वनडे शृंखला में कप्तान विराट कोहली का 'टेस्ट'

विराट कोहली
Image caption विराट कोहली के कोच के अनुसार वो कप्तानी के लिए सही चयन हैं

भारतीय क्रिकेट टीम पांच एकदिवसीय मैचों की शृंखला खेलने के लिए जिम्बाब्वे रवाना हो गई है. टीम की कमान युवा बल्लेबाज विराट कोहली को सौंपी गई है.

इस टीम के बारे में विराट कोहली के कोच और पूर्व क्रिकेटर राजकुमार शर्मा कहते हैं, "यह एक युवा टीम है, और इसके पास अपनी क्षमता दिखाने का बेहतरीन अवसर है. इसी के साथ विराट कोहली के पास भी एक कप्तान के रूप में अपनी योग्यता दिखाने का अच्छा मौक़ा है."

भारतीय क्रिकेट टीम ज़िम्बाब्वे में पांच एकदिवसीय मैच खेलेगी.

शृंखला का पहला मैच 24 जुलाई को हरारे में और उसके बाद हरारे में ही 26 जुलाई को दूसरा और 28 जुलाई को तीसरा मैच खेला जाएगा. चौथा मैच 31 जुलाई और पांचवा और अंतिम एकदिवसीय मैच तीन अगस्त को बुलावायो में होगा.

सीनियर खिलाड़ियों को आराम

ज़िम्बाब्वे दौरे के लिए चयनकर्ताओं ने महेंद्र सिंह धोनी, तेज़ गेंदबाज़ ईशांत शर्मा, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव के साथ स्पिनर रामचंद्रन अश्विन को आराम दिया है.

टीम में युवा ऑफ स्पिनर परवेज रसूल, टेस्ट क्रिकेट में अपनी तकनीक का लोहा मनवा चुके चेतेश्वर पुजारा, आईपीएल के बीते संस्करण में चमकने वाले तेज़ गेंदबाज़ मोहित शर्मा और जयदेव उनाडकट को पहली बार भारतीय एकदिवसीय टीम में जगह बनाने का अवसर मिला है.

वैसे टीम में विराट कोहली के अलावा अनुभवी सुरेश रैना, रोहित शर्मा, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, रवींद्र जडेजा और विनय कुमार जैसे खिलाड़ी भी शामिल है.

टीम के चयन को लेकर राजकुमार शर्मा मानते है कि धोनी सहित सीनियर खिलाड़ियों को आराम देकर बोर्ड ने अच्छा कदम उठाया है.

वो कहते हैं, "भारतीय टीम में एक समय ऐसा लगा कि जैसे दस तेज़ गेंदबाज़ों का पूल है तो कभी ऐसा लगा कि टीम घायल गेंदबाज़ों के साथ ही खेल रही है. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि खिलाड़ियों को आराम नही मिला, अब जबकि भारत के पास युवा खिलाड़ियों की अच्छी पौध है तो उन्हें अवसर दिया जा सकता है."

विराट की कप्तानी

Image caption धोनी समेत कई खिलाड़ियों को आराम दिया गया है

वास्तव में ज़िम्बाब्वे की टीम भले ही दूसरे देशो में अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रही हो लेकिन अपनी ही धरती पर वह भारत को टक्कर देने की क्षमता रखती है.

इसके बाद भारत का अगला दौरा दक्षिण अफ्रीका का होगा जिसका क्रिकेट प्रेमियों को बेसब्री से इंतज़ार है क्योंकि वहीं भारत की कड़ी परीक्षा होगी. यकीनन दक्षिण अफ्रीका तेज़ पिचें देगा लेकिन हो सकता है ज़िम्बाब्वे दौरे से कुछ अच्छे खिलाड़ी भारत को मिल जाए.

विराट कोहली के कंधो पर कप्तानी के भार की बात चलने पर राजकुमार शर्मा कहते है कि जब-जब उन्हें दिल्ली की रणजी टीम की कप्तानी करने का अवसर मिला है तब-तब उन्होंने दिखाया है कि वह ज़िम्मेदारी निभा सकते है.

राजकुमार शर्मा कहते हैं, "विराट कप्तानी की क्षमता का परिचय आईपीएल-6 में दिखा चुके है जब वह रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर के कप्तान थे. इतना ही नहीं वह अपनी कप्तानी में भारत को अंडर-19 का विश्व कप भी जिता चुके है लिहाज़ा चयनकर्ताओं ने उन पर भरोसा दिखा कर ठीक किया है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार