एंडी मरे बने बीबीसी स्पोर्ट पर्सनैलिटी ऑफ़ द ईयर

इस साल के बिंबलडन विजेता एंडी मरे

इस साल विंबलडन जीतने वाले एंडी मरे ने 2013 का बीबीसी स्पोर्ट्स पर्सनैलिटी ऑफ़ द ईयर का पुरस्कार जीता है.

26 साल के मरे पिछले 77 साल में विंबलडन में पुरुष एकल ख़िताब जीतने वाले पहले ब्रितानी खिलाड़ी बने थे. उन्होंने फ़ाइनल में सर्बिया के नोवाक ज़ोकोविच को हराकर ख़िताब जीता था.

बीबीसी के पुरस्कार के लिए कराई गई वोटिंग में मरे को कुल 56 फ़ीसदी वोट मिले.

उनको चार लाख से ज़्यादा वोट मिले और उन्होंने बाक़ी प्रतिभागियों को पीछे छोड़ते हुए पहला स्थान हासिल किया.

रग्बी खिलाड़ी लेह हाफपैनी दूसरे और जॉकी एपी मैककॉय तीसरे स्थान पर रहे. कुल सात लाख 17 हज़ार 454 लोगों ने वोट दिए.

इस समारोह का आयोजन लीड्स में किया गया लेकिन मरे को यह पुरस्कार मियामी में दिया गया, जहाँ वो नए सत्र की तैयारियों में जुटे हैं.

ट्राफ़ी

18 बार की ग्रैंड स्लैम विजेता मार्टिना नवरातिलोवा ने उनको ट्राफ़ी दी.

पुरस्कार लेने के बाद मरे ने कहा, "मार्टिना का शुक्रिया कि उन्होंने मुझे सम्मानित किया. वह महान खिलाड़ी हैं."

उन्होंने कहा, "मैं कुछ लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं. सबसे पहले अपने परिवार का. मेरे परिवार के कई सदस्य आप लोगों के बीच बैठे हैं. उन्होंने बचपन से मेरी मदद की है और मेरे लिए त्याग किया है. मैंने जो कुछ हासिल किया है, वह उऩके बग़ैर मुमकिन नहीं था."

उन्होंने आगे कहा, "मैं अपनी टीम के साथियों को भी शुक्रिया कहना चाहता हूं, वे लंबे समय तक मेरे साथ रहे. उनके बिना यह उपलब्धि संभव नहीं थी."

सबका शुक्रिया

Image caption एंडी मरे ने पुरस्कार मिलने के बाद लोगों का शुक्रिया अदा किया.

उन्होंने कहा, "लंबे समय से मेरे ऊपर काफ़ी दबाव था. लेकिन मैं ख़ुश हूं कि मैंने कामयाबी पाई. मैं कितना भी उत्साहित दिखने की कोशिश करूं, लेकिन मेरी आवाज़ बोर करने वाली है. मैं इसके लिए माफ़ी चाहता हूं. लेकिन इस समय मैं वाक़ई काफ़ी उत्साहित हूं. आप सभी लोगों का बहुत-बहुत शुक्रिया."

पिछले साठ साल के इतिहास में मरे बीबीसी का यह पुरस्कार जीतने वाले चौथे टेनिस खिलाड़ी हैं.

उनसे पहले एन जोंस 1969 में, वर्जीनिया वाडे ने 1977 में और ग्रेग रुदेस्की ने 1997 में यह सम्मान जीता था.

इस साल मरे को काफ़ी उतार-चढ़ाव देखने पड़े. साल की शुरुआत में वो सर्बिया के जोकोविच से ऑस्ट्रेलियन ओपन के फ़ाइनल में हार गए थे.

मरे पीठ की समस्या के कारण मई में फ्रेंच ओपन में नहीं खेले लेकिन उन्होंने विंबलडन में ख़िताब जीतकर इतिहास रच दिया.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार