कोस्टारिका के हाथों उरुग्वे की हार से हैरानी

इमेज कॉपीरइट Allsport

विश्व कप फुटबॉल टूर्नामेंट में शनिवार को हुए पहले मैच में कोलंबिया का सामना ग्रीस से हुआ. ग्रुप-सी के इस मैच में कोलंबिया ने ग्रीस को 3-0 से मात दे दी.

कोलंबिया ने उम्मीदों के अनुरूप बेहद तेज़ी से खेल की शुरुआत की. इसका फ़ायदा भी उसे जल्दी ही मिल गया, जब केवल पांच मिनट बाद ही उसके खाते में एक गोल आ गया. यह गोल कोलंबिया के डिफ़ेंडर पाब्लो अरमेरो ने किया.

उन्हें पेनल्टी एरिया में एक क्रॉस पर पास मिला, जिस पर उन्होंने बिना समय गंवाए लैफ़्ट फ़ुट से शॉट लगाया, जिसे ग्रीस के एक रक्षक ने रोकने की कोशिश की, लेकिन वह नाकाम रहे.

बॉल रक्षक के पांव से टकराती हुई जाल में समा गई और गोलकीपर कारनेज़िस को भी बचाव का मौक़ा नहीं मिला. हालांकि इसके बाद उन्होंने कई बेहतरीन बचाव मध्यांतर से पहले किए.

मध्यांतर से ठीक एक मिनट पहले ग्रीस के कोने को गोल बराबर करने का सुनहरा अवसर मिला, लेकिन उनके दमदार शॉट को कोलंबिया के गोलकीपर ओसपीना ने हवा में छलांग लगाते हुए सुरक्षित रूप से बाहर किया. मध्यांतर तक स्कोर 1-0 से कोलंबिया के पक्ष में रहा.

कोलंबिया ने मध्यांतर के बाद खेल के 58वें मिनट में फ़ॉरवर्ड टियोफ़िलो गुटीरेज़ के माध्यम के दूसरा गोल किया. जबकि अंतिम और तीसरा गोल निर्धारित समय के बाद अतिरिक्त समय के खेल में जेम्स रोड्रिगुएज़ ने दागा.

इमेज कॉपीरइट AFP

इस तरह कोलंबिया ने विश्व कप में शानदार शुरुआत करते हुए महत्वपूर्ण तीन अंक भी अपने लिए जुटा लिए.

उरुग्वे की करारी हार

विश्व कप में शनिवार को दूसरा मैच उरुग्वे और कोस्टारिका के बीच खेला गया. उरुग्वे ने अपने दबदबे के अनुरूप मैच में अधिकतर समय कोस्टारिका को बचाव की मुद्रा में रखा. इसके बावजूद मध्यांतर के बाद अचानक कोस्टारिका के खेल में ज़बरदस्त चढ़ाव देखने को मिला. उसने उरुग्वे को 3-1 से मात देकर तहलका मचा दिया.

उरुग्वे ने मध्यांतर से पहले खेल के 24वें मिनट में मिली पेनल्टी किक पर एडींसन कावानी के गोल की मदद से 1-0 की बढ़त बनाई. दक्षिण अमरीकी महाद्वीप की ये दोनों टीमें विश्व कप के इतिहास में पहली बार आमने-सामने आईं. मध्यांतर के बाद 21 वर्षीय कोस्टारिका के जोएल कैम्पबेल ने पेनल्टी एरिया मिले पास पर लैफ्ट फ़ुट से बेहद दमदार शॉट लगाकर बॉल को गोल में बदलकर पूरी उरुग्वे टीम को हक्का-बक्का कर दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty

अभी उरुग्वे इस सदमे से उभरा भी नहीं था कि पेनल्टी एरिया के बाहर से मिली फ़्री किक पर कोस्टारिका के ऑस्कर डुआर्टे ने हैडर से गोल कर टीम को 2-1 से आगे कर दिया. यह सब कुछ मध्यांतर के बाद केवल तीन मिनट के अंदर हुआ.

दूसरा गोल खेल के 54वें और तीसरा गोल 57वें मिनट में हुआ. डुआर्टे का तो यह पहला अंतराष्ट्रीय गोल था. अचानक बदले समां से उरुग्वे के समर्थकों की आंखो में आंसू आ गए, तो कइयों के चेहरे पर खामोशी छा गई.

ऐसा होता भी क्यों नही, आखिरकार दुनिया में सातवीं रैंकिंग और 1930 में पहली बार हुए विश्व कप और 1950 के विश्व कप की चैंपियन टीम अपने से कहीं पीछे 28वीं रैंकिंग की टीम से पिछड़ रही थी. इसके बाद कोस्टारिका ने छह मिनट शेष रहते हुए तीसरा गोल भी दाग दिया.

यहां मध्य रेखा के पास दाएं छोर से डुआर्टे ने बॉल को संभाला और एक बेहतरीन पास मार्कोस यूरेना को दिया, जिन्होंने गोलकीपर को छकाते हुए गोल कर दिया. इसके साथ ही एक अत्यंत नाटकीय मैच में कोस्टारिका ने कोलंबिया को 3-1 से मात दे दी.

कौन जानता था कि दो बार की चैंपियन और साल 2010 में चौथे स्थान पर रहने वाली कोलंबिया की ऐसी गत बनेगी. ऐसे परिणाम के बाद वाकई यह ग्रुप ऑफ़ डेथ साबित हुआ, जिसका शिकार कोलंबिया बनी क्योंकि इस ग्रुप की दूसरी टीमें इंग्लैंड और इटली हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार