स्पॉट फिक्सिंगः क्या श्रीनिवासन की वापसी हो पाएगी?

क्रिकेट

29 सितंबर को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई की सालाना बैठक होने जा रही है. अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बैठक में फिक्सिंग का मुद्दा अहम रहेगा.

आईपीएल स्पॉट फ़िक्सिंग मामला सामने आने के बाद से एन श्रीनिवासन दबाव में भले रहे हों, लेकिन वे वापसी की उम्मीद बिल्कुल नहीं छोड़ रहे. वे आईपीएल की चेन्नई सुपर किंग्स टीम के मालिक हैं.

बीसीसीआई अध्यक्ष पद से कुछ समय के लिए निष्कासित श्रीनिवासन ने मयप्पन से अब पूरी तरह दूरी बना ली है.

मैच फिक्सिंग मामले में गुरुनाथ मयप्पन पर ग्यारह हज़ार से ज़्यादा पन्नों की चार्जशीट दायर की गई थी.

फिलहाल श्रीनिवासन बीसीसीआई से बाहर जाने के मूड में नहीं दिख रहे हैं. एक ओर बीसीसीआई के कई सदस्य श्रीनिवासन के खिलाफ हैं मगर दूसरी ओर उन्हें बाहर से समर्थन देने वालों की भी कमी नहीं है.

इस मामले पर अपनी राय रखते हुए पूर्व क्रिकेटर मनिंदर सिंह कहते हैं, ''उनकी कुछ बातों से मैं सहमत हूं. उनका कहना है कि मैंने कुछ गलत नहीं किया है. और वाकई उन्होंने गलती नहीं की है. श्रीनिवासन साहब से एक ही गलती हुई कि उन्होंने दो दिन मयप्पन को अपने फार्म हाउस में छिपाकर रखा. लेकिन दामाद की गलतियों के कारण उन्हें कठघरे में क्यों खड़ा किया जा रहा है?''

क्लीन चिट किसको?

उम्मीद है कि 29 सितंबर को होने वाली सलाना बैठक में स्पॉट फिक्सिंग का आरोप झेल रहे अजीत चांडिला पर अहम फैसला लिया जाएगा.

श्रीसंत और अंकित च्वहाण पर पहले ही आजीवन पाबंदी लग चुकी है. वहीं अमित सिंह पर बीसीसीआई पांच साल का प्रतिबंध लगा चुकी है.

माना रहा है कि मयप्पन पर लगे गंभीर आरोपों से नाखुश बीसीसीआई के कुछ सदस्य इस बैठक में चेन्नई सुपरकिंग्स की फ्रेंचाइज़ी रद्द करने की मांग कर सकते हैं.

आईपीएल फ्रेंचाइज़ी के साथ किए करार के मुताबिक बीसीसीआई के संविधान में कहा गया है कि किसी भी टीम के मालिक या उससे जुड़े सदस्य आईपीएल की छवि खराब करने वाली किसी गतिविधि में यदि लिप्त पाए जाते हैं, तो उस टीम की फ्रेंचाइज़ी तुरंत रद्द कर दी जाएगी.

स्पॉट फिक्सिंग का मामला सामने आने से पहले तक मयप्पन चेन्नई सुपरकिंग्स में टीम प्रिंसिपल के पद पर थे. लेकिन इस खबर के तुरंत बाद उनका पद घटा दिया गया था.

इतना ही नहीं, बीसीसीआई की अंदरुनी जांच में उन्हें क्लीन चिट मिलने पर भी कई सवाल खड़े हुए थे.

भाई-भतीजावाद के चलते मयप्पन बीसीसीआई की जांच कमिटी से साफ बच निकले थे. अब सवाल है कि क्या वे अपने खिलाफ दायर चार्जशीट से बच पाएंगे?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार