वर्ल्ड कप में एशियाई टीमों को हराना कठिन: सचिन

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले सचिन तेंदुलकर मानते हैं कि वर्ष 2015 में आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में होने वाले विश्व कप में भारतीय उपमहाद्वीप की टीमों को हराना कठिन होगा.

घर की जमीन पर भारत को वर्ष 2011 में जीत दिलाने में मददगार सचिन तेंदुलकर 18,426 रन बनाने के बाद पिछले साल एक दिवसीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं.

टूर्नामेंट शुरू होने से पहले बचे 500 दिनों के अवसर पर हुए एक समारोह में 40 वर्षीय क्रिकेटर ने कहा, ''भारत के साथ पाकिस्तान और श्रीलंका की टीमें भी अच्छी हैं.''

भारत एक दिवसीय रैंकिंगमें टॉप पर है तो श्रीलंका चौथे और पाकिस्तान छठे नंबर पर.

198 टेस्ट मैचों में 15,837 रन बना चुके तेंदुलकर अकेले ऐसे शख्स हैं, जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में सौ शतक बनाए हैं. वह वर्ल्ड कप के 45 मैचों में 2,278 रन बनाकर इस प्रतियोगिता में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी हैं.

'ख़िताब बरकरार रखेगा भारत'

वह मानते हैं कि भारत सफलतापूर्वक खिताब को बरकरार रखकर ये कारनामा करने वाला तीसरा देश बनने में सक्षम है. गौरतलब है कि 1975 और 1979 में पहले दो विश्व कप जहां वेस्टइंडीज ने जीते, वहीं आस्ट्रेलिया वर्ष 1999 से 2007 तक लगातार तीन बार चैंपियन बना.

पाकिस्तान के जावेद मियांदाद की तरह छह विश्व कप में खेल चुके इस महान बल्लेबाज ने कहा, ''मैं सोचता हूं कि हमारे तमाम खिलाड़ी वहां के हालात और अपेक्षाओं से परिचित हैं, वो वहां खेल चुके हैं.''

उन्होंने कहा, ''वर्ल्ड कप में जीत पूरे देश को बेइंतहा ख़ुशी देगी. सौ करोड़ से ज्यादा लोगों के साथ मैं भी चाहूंगा कि हम फिर विजेता बनकर लौटें.''

न्यूजीलैंड में स्थितियां होंगी मुश्किल

तेंदुलकरने स्वीकार किया कि न्यूजीलैंड की स्थितियों के साथ तालमेल बिठाना जरूर भारतीय खिलाड़ियों के लिए मुश्किल होगा, हालांकि भारत ने मार्च 2009 में आखिरी बार खेली गई सिरीज़ में उन पर 3-1 से जीत दर्ज की थी.

वर्ष 1992 के विश्व कप में न्यूजीलैंड के हाथों मिली चार विकेट से शिकस्त के बारे में उन्होंने कहा, "मुझे याद है हमारा वो मैच ड्यूनेडिन में था, जहां जबरदस्त ठंड थी और बर्फीली हवाएं चल रही थीं. हवा का सामना करते जब बल्लेबाज गेंद को हिट कर रहे थे तो ये बमुश्किल 10 गज भी नहीं जा पा रही थी."

सचिन ने कहा, ''2014 में भारतीय टीम को न्यूजीलैंड जाना है. इससे उन्हें वहां की स्थितियों से बखूबी परिचित हो जाना चाहिए.''

भारत पूल बी में पाकिस्तान के साथ

भारतवर्ल्ड कप के पूल बी में दक्षिण अफ्रीका, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, जिम्बाब्वे, आयरलैंड और एक क्वालिफायर टीम के साथ है.

इंग्लैंड तीन बार विश्व कप में उप विजेता रह चुका है, आखिरी बार वो आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में खेले गए 1992 के वर्ल्ड कप में फ़ाइनल में पहुँचा था.

इस वर्ल्ड कप में इंग्लैंड मेजबान देशों के साथ पूल ए में है, इस पूल में श्रीलंका, बांग्लादेश और दो क्वालिफाइंग टीमें हैं.

समारोह में कुक ने कहा, ''इस साल चैंपियंस ट्रॉफी में हम पहली बार 50 ओवर के आईसीसी इवेंट में जीत के करीब थे और उपविजेता रहे. हम आने वाले महीनों कड़ी मेहनत कर सुनिश्चित करेंगे कि 2015 के अवसर का बेहतरीन उपयोग कर एक कदम और आगे बढाएं.''

उन्होंने कहा, ''आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में खेलने का अनुभव हमेशा शानदार रहा है और मुझे कोई शक नहीं कि ये हमारी टीम और समर्थकों के लिए शानदार अवसर होगा.''

विश्व कप 14 फरवरी 2015 से शुरू हो रहा है, पहले दिन क्राइस्टचर्च में न्यूजीलैंड की टीम श्रीलंका से भिड़ेगी और मेलबर्न में इंग्लैंड का सामना आस्ट्रेलिया से होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार