मरे की जीत से ब्रिटेन की उम्मीदें बरक़रार

एंडी मर्रे
Image caption मरे पिछले साल फ़ाइनल में फेडरर से हार गए थे.

दुनिया के दूसरे नंबर के टेनिस खिलाड़ी एंडी मरे के विंबलडन के सेमीफ़ाइनल में पहुंचने के साथ ब्रिटेन में ख़िताब जीतने की उम्मीद फिर से ताज़ा हो गई है.

ब्रिटेन ने ये ख़िताब पिछली बार 1936 यानी 77 साल पहले जीता था.

गत उपविजेता मरे ने क्वार्टरफ़ाइनल में स्पेन के फर्नांडो वर्दास्को के ख़िलाफ दो सेट से पिछड़ने के बाद शानदार वापसी की और 4-6, 3-6, 6-1, 6-4, 7-5 से जीत दर्ज कर अपने लिए सेमीफाइनल में जगह बना ली है.

सेंटर कोर्ट पर खेले गए इस मैच में मरे जब पहले दो सेट हार गए थे तो स्टेडियम में 15,000 दर्शकों की मौजूदगी के बावजूद सन्नाटा पसर गया. लेकिन उनके मैच जीतने के बाद स्टेडियम जश्न में डूब गया.

मरे लगातार पांचवीं बार इस टूर्नामेंट से सेमीफ़ाइनल में पहुंचे हैं जहां उनका मुक़ाबला 24वीं वरीयता प्राप्त पोलैंड से येर्जी यानोविक्ज़ से होगा. यानोविक्ज़ ने क्वार्टरफ़ाइनल में हमवतन लुकास कुबोट को 7-5, 6-4, 7-6 से शिकस्त दी.

जोकोविच

दूसरे सेमीफ़ाइनल में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविच का सामना आठवीं सीड अर्जेंटीना के जुआन मार्टिन डेल पोत्रो से होगा.

जोकोविच ने क्वार्टरफ़ाइनल में सातवीं वरीयता प्राप्त चेक गणराज्य के टॉमस बेर्दिच को 7-6, 6-4, 6-3 से हराया.

सर्बियाई खिलाड़ी ने टूर्नामेंट में एक भी सेट नहीं गंवाया है और वो लगातार 13वीं बार ग्रैंड स्लेम के सेमीफ़ाइनल में पहुंचे हैं.

पूर्व यू एस ओपन चैंपियन डेल पोत्रो ने चौथी सीड और फ्रेंच ओपन उपविजेता स्पेन के डेविड फेरर को 6-2, 6-4, 7-6 से शिकस्त देकर अंतिम चार में जगह बनाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहाँ क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार