नेमार के अंडरवियर की होगी जांच?

  • 26 जून 2014
ब्राज़ील की जीत जारी Image copyright Reuters

इस बार फ़ुटबॉल विश्वकप के दौरान पत्रकारों को शायद ढेर सारी कहानियां मिल रही हैं. उन्हें खेल के अलावा भी बहुत कुछ लिखने का मौक़ा मिल रहा है. आइए जानते हैं आज क्या है ख़ास फ़ुटबॉल डायरी में.

कोच के चेहरे पर पानी फेंका

बुधवार को अर्जेंटीना ने नाइजीरिया को 3-2 से हरा दिया लेकिन फिर भी मैच के दौरान अर्जेंटीना के कोच अलेजांद्रो सबेला अपने खिलाड़ियों को सीख देने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे थे. ब्रेक के समय वह लावेज़ी को एक कोने में ले जाकर कुछ समझाने लगे.

साफ़ दिख रहा था कि लावेज़ी कोच की बातों से ज़्यादा ख़ुश नहीं हैं.

और शायद यही वजह है कि बातचीत के दौरान लावेज़ी पानी पी रहे थे और उन्होंने कोच पर पानी फेंक दिया.

पानी कोच सबेला की आंखों में चला गया, कोच समझ ही नहीं पा रहे थे कि क्या किया जाए. ज़ाहिर है वह अपने ही खिलाड़ी के ख़िलाफ़ रेड कार्ड की मांग तो कर नहीं सकते थे.

इतिहास समेटती बच्ची

ब्राज़ील की लुईज़ा नौ साल की एक बच्ची है जो अपने देश के फ़ुटबॉल खिलाड़ियों से मिलना चाहती है. लेकिन वह साओ पाओलो में रहती हैं जहां से उसके लिए टेरेसोपोलिस जाना मुश्किल है जहां ब्राज़ील की टीम ठहरी हुई है.

इस वजह से लुईज़ा ने एक डायरी लिखनी शुरू कर दी जिसमें ब्राज़ील के सभी खिलाड़ियों के लिए संदेश है.

वह खिलाड़ियों को हर दिन एक नए नाम से संबोधित करती हैं. लुईज़ा को उम्मीद है कि एक दिन वह ये तमाम ख़त ब्राज़ील के खिलाड़ियों को ख़ुद दे सकेगी. लेकिन अगर वह ऐसा नहीं कर सकेगी तो भी फिर वह एक ब्लॉग शुरू करेगी. लेकिन इस ख़बर के बाद कुछ पत्रकारों ने लुईज़ा की मदद करने की बात कही है.

नेमार के अंडरवियर की जांच

इस बारे में अफ़वाह बहुत तेज़ है कि फ़ीफ़ा ब्राज़ील और कैमरून के बीच मैच के दौरान ब्राज़ील के खिलाड़ी नेमार के अंडरवियर दिखने की जांच कर रही है.

किसी ख़ास ब्रांड की अंडरवियर को दिखाकर नेमार ने कहीं विश्वकप के दौरान मार्केंटिंग नियमों का उल्लंघन तो नहीं किया है?

कहा जा रहा है कि नेमार ने दूसरे ब्रांड का अंडरवियर दिखाया जो कि टीम की आधिकारिक स्पॉन्सर कंपनी का नहीं था.

विश्व कप नियमों के अनुसार कोई भी खिलाड़ी कोई भी धार्मिक या राजनीतिक संदेश नहीं दे सकते और न ही वे कोई प्रचार कर सकते हैं.

फ़ीफ़ा के नियमों वाले दस्तावेज़ सिर्फ़ खिलाड़ियों और फ़ुटबॉल संघों के पास हैं, इसलिए ये कहना बहुत मुश्किल है कि नेमार ने फ़ीफ़ा के नियमों को तोड़ा है या नहीं.

गिज़ेल की जगह पेले?

Image copyright Reuters

कुछ दिनों पहले ये ख़बर आई थी कि 13 जुलाई को होने वाले फ़ाइनल मुक़ाबले के बाद विश्वकप विजेता को ब्राज़ील की सुपरमॉडल गिज़ेल बंडचेन ट्रॉफ़ी देंगी, लेकिन अब कहा जा रहा है कि गिज़ेल ने इस दावत को ठुकरा दिया है.

ब्राज़ील की राष्ट्रपति डिल्मा रूसेफ़ ने भी इस तरह के निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया था और ओपनिंग सेरेमनी के दौरान भी राष्ट्रपति डिल्मा लो प्रोफ़ाइल बनाए हुए थीं.

लगता है कि गिज़ेल अपने राष्ट्रपति को ही फ़ॉलो कर रही हैं. अब इस बारे में लोग क़यास लगा रहे हैं कि विश्व कप विजेता को ट्रॉफ़ी कौन देगा? कोई पूर्व राष्ट्रपति लूला की वकालत कर रहा है तो कोई ब्राज़ील के पूर्व खिलाड़ी पेले का नाम ले रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार