खेल में बेईमानी के खिलाफ बनेगा नया कानून

  • 25 मई 2013
Image caption स्पॉट फ्किसिंग के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है

कानून मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा है कि खेल की दुनिया में बेईमानी को रोकने के लिए सरकार जल्द ही नया कानून लेकर आएगी.

इस बार की आईपीएल प्रतियोगिता कथित स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाज़ी को लेकर विवादों के घेरे में है. एस श्रीसंत समेत तीन खिलाड़ियों को आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था.

बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के दामाद और गुरुनाथ मेयप्पन को भी आईपीएल में सट्टेबाज़ी के मामले में मुंबई पुलिस ने गिरफ़्तार किया था.

कपिल सिब्बल ने पत्रकारों को बताया है कि एटॉर्नी जनरल ने सलाह दी है कि खेल में बेईमानी जैसे आरोपों से निपटने के लिए बेहतर होगा कि अलग से कानून बनाया जाए न कि आईपीसी में संशोधन किया जाए.

उन्होंने कहा कि इस कानून के दायरे में क्रिकेट ही नहीं बल्कि अन्य खेल और विदेशी खिलाड़ी भी आएँगे.

बुकी, दर्शक, खिलाड़ी सब दायरे में

मंत्री ने बताया कि एटॉर्नी जनरल ने राय दी है कि राज्य सरकारों का कोई हक़ नहीं है कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की घटनाओं पर कानून बनाए.

क्रिकेट की दुनिया में सियासत

इस सिलसिले में विपक्ष के नेता अरुण जेटली और बीसीसीआई के राजीव शुक्ला ने कपिल सिब्बल से मुलाकात भी की है. कपिल सिब्बल ने बताया कि विपक्ष इस मुद्दे पर सरकार के साथ है.

कपिल सिब्बल ने कहा कि कानून का ढाँचा तैयार कर खेल मंत्रालल को भेजा जाएगा जिसके बाद विचार विमर्श के बाद मसौदा तैयार किया जाएगा. हालांकि जब उनसे सीधे-सीधे बीसीसीआई के बारे में सवाल पूछे गए तो उन्होंने जवाब देने से मना कर दिया.

कानून मंत्री के मुताबिक बेईमानी की परिभाषा में बुकी, दर्शकों की कोई हरकत, खिलाड़ी, या ऐसा इशारा जो खेल के नतीजे को प्रभावित करता है सभी को लाया जाएगा. उन्होंने ये भी बताया कि इस तरह के कामों में नई तकनीक के इस्तेमाल को भी नए कानून में शामिल किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार