैपगेट' की जाँच करने वाले रिटायर्ड जस्टिस सुधीर नानावटी ने श्रीसंत के दावे की हवा निकालते हुए ये बयान दे डाला कि हरभजन ने श्रीसंत को चाँटा मारा था.

बीसीसीआई ने उस घटना की जाँच के लिए नानावटी को नियुक्त किया था, जिन्होंने अब बयान दिया है कि दरअसल दूसरी बार भी भज्जी श्रीसंत को चाँटा मारने जा रहे थे, लेकिन गार्ड्स ने उन्हें रोक लिया था.

जस्टिस सुधीर नानावटी का ये भी कहना है कि भज्जी ने भी जाँच के दौरान ये बात स्वीकार की थी और वीडियो में भी ये साफ़ दिखता है कि भज्जी ने उन्हें चाँटा मारा था. हालाँकि उन्होंने ये भी स्पष्ट किया कि श्रीसंत की ओर से भज्जी को उकसाया नहीं गया था.

उस घटना के बाद भज्जी को पूरे सीज़न आईपीएल से अलग रहना पड़ा था.

श्रीसंत का दावा

दूसरी ओर श्रीसंत ने भी ट्विटर पर इस बारे में खुल कर अपनी राय जाहिर की है और कई लोगों पर जम कर भड़ास भी निकाली है.

पहले आईपीएल के दौरान मुंबई इंडियंस की कप्तानी कर रहे हरभजन सिंह और उस समय किंग्स इलेवन पंजाब का हिस्सा रहे श्रीसंत के बीच एक मैच के बाद झड़प हुई थी.

कहा गया कि भज्जी ने मैच हारने के बाद श्रीसंत को थप्पड़ मार दिया था. मैदान पर श्रीसंत के रोने का दृश्य सबको याद है. लेकिन अब श्रीसंत का कहना है कि मामला कुछ और ही था.

उन्होंने इससे इनकार किया है कि भज्जी ने उन्हें चाँटा मारा था. श्रीसंत का कहना है कि भज्जी ने उन्हें कोहनी मारी थी, जिसे वे बर्दाश्त नहीं कर पाए थे.

श्रीसंत ने यहाँ तक कहा कि पूरा घटनाक्रम पहले से तैयार था. उन्होंने हरभजन सिंह को 'पीठ में छुरा घोंपने' वाला तक कह दिया.

श्रीसंत ने ट्विटर पर लिखा है, "मुझे कोई शिकायत नहीं है. लेकिन अब मैं ये चाहता हूँ कि आप सब इस मामले में सच जानें. भज्जी ने मुझे चाँटा नहीं मारा था. वीडियो आपको सब कुछ दिखा देगा कि क्या हुआ था. सभी मुझ पर आरोप लगाते हैं कि मैं भावुक हो गया. कौन भावुक नहीं होता. जब आप ये जानते हो कि जिस व्यक्ति की आप पूजा करते हो वो पीठ में छुरा भोंकने वाला है."

इस समय राजस्थान रॉयल्स टीम से खेल रहे श्रीसंत ने उस वीडियो को सार्वजनिक करने की मांग की. श्रीसंत ने कहा है कि वे नहीं चाहते कि भज्जी कुछ बुरा महसूस करें, लेकिन वे ये भी चाहते हैं कि लोग ये जानें जो कुछ हुआ, उसमें मेरी ग़लती नहीं थी.

श्रीसंत ने लिखा है कि लोग उस घटना को स्लैपगेट के नाम से जानते हैं, लेकिन असल में क्या ये स्लैपगेट था?, वीडियो से आपको सब पता चल जाएगा.

संबंधित समाचार