क्या भारत दक्षिण अफ्रीका पर भी परचम फहराएगा?

  • 5 दिसंबर 2013

आखिरकार लंबे समय से चला आ रहा क्रिकेट प्रेमियों का इंतज़ार अब बस समाप्त होने को है और दुनिया की दो बेहतरीन टीमें एक दूसरे का सामना करने के लिए तैयार है.

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच गुरूवार से तीन एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों की सिरीज़ का पहला मैच न्यू वांडरर्स जोहान्सबर्ग में खेला जाएगा. बाकि बचे दो मैच 8 और 11 दिसंबर को खेले जाएंगे. इसके बाद दो टेस्ट मैचों का संक्षिप्त सिरीज़ खेली जाएगी.

दोनो टीमों के बीच पहला टेस्ट मैच 18 दिसंबर से और दूसरा टेस्ट मैच 26 दिसंबर से खेला जाएगा, यानि जिस सिरीज़ पर पूरी दुनिया की निगाह हो वह एक महिने में ही निबट जाएगी. वैसे कुछ होना बिलकुल ना होने से अच्छा है, क्योंकि कुछ मुद्दों को लेकर बीसीसीआई और दक्षिण अफ्रीकी बोर्ड में इतनी ठन चुकी थी कि एक समय तो यह सिरीज़ टलती हुई नज़र आ रही थी.

अब यह देखना भी दिलचस्प होगा कि सचिन तेंदूलकर के टेस्ट क्रिकेट से संन्यास के बाद भारतीय टीम कैसा खेलती है, जबकि टीम में राहुल द्रविण, वी वी एस लक्ष्मण के साथ-साथ वीरेन्द्र सहवाग और गौतम गंभीर भी नही होंगे.

जीत के रथ पर

भारतीय क्रिकेट टीम इन दिनो जीत के रथ पर सवार है. भारत ने साल की शुरूआत पाकिस्तान से भले ही तीन एकदिवसीय मैचों की सिरीज़ में 2-1 से हार के साथ की हो लेकिन उसके बाद उसने पीछे मुड़कर नही देखा.

भारत ने इंग्लैंड को 5 एकदिवसीय मैचों की सिरीज़ में 3-2 से हराया. भारत ने इंग्लैंड में आखिरी बार आयोजित हुई चैंपियंस ट्रॉफी पहली बार अपने नाम की. इसके बाद उसने वैस्टइंडीज़ में खेली गई त्रिकोणीय एकदिवसीय सिरीज़ जीती.

भारत की जीत का सिलसिला यहीं नही रुका और भारत ने ज़िम्बाबावे को एकदिवसीय सिरीज़ में एकतरफा रूप से 5-0 से हराया. इसके बाद भारत ने 7 एकदिवसीय मैचों की सिरीज़ में ऑस्ट्रेलिया को 3-2 से हराया. उल्लेखनीय है कि इस सिरीज़ के 2 मैच बारिश में धुल गए.

आईसीसी की रैंकिंग में नम्बर एक

वेस्ट इंड़ीज़ को भी भारत ने तीन मैचों की एकदिवसीय सिरीज़ में 2-1 से मात दी. कुल मिलाकर भारत ने इस साल 31 एकदिवसीय मैच खेले और 22 जीते तथा 8 हारे. इस साल अपने दमदार रिकार्ड के बाद भारतीय टीम एकदिवसीय क्रिकेट में आईसीसी की रैंकिंग में नंबर एक पर भी पहुंच गई.

इसके बावजूद भारतीय क्रिकेट टीम का दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ ख़ासकर उसी की ज़मीन पर बेहद ख़राब रिकार्ड है. दक्षिण अफ्रीका ने अपनी ज़मीन पर भारत का 25 बार सामना किया हैं, और अपने घर में उसकी स्तिथि लगभग बाली जैसी ही है. ऐसा लगता है जैसे वहॉ जाते ही भारत का आधा बल उसमें समा जाता है, क्योंकि उसने भारत को 19 मैचों में मात दी है.

भारत केवल 5 मैचों में ही दक्षिण अफ्रीका को हरा पाया है. कुछ यही हाल भारत का टेस्ट सिरीज़ में हैं. भारत ने दक्षिण अफ्रीका में अभी तक 15 टेस्ट मैच खेले हैं और उसे केवल 2 में जीत नसीब हुई है, 7 बार हारा हैं और 6 टेस्ट मैच ड्रा रहे.

भारतीय क्रिकेट टीम 1992 से दक्षिण अफ्रीका का दौरा कर रही है लेकिन अभी भी उसे पहली टेस्ट और एकदिवसीय सिरीज़ में जीत का इंतज़ार है. भारतीय क्रिकेट टीम के लिए अब परीक्षा का घड़ी आ चुकी है.

अपने घरेलू मैदान पर स्पिनरों के लिए लाभदायक पिच बनाकर भारत ने ऑस्ट्रेलिया और वेस्ट इंडीज़ को मात दी लेकिन दक्षिण अफ्रीका के तेज़ गति और उछाल वाले विकेट भारतीय बल्लेबाज़ो के लिए मुश्किल साबित हो सकते है.

दक्षिण अफ्रीका को चुनौती

विराट कोहली, शिखर धवन, रोहित शर्मा, युवराज सिंह, रविंद्र जडेजा, कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, आर अश्विन, युवा तेज़ गेंदबाज़ शमी अहमद, भुवनेश्वर कुमार और उमेश यादव के साथ-साथ इशांत शर्मा के दम पर भारत यक़ीनन दक्षिण अफ्रीका को चुनौती देने की क्षमता रखता है.

पुराने रिकार्ड भले ही दक्षिण अफ्रीका के पक्ष में हो लेकिन पिछले सप्ताह दक्षिण अफ्रीका को अपने ही घर में पाकिस्तान के हाथों एकदिवसीय सिरीज़ में 2-1 से हार का सामना करना पड़ा. पाकिस्तान की टीम पहली एशियाई टीम है जिसने दक्षिण अफ्रीकी शेरो को उसी की मांद में मात दी.

उस हार की बौखलाहट दक्षिण अफ्रीका भारत पर उतारना चाहेगा, इसके अलावा दोनो देशों के क्रिकेट बोर्ड के रिश्तो की कड़वाहट का असर मैदान पर देखने को मिल सकता है. दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच होने वाली एकदिवसीय सिरीज़ का पहला मैच दोनो टीमों का ताक़त का अंदाज़ा लगाने के लिए काफी होगा.

भारतीय टीम को वहां अभ्यास करने का अधिक अवसर नही मिला है लेकिन भारतीय खिलाड़ियों के पास अनुभव की कोई कमी नही हैं, लिहाज़ा एक संघर्षपूर्ण सिरीज़ क्रिकेट प्रेमियों के लिए होनी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार