फ़ुटबॉल विश्व कप: मिठाई नहीं मिली तो हार गया उरुग्वे?

  • 18 जून 2014
उरुग्वे का लोकप्रिय व्यंजन डुलसे डे लेख़ Image copyright Alamy

फ़ुटबॉल विश्व कप में उरुग्वे की कोस्टा रीका के हाथों हार की वजह क्या एक खाद्य पदार्थ की कमी हो सकती है? कम से कम उरुग्वे के कुछ फ़ैंस तो यही मानते हैं.

दरअसल, उरुग्वे की टीम विश्व कप के लिए जब ब्राज़ील पहुंची तो एयरपोर्ट पर ब्राज़ीली अधिकारियों ने उनके सामान में मौजूद 39 किलो के स्वादिष्ट व्यंजन को ज़ब्त कर लिया गया.

डुलसे डे लेख़ नाम का ये मीठा व्यंजन उरुग्वे में बहुत लोकप्रिय है. ब्राज़ीली अधिकारियों का कहना था कि दूध से बने इस व्यंजन के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ उरुग्वे के पास नहीं थे.

उरुग्वे की कोस्टा रीका के हाथों 3-1 से हुई हार से हैरान कुछ फ़ैंस इसके लिए डुलसे डे लेख़ की कमी को ज़िम्मेदार मान रहे हैं.

उरुग्वे का अगला मैच इंग्लैंड के साथ गुरुवार 19 जून को है.

Image copyright Reuters
Image caption एक उलटफेर में उरुग्वे अपने पहले मैच में कोस्टा रीका से 3-1 से हार गया.

ब्राज़ील के कृषि विभाग के एक अधिकारी ने रॉयटर्स समाचार एजेंसी को बताया कि जैसे ही उरुग्वे की टीम डुलसे डे लेख़ के लिए ''ज़रूरी दस्तावेज़ मुहैया कराएगी'', उसे ये व्यंजन वापस मिल जाएगा.

अधिकारी का कहना था, "या फिर वे ब्राज़ील से लौटते वक्त इसे अपने साथ वापस ले जा सकते हैं."

ये साफ़ नहीं है कि पूरा 39 किलो एक ही व्यक्ति के सामान में था या फिर अलग-अलग वज़न के इसके डिब्बे खिलाड़ियों में बांट दिए गए थे.

Image copyright AP
Image caption उरुग्वे के कुछ फ़ैंस कोस्टा रीका से उसकी हार के लिए डुलसे डे लेख़ की कमी को ज़िम्मेदार मान रहे हैं.

उरुग्वे के पूर्व गोलकीपर हुआन कास्टिलो का कहना था कि साल 2010 में भी उरुग्वे की टीम दक्षिण अफ़्रीका में हुए विश्व कप में डुलसे डे लेख़ लेकर गई थी लेकिन तब उन्हें कस्टम्स पर किसी भी तरह की परेशानी नहीं हुई थी.

डुलसे डे लेख़ बनाने के लिए दूध, चीनी, बेकिंग पाउडर और वनीला एक्ट्रेक्ट को मिलाकर पकाया जाता है. इसे ब्रैड, पैनकेक और बिस्कुटों पर लगाया जाता है या फिर फल या आइस क्रीम पर फैलाकर खाया जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार