आनंद-कार्लसन के बीच पहली बाज़ी ड्रॉ

शतरंज चैंपियनशिप, विश्वनाथन आनंद, कार्लसन

चेन्नई में भारत के विश्वनाथन आनंद और नॉर्वे के कार्लसन मैग्नस के बीच चल रही बहुचर्चित विश्व शतरंज चैंपियनशिप की पहली बाज़ी ड्रॉ रही. खेल के दौरान सिर्फ़ 16 चालें ही चली गईं.

विश्वनाथन आनंद ने काले मोहरों के साथ खेल की शुरुआत की. विश्वनाथन आनंद वैसे तो ज़ोरदार शुरुआत करने के लिए जाने जाते हैं लेकिन कार्लसन के सामने उन्हें भी सोच-समझकर चालें चलनी पड़ीं.

उल्लेखनीय है कि जहां विश्वनाथन आनंद शतरंज की बिसात पर ख़ुद को माहिर बनाने के लिए कंप्यूटर से भी मुक़ाबला करते रहते हैं वहीं दूसरी तरफ़ कार्लसन नई तकनीक से दूर ही रहना पसंद करते हैं.

43 साल के आनंद सातवीं बार विश्व शतरंज चैंपियनशिप के मुक़ाबले में हिस्सा ले रहे हैं और उन्होंने 2007 से अब तक पांच बार ख़िताबी जीत हासिल की है.

दूसरी तरफ़ कार्लसन पहली बार विश्व मुक़ाबले में उतरे हैं. मगर कार्लसन 22 साल की उम्र में ही दुनिया के ऐसे ख़िलाड़ी हैं जिन्होंने शतरंज में सबसे ज़्यादा अंक हासिल किए हैं. उन्होंने गैरी कास्पारोव का रिकॉर्ड तोड़ा था. उन्हें खेल के जानकार ‘शतरंज का मोज़ार्ट’ भी कहते हैं. उनकी रेटिंग 2872 तक पहुंच गई थी. जो शतरंज के इतिहास में सबसे ज़्यादा रही है.

कई साल तक शतरंज में रूस का वर्चस्व रहा. स्पास्की, अनातोली कार्पोव और फिर गैरी कास्पारोव के बाद भी रूसी मास्टर्स ने राज किया. इसके बाद आनंद ने इस ख़िताब पर क़ब्ज़ा किया.

विश्व चैंपियनशिप 12 बाज़ियों तक चलेगी. विजेता को इसमें क़रीब 14 करोड़ रुपए की इनामी राशि दी जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार