ख़तरे में आनंद की बादशाहत

विश्वनाथन आनंद

पांच बार के विश्व शतरंज चैंपियन भारत के विश्वनाथन आनंद की बादशाहत ख़तरे में है.

आनंद को चेन्नई में चल रही विश्व चैंपियनशिप की नौवीं बाजी में गुरुवार दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी नॉर्वे के मैग्नस कार्लसन के ख़िलाफ़ हार का सामना करना पड़ा.

12 बाजियों के इस टूर्नामेंट में आनंद की यह तीसरी हार है.

शतरंज के हैरी पॉटर हैं कार्लसन

नौवीं बाजी के बाद कार्लसन के अब छह अंक हो गए हैं और ख़िताब पर क़ब्ज़ा करने के लिए उन्हें सिर्फ आधा अंक की ज़रूरत है.

कार्लसन दसवीं बाजी में शुक्रवार को सफेद मोहरों से खेलेंगे और उनके पास दो बाजियां शेष रहते ख़िताब क़ब्ज़ाने का मौक़ा रहेगा.

काले मोहरों से खेल रहे 23 साल के कार्लसन ने उनसे उम्र में क़रीब 20 साल बड़े आनंद को 28 चालों में घुटने टेकने पर मज़बूर कर दिया.

नर्वस

काले मोहरों से खेल रहे कार्लसन ने निम्ज़ो इंडियन डिफेंस का सहारा लिया. आनंद ने इसे अच्छी तरह भांपते हुए सेमिक वेरिएशन अपनाया.

आनंद पहले भी इसका सहारा ले चुके हैं. उन्होंने क्रैमनिक के ख़िलाफ़ विश्व चैंपियनशिप और फिर वांग हाओ के ख़िलाफ़ बाजी में इसे अपनाया था.

कहीं ख़तरे में तो नहीं आनंद का ख़िताब?

कार्लसन बीच में कुछ नर्वस दिखे. आनंद ने 22वीं चाल चलने में कार्लसन से 25 मिनट ज़्यादा लिए.

आनंद ने फिर अगली चाल चलने में 40 मिनट का समय लिया और ड्रा खेलने के बजाए खेलने का फ़ैसला किया. लेकिन कार्लसन ने 28 चालों में उन्हें मात दे दी.

दोनों खिलाड़ियों के बीच पहली चार बाजियां ड्रा रही थी जबकि पांचवीं और छठी बाजी आनंद हार गए थे. फिर सातवीं और आठवीं बाजी ड्रा रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार