खेल की दुनिया के 10 सबसे लंबे इंतज़ार

एंडी मर्रे ने ब्रितानी पुरुष खिलाड़ी के विंबलडन चैंपियन बनने के 77 साल के सूखे को खत्म कर दिया है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि खेल की दुनिया में कई ऐसे भी कारनामे हैं जिन्हें बनने के लिए इससे भी लंबा इंतज़ार करना पड़ा.

113 साल: भारत ओलंपिक में एथलेटिक्स मेडल हासिल करने के लिए 113 साल से इंतज़ार कर रहा है.

पेरिस में आयोजित 1900 के ओलंपिक में नार्मन प्रिचार्ड ने भारत के लिए एथलेटिक्स में दो रजत पदक जीते थे. इसके बाद अब तक भारत को एथलेटिक्स में कोई मेडल हासिल नहीं हुआ है.

हालांकि पिछले साल लंदन ओलंपिक में भारत ने अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते दो रजत और चार कांस्य पदक हासिल किए.

1928 से 1956 के बीच भारत ने ओलंपिक में हॉकी का स्वर्ण पदक भी जीता. लेकिन एथलेटिक्स में पदक हासिल करने का इंतज़ार जारी है.

Image caption टिंटू लुका क्या ओलंपिक एथलेटिक्स मेडल का सूखा खत्म कर पाएगी?

(एंडी मर्रे ने रचा इतिहास)

104 साल: बेसबॉल वर्ल्ड सीरीज़ चैंपियन बनने के लिए शिकागो क्लब का इंतज़ार 104 साल लंबा हो चुका है.

इस साल अक्टूबर में यह इंतज़ार 105 साल पूरे कर लेगा.

1908 में शिकागो क्लब आख़िरी बार वर्ल्ड चैंपियन बना था. अब इस टीम की पहचान लवएबल लूज़र्स की बन चुकी है. इस बीच 1984 में टीम फ़ाइनल तक पहुंची लेकिन फ़ाइनल में हार गई.

123 साल: इंग्लिश फ़ुटबॉल लीग फर्स्ट डिविजन में प्रेस्टन नॉर्थ इंड आखिरी बार 1889-90 में चैंपियन बनी थी.

तब इस टीम को अजेय माना जाता था. लेकिन इसके बाद टीम के चैंपियन बनने का इंतज़ार बना हुआ है.

28 साल: विश्व की सबसे लंबी साइकलिंग रेस 'टुअर डे फ़्रांस' को 28 साल से किसी फ्रांसीसी साइकलिस्ट ने नहीं जीता है.

बेर्नाड हिनॉल्ट ने आखिरी बार इसे 1985 में जीता था. 1981 से 1985 के बीच इसे लगातार फ्रांसीसी साइकलिस्टों ने जीता था. लेकिन इसके बाद फ्रांसीसी जनता का इंतज़ार बना हुआ है.

बावजूद इसके फ्रांसीसी रेसरों ने इस रेस को सर्वाधिक बार जीता है.

Image caption 1889-90 में इंग्लिश फ़ुटबॉल लीग फर्स्ट डिविजन की चैंपियन टीम

49 साल: अमरीकी महिला वॉलीबॉल टीम ने ओलंपिक में 49 वर्ष से स्वर्ण पदक हासिल नहीं किया है.

महिला वॉलीबॉल को 1964 में ओलंपिक खेलों में शामिल किया गया. अमरीकी टीम 2012 में पहली वरीयता प्राप्त थी, लेकिन फ़ाइनल में उन्हें ब्राज़ील की महिला टीम ने हरा दिया.

37 साल: ऑस्ट्रेलियन ओपन टेनिस में पुरुषों की एकल स्पर्धा में किसी ऑस्ट्रेलियाई के चैंपियन बनने का इतंज़ार 37 साल से जारी है.

1976 में ऑस्ट्रेलिया के मार्क एडमॉनड्सन ऑस्ट्रेलियाई ओपन चैंपियन बने थे. वे किसी भी ग्रैंड स्लैम को जीतने वाले सबसे निम्नतम रैंकिंग (212वीं रैंकिंग) वाले खिलाड़ी भी हैं.

इसके बाद पैट कैश, पैट राफ्टर और लैयटन हैविट ने ग्रैंड स्लैम का ख़िताब जरूर जीता लेकिन उन्हें ऑस्ट्रेलियन ओपन में कामयाबी नहीं मिली.

Image caption तस्वीर में क्रिस ओ'नील सेरीना विलियम्स के साथ दिखाई दे रही हैं

दूसरी तरफ़ महिला एकल वर्ग में किसी ऑस्ट्रेलियाई के चैंपियन बनने का इंतज़ार में 35 साल से बना हुआ है. 1978 में क्रिस ओ’नील चैंपियन बनी थीं.

37 साल: मोरक्को की फ़ुटबॉल टीम 37 साल से अफ़्रीकन कप नहीं जीत सकी है. आख़िरी बार मोरक्को की टीम 1976 में अफ़्रीकी चैंपियन बनी थी.

2004 में टीम फ़ाइनल तक पहुंची जरूर लेकिन ट्यूनिशिया के हाथों हार गई. इस दौरान टीम चार बार वर्ल्ड कप फ़ाइनल तक पहुंची.

38 साल: इंग्लैंड की क्रिकेट टीम बीते 38 साल में वर्ल्ड कप चैंपियन नहीं बन सकी है.

हर चार साल में होने वाले क्रिकेट वर्ल्ड कप का आयोजन इंग्लैंड में चार बार कर चुका है और तीन बार टीम फ़ाइनल में भी पहुंची है, लेकिन चैंपियन बनने का इंतज़ार बना हुआ है.

85 साल: ओलंपिक खेलों में जिमनास्टिक में स्वर्ण पदक जीतने के लिए ब्रिटेन का इतंज़ार 85 साल लंबा हो चुका है. बेथ ट्वेडल ने 2012 में पदक जरूर जीता लेकिन स्वर्ण पदक से चूक गईं थीं.

63 साल: फॉर्मूला वन में किसी महिला रेसर को अब तक एक अंक हासिल नहीं हो पाया है.

अब तक पांच महिला रेसर को फॉर्मूला वन वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने का मौका मिला है.

1975 में लीला लॉम्बार्डी स्पेनिश ग्रां प्री में छठे स्थान पर रहीं जरूर लेकिन रेस पहले खत्म होने के वजह से उन्हें आधा अंक ही मिल पाया.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)