आईपीएल पर रोक से इनकार, बोर्ड की खिंचाई

क्रिकेट, आईपीएल, स्पॉटफिक्सिंग
Image caption स्पॉटफिक्सिंग के आरोप में गिरफ्तार किए गए खिलाड़ी.

सुप्रीम कोर्ट ने उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें आईपीएल के शेष मैचों पर रोक लगाने की मांग की गई थी.

खेल में जारी भ्रष्टाचार की खबरों के बीच क्रिकेट प्रशंसक और सामाजिक कार्यकर्ता सुदर्श अवस्थी ने ये याचिका दायर की गई थी.

इससे पहले आईपीएल के मैचों में स्पॉट फिक्सिंग के मामले में कथित तौर पर शामिल होने के आरोपों में क्रिकेट खिलाड़ी एस श्रीसंत और अन्य दो खिलाड़ियों के साथ-साथ 11 सट्टेबाजों को गिरफ्तार किया गया था.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक इस मामले की वजह से केंद्र सरकार मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग पर लगाम लगाने के लिए कानून लाने की संभावनाओं पर विचार कर रही है.

याचिकाकर्ता सुदर्श अवस्थी ने सुप्रीम कोर्ट से आईपीएल के बचे हुए चार मैचों पर रोक लगाने की मांग की थी लेकिन देश की सबसे बड़ी अदालत ने कहा कि प्रतियोगिता के बचे हुए मैच अपने तयशुदा कार्यक्रम के मुताबिक चलते रहेंगे.

भद्र लोगों का खेल

Image caption खेल के साफ सुथरे पहलू को बरकरार रखे जाने के लिए चिंताएं जाहिर की जा रही हैं.

लेकिन अदालत ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से इस मामले में शामिल खिलाड़ियों के बारे में एक रिपोर्ट दो हफ्तों के भीतर सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश करने के लिए कहा है.

अदालत ने कहा कि क्रिकेट भद्र लोगों का खेल है और इसका यह स्वरूप बरकरार रखना चाहिए.

अवस्थी ने अदालत से यह भी मांग की थी कि स्पॉट फिक्सिंग के मामले की तह में जाने के लिए इसकी जांच कराई जानी चाहिए. उन्होंने अगले साल से इस पर प्रतिबंध लगाए जाने की गुजारिश भी कोर्ट से की लेकिन अदालत ने बिना किसी ठोस कारण के ऐसा करने से इनकार कर दिया.

इस बीच आईपीएल कमिश्नर राजीव शुक्ला ने कहा है कि बीसीसीआई क्रिकेट में मौजूद इस समस्या को खत्म करने के पूरी तरह से तैयार है और मैच फिक्सिंग के लिए जिम्मेदार किसी भी खिलाड़ी को छोड़ा नहीं जाएगा.

( बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार