श्रीसंत: खेल से ज़्यादा तेवरों ने दी सुर्ख़ियाँ

श्रीसंत
Image caption अपने व्यवहार के लिए श्रीसंत को कई बार चेतावनियाँ दी जा चुकी हैं

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने स्पॉट फिक्सिंग के सिलसिले में जांच के दायरे में आए तीनों खिलाड़ियों एस श्रीसंत, अंकित चह्वाण और अजित चंडिला को निलंबित कर दिया है.

बीसीसीआई की तरफ़ से जारी एक बयान में कहा गया है ये तीनों जांच पूरी होने तक निलंबित रहेंगे.

ये तीनों आईपीएल से जुड़े राजस्थान रॉयल्स के खिलाड़ी हैं और टीम प्रबंधन के मुताबिक़ स्पॉट फिक्सिंग से जुड़ी एक जांच के सिलसिले में पुलिस द्वारा पूछताछ के लिए बुलाए गए हैं.

केरल के क्रिकेट खिलाड़ी और तेज़ गेंदबाज़ एस श्रीसंत की गणना उन खिलाड़ियों में होती है जो हमेशा विवादों में घिरे रहे हैं और आज भारतीय टीम से बाहर होने के पीछे एक कारण उनका रवैया भी बताया जाता है.

माना जाता है कि उनके इसी रवैये से उनके कप्तान महेंद्र सिंह धोनी से संबंध बहुत मधुर नहीं रहे.

श्रीसंत सहित तीन से पूछताछ

अपने व्यवहार के लिए उन्हें कई बार चेतावनियाँ दी जा चुकी हैं. बीसीसीआई और केरला क्रिकेट एसोसिएशन दोनों उन्हें चेतावनी दे चुके हैं कि वो मैदान में अपने व्यवहार में सुधार लाएं.

उधर मुंबई में जन्मे 27 साल के अंकीत अनिल चव्हाण और अजीत चंडीला दोनों रणजी खिलाड़ी हैं.

बाएँ हाथ के बल्लेबाज़ अंकीत मुंबई के लिए खेलते हैं जबकि अजीत चंडीला हरियाणा के लिए.

ज़्यादातर क्रिकेट प्रेमियों को याद होगा कि 2008 में एक आईपीएल मैच के दौरान हरभजन सिंह के कथित चाँटे के बाद वो कैमरे पर फूट-फूट कर रोते दिखाई दिए थे और बाद में उन्होंने एक ट्वीट करके कहा कि वो सब योजनाबद्ध था और उन्हें चाँटा मारा ही नहीं गया.

एक बार वो बैंगलोर में एक होटल के कर्मचारियों से भिड़ गए जिस पर बोर्ड ने उनसे सफ़ाई मांगी थी.

वर्ष 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ़ मैच में वो इंग्लैंड के कप्तान माइकल वॉन से जान बूझकर जा टकराए थे जिसके लिए उन्हें मैच फीस का आधा हिस्सा बतौर जुर्माना देना पड़ा था.

श्रीसंत ने ट्रेंट ब्रिज टेस्ट में पीटरसन पर 'बीमर' फेंकने के अलावा पॉल कोलिंगवुड को एक ऐसी गेंद डाली थी जिसे फेंकते समय उनका अगला पांव क्रीज से लगभग दो फुट आगे निकल आया था.

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल एथर्टन ने पीटरसन पर 'बीमर' फेंकने के लिए श्रीसंत पर एक मैच के प्रतिबंध की भी मांग की थी.

हालांकि श्रीसंत ने इसके तुरंत बाद पीटरसन से माफ़ी मांगी थी लेकिन एथर्टन इससे संतुष्ट नहीं हैं.

दोषी

Image caption 2008 में हरभजन सिंह के कथित चाँटे के बाद उन्हें दुनिया भर में टीवी पर रोते देखा गया था

एक और बार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने उन्हें आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया था और उनकी मैच फ़ीस में 30 फ़ीसदी कटौती करने का निर्देश दिया था.

आईसीसी का कहना था कि श्रीसंत ने खेल भावना के अनुरूप व्यवहार नहीं किया था. आईसीसी के अनुसार दक्षिण अफ़्रीका के खिलाफ़ मैच में हाशिम अमला को आउट करने के बाद श्रीसंत उनकी तरफ भागे थे.

इस बात की शिकायत अंपायर मार्क बेंसन, डेरिल हार्पर और तीसरे अंपायर कार्ल हंटर ने की थी. इस मामले में श्रीसंत की 20 फ़ीसदी मैच में कटौती करने की व्यवस्था दी गई.

श्रीसंत पर दूसरा आरोप था कि उन्होंने आईसीसी 'लोगो' नीति का उल्लंघन किया था. आईसीसी की नीति थी कि खेलने वाली शर्ट के नीचे सादा सफेद टी शर्ट पहनी जा सकती है और श्रीसंत ने नीचे काली टीशर्ट पहनी और उस पर एक 'लोगो' भी था. हालांकि जब उन्हें बताया गया तो उन्होंने वो बदल दी थी.

उनका गेंदबाज़ आंद्रे नेल के साथ भी सामना विवादास्पद रहा था. नेल ने एक के बाद एक तेज़ गेंदों से श्रीसंत को परेशान कर रखा था और एक बार तो नेल ने श्रीसंत के सीने की ओर इशारा करके कहा था, जिसका शायद मतलब था कि श्रीसंत में हिम्मत नहीं है.

अगली बॉल पर श्रीसंत ने नेल के ऊपर शॉट खेलकर सीधा छक्का मार दिया था. खुशी में श्रीसंत ने विकेट पर नाचना शुरू कर दिया था, हालाँकि श्रीसंत ने बाद में कहा कि वो दोबारा ऐसा नहीं करेंगे.

आईपीएल

Image caption राजस्थान रॉयल्स टीम ने कहा है कि वो इस घटना से स्तब्ध हैं

इंडियन प्रीमियर लीग या आईपीएल में श्रीसंत शुरुआत में किंग्स इलेवन पंजाब से जुड़े रहे और 2008 में सोहेल तनवीर के बाद वो विकेट लेने वाले दूसरे सबसे तेज़ गेंदबाज़ थे. 2011 में वो कोच्ची टीम के लिए खेले, लेकिन अगले साल उन्होंने राजस्थान रॉयल्स का रुख किया.

2008 के एक आईपीएल मैच में हरभजन सिंह के साथ उनका सामना हुआ था जिसे दुनिया ने टीवी पर देखा.

हरभजन सिंह मुंबई के लिए खेल रहे थे. हरभजन सिंह पर आरोप लगे कि उन्होंने श्रीसंत को थप्पड़ मारा. टीवी पर सभी ने श्रीसंत को रोते हुए देखा. लेकिन बाद में श्रीसंत ने कहा कि उन्हें हरभजन से कोई शिकायत नहीं है और हरभजन उनके बड़े भाई के समान हैं.

कुछ हफ्तों पहले श्रीसंत ने ट्विटर पर घटना का जिक्र करते हुए कहा कि पूरी घटना योजनाबद्ध थी और हरभजन सिंह ने उनकी पीठ में छुरा भोंका है.

अंकीत और अजीत

अंकीत ने दिसंबर 2008 में अपने फर्स्ट क्लास करियर की शुरुआत की थी. उन्होंने मुंबई में फरवरी में अपना आखिरी फर्स्ट क्लास मैच खेला था.

बाएँ हाथ के बल्लेबाज़ अंकीत बाएँ से धीमी गेंदबाज़ी भी करते हैं.

लंबे कद के ऑफ़ स्पिनर अजीत चंडीला एअर इंडिया के लिए घरेलू टूर्नामेंट में खेलते हुए बहुत प्रभावशाली रहे हैं. अपनी गेंदबाज़ी से उन्होंने वीवीएस लक्षमण, वीरेंदर सहवाग, युवराज सिंह, गौतम गंभीर, एमएस धोनी और सुरेश रैना जैसे खिलाड़ियों को आउट किया है.

अजीत ने 2010 में हरियाणा के लिए अपने फ़र्स्ट क्लास करियर की शुरुआथ की और अगले ही सीज़न में दिल्ली डेयरडेविल्स ने उन्हें टीम में शामिल कर लिया लेकिन 2012 में राजस्थान रॉयल्स के साथ खेलते हुए उन्होंने ध्यान आकर्षित किया.

पुणे वॉरियर्स के साथ खेलते हुए उन्होंने हैट्रिक ली थी. उन्होंने एक के बाद एक सौरव गांगुली, जेसी राइडर और रॉबिन उत्थप्पा को आउट किया था.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. अपनी राय देने के लिए आप हमारे फेसबुक पन्ने पर आ सकते हैं और ट्विटर पर भी फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार