सैम्युअल-शिलिंगफोर्ड की गेंदबाज़ी संदेह के घेरे में

  • 17 नवंबर 2013
शेन शिलिंगफोर्ड
Image caption शिलिंगफोर्ड ने कोलकाता टैस्ट में भारत के छह विकेट चटकाए थे

भारत के ख़िलाफ़ दूसरे टैस्ट मैच में अपनी गेंदबाज़ी के तरी़क़े की वजह से वेस्टइंडीज़ के दो गेंदबाज़ मार्लोन सैम्युअल और शेन शिलिंगफ़ोर्ड संदेह के घेरे में आ गए हैं.

मुंबई में दूसरे दिन के मैच के दौरान शुक्रवार को फ़ील्ड और टीवी एम्पायरों को इन दोनों गेंदबाज़ों का गेंद करने का तरीक़ा संदिग्ध प्रतीत हुआ.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि शनिवार को टैस्ट मैच ख़त्म होने के बाद वेस्टइंडीज़ टीम के प्रबंधक को इस सिलसिले में 'अम्पायर्स रिपोर्ट' सौंपी गई है.

इस रिपोर्ट में सैम्युअल और शिलिंगफ़ोर्ड की गेंदबाज़ी के तरीक़े पर चिंता जताई गई है और दोनों ही गेंदबाज़ों को अब 21 दिन के भीतर अपनी गेंदबाज़ी की जांच करानी होगी.

जांच और कार्रवाई

इस जांच के अगले 14 दिन के भीतर जांच रिपोर्ट आईसीसी के पास जमा करानी होती है.

ग़लत तरीक़े से गेंदबाज़ी करने के दोषी पाए जाने पर ये खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय मैचों में गेंदबाज़ी नहीं कर पाएंगे.

ये पहला अवसर नहीं है जब सैम्युअल और शिलिंगफोर्ड की गेंदबाज़ी संदेह के घेरे में आई है.

इससे पहले भी दोनों को ग़लत गेंदबाज़ी की वजह से मैदान से बाहर किया जा चुका है.

लेकिन सुधार की बात कहकर ये गेंदबाज़ के तौर पर दोबारा टीम में जगह बनाने में क़ामयाब हो गए थे.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार