आईपीएल: सहवाग के तूफान से पंजाब फाइनल में

इमेज कॉपीरइट PTI

मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में शुक्रवार की शाम किंग्स इलेवन पंजाब के सलामी बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग की तूफ़ानी पारी ने चेन्नई सुपरकिंग्स को हार का रास्ता दिखा दिया और पंजाब ने फाइनल में जगह बनाई.

पंजाब ने चेन्नई को इस मुक़ाबले में 24 रनों से मात दी और रविवार को फाइनल में उसका सामना कोलकाता नाइट राइडर्स से होगा.

पंजाब ने टॉस हार कर पहले बल्लेबाज़ी की दावत पाई और निर्धारित बीस ओवरों में छह विकेट खोकर 226 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया.

पंजाब के सलामी बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग ने केवल 58 गेंदों पर 12 चौके और 8 छक्के लगाते हुए 122 रनों की शानदारी पारी खेली.

उन्हें दूसरे छोर से मनन वोहरा का भी बख़ूबी साथ मिला. मनन वोहरा ने 31 गेंदों पर 34 रन बनाए. इन दोनों बल्लेबाज़ों ने 10.4 ओवर में पहले विकेट के लिए 110 रनों की साझेदारी की.

उनके अलावा डेविड मिलर ने रन आउट होने से पहले केवल 19 गेंदों पर पांच चौके और एक छक्का लगाते हुए 38 रन बनाए.

रैना के बाद सब सस्ते में आउट

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption सहवाग ने लगाई सेंचुरी

पूरे टूर्नामेंट में अपने बल्ले से शानदार प्रदर्शन करते आ रहे ग्लेन मैक्सवेल केवल 13 रन बना सके, लेकिन वीरेंद्र सहवाग के बल्ले की चमक ने बाकी किसी बल्लेबाज़ की कमी नहीं खलने दी.

चेन्नई के सभी गेंदबाज़ वीरेंद्र सहवाग के बल्ले का शिकार बने. आशीष नेहरा ने चार ओवर में 51 रन देकर दो विकेट हासिल किए जबकि आर अश्विन ने 44 रन देकर एक और मोहित शर्मा ने 46 रन देकर एक विकेट हासिल किया.

जवाब में चेन्नई सुपरकिंग्स ने भी तूफ़ानी शुरुआत की. एक समय तो चेन्नई ने केवल 6.1 ओवर में ही 100 रन बना लिए थे, लेकिन इसी स्कोर पर उसके महत्वपूर्ण बल्लेबाज़ सुरेश रैना जॉर्ज बैली के हाथों रन आउट हो गए.

इस स्कोर तक रैना के रूप में गिरने वाला ये चेन्नई का तीसरा विकेट था. सुरेश रैना ने केवल 25 गेंदों पर 12 चौके और छह छक्के लगाते हुए 87 रन बनाए.

रैना का विकेट गिरना पंजाब के लिए टर्निंग पॉइंट साबित हुआ और उसके बाद एक के बाद एक विकेट गिरते रहे और मैच पर पंजाब की पकड़ मजबूत होती चली गई.

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 31 गेंदों पर तीन चौके और तीन छक्के लगाते हुए नाबाद 42 रन बना कर अंतिम क्षणों तक संघर्ष ज़रूर किया लेकिन इसके बावजूद वो अपनी टीम को हार से नहीं बचा सके.

इस कठिन मुक़ाबले में चेन्नई को रवींद्र जडेजा और डेविड हसी और ब्रैंडन मैककुलम जैसे धुरंधर बल्लेबाजों से काफ़ी उम्मीदें थी लेकिन मैककुलम 11 रन बनाकर रन आउट हुए जबकि जडेजा 27 और हसी केवल एक रन ही बना सके.

जब चेन्नई की पारी के निर्धारित बीस ओवर समाप्त हुए तो तब स्कोर बोर्ड पर उसका स्कोर सात विकेट खोकर 202 रन था.

चेन्नई सुपरकिंग्स को इस क्वॉलिफायर मुकाबले से पहले लीग चरण में भी पंजाब से दोनों मैचों में हार का सामना करना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार