तिलकरत्ने दिलशान का टेस्ट से संन्यास

  • 9 अक्तूबर 2013

श्रीलंका के पूर्व कप्तान तिलकरत्ने दिलशान ने टेस्ट क्रिकेट से सन्यास का निर्णय लिया है. हालांकि वो क्रिकेट के एक दिवसीय और टी-20 प्रारूपों में खेलना जारी रखेंगे.

बुधवार को श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि इस संबंध में बृहस्पतिवार को एक संवाददाता सम्मेलन में वह आधिकारिक घोषणा करेंगे.

समाचार एजेंसी रायटर के अनुसार, दिलशान ने कहा, ''मैंने यह निर्णय इसलिए लिया ताकि श्रीलंकाई क्रिकेट में नए खिलाड़ियों को मौका मिल सके.''

2015 वर्ल्ड कप

इस तूफ़ानी क्रिकेटर ने कहा, ''राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के साथ मैं मशविरा करूंगा और यदि उन्हें मेरी जरूरत होगी तो मैं 2015 के वर्ल्ड कप तक खेलूंगा.''

जिम्बाब्वे में अक्टूबर से शुरू होने वाली एक टेस्ट सिरीज़ के बाद वह सन्यास लेने वाले थे लेकिन यह सिरीज़ स्थगित हो गई.

दिलशान ने अपना हालिया टेस्ट मैच गत मार्च में बांग्लादेश के खिलाफ कोलंबो में खेला था. यहां दो पारियों में उन्होंने 57 रन बनाए. इसमें एक पारी में वह शून्य पर आउट हो गए थे.

शानदार करियर

दाएं हाथ के ओपनर बल्लेबाज़ दिलशान ने अपने क्रिकेट करियर में कुल 87 टेस्ट मैच खेले और 145 पारियों में 40.98 के औसत से कुल 5,492 रन बनाए.

इस दौरान उन्होंने 16 शतक और 23 अर्द्ध शतक बनाए.

टेस्ट में उनका सबसे सर्वोत्तम स्कोर 193 रहा है जो उन्होंने 2011 में इंग्लैंड के खिलाफ लार्ड्स के मैदान में कप्तान रहते बनाए.

दिलशान ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत जिम्बाब्वे के खिलाफ बुलावायो में 1999 में की थी.

अपने 14 साल के क्रिकेट करियर में उन्होंने 267 एक दिवसीय मैच खेले हैं.

गेंदबाजी

गेंदबाजी में भी उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है. उन्होंने अपने टेस्ट कैरियर में कुल 39 विकेट चटकाए. सबसे सर्वोत्तम प्रदर्शन 10 रन पर 4 विकेट रहा है.

एक दिवसीय मैचों में उनके नाम कुल 76 विकेट हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार