टैटुओं का विश्व कप: 10 खास टैटू

टैटू इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ब्राज़ील में जारी फ़ुटबॉल विश्वकप के इस टूर्नामेंट को इतिहास का सबसे बेहतरीन माना जा रहा है. न अब तक कभी इतने गोल हुए हैं और न ही इतने बड़े उलटफेर.

फुटबॉल खिलाड़ी इस बार जब मैदान में उतरे हैं तो एक बात और नई है- टैटू विस्फोट. खिलाड़ियों के टैटू प्रशंसकों का खूब ध्यान खींच रहे हैं, लेकिन क्या कहते हैं ये टैटू.

मॉरीसियो पीनील्या, चिली

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

चिली के फ़ुटबॉलर पीनील्या का विश्व कप को समर्पित यह टैटू ट्विटर पर दिखा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पिछले कुछ दिनों में बनाया गया यह टैटू, ब्राज़ील के साथ खेले गए दूसरे दौर के मुक़ाबले में मिले एक्स्ट्रा टाइम में गोल करने से चिली के स्ट्राइकर पीनीलिया के चूक जाने की याद दिलाता है.

तय समय में गोल रहित रहे इस मुक़ाबले में पेनल्टी शूटआउट में ब्राज़ील ने चिली को हरा दिया था.

टैटू के नीचे लिखा है, 'वन सेंटीमीटर फ्रॉम ग्लोरी' यानी विजय से एक सेंटीमीटर दूर.

लफ़बरा यूनिवर्सिटी के खेल मनोवैज्ञानिक डेविड फ़्लेचर मानते हैं कि यह टैटू बताता है कि खिलाड़ी कितना निराश है.

सर्ख़ियो रमोस, स्पेन

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

रियल मेड्रिड के खिलाड़ी सर्ख़ियो रमोस की दोनों पिंडलियों पर विश्व कप और चैंपियंस लीग की ट्रॉफ़ियाँ बनी हैं.

स्पेन ने 2010 में पहली बार विश्वकप जीता था और रियल मेड्रिड को रिकॉर्ड दसवीं बार चैंपियंस ट्रॉफ़ी जीतने के लिए 12 साल इंतज़ार करना पड़ा था.

यूनिवर्सिटी ऑफ़ एसेक्स में बॉडी ऑर्ट इतिहासकार मैट लोड्डर कहते हैं कि, "हर टैटू संदेश नहीं देता है और जो देते हैं वो भी अक़्सर काल्पनिक होते हैं."

नाइजल डे योंग, नीदरलैंड्स

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

योंग का टैटू बनाने वाले एडी एटामेडा कहते हैं, ''योंग के धड़, बाहों और हाथों पर योद्धाओं की थीम का टैटू दर्शाता है कि विश्वकप उनके व्यक्तित्व के लिए कितना अहम है.''

डेविड फ्लेचर कहते हैं कि उन्हें इस बात को लेकर कोई शक़ नहीं है कि विश्वकप उनके जीवन का सबसे अहम लम्हा है. इन खिलाड़ियों के लिए यह सिर्फ खेल नहीं है. जिनके लिए पूरी ज़िंदगी उन्होंने प्रशिक्षण लिया उसे दिखाने के लिए कुछ ही पल मिले हैं.

डानिएले डे रोसी, इटली

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इतालवी मिड फ़ील्डर ने ख़तरे के तिकोने निशान के बीच में गेंद छीनने की जद्दोज़हद वाला टैटू बनवाया है. ऐसा लग रहा है जैसे दफ़्तर का सफ़ाई कर्मचारी चिकने फर्श की चेतावनी छोड़ गया हो.

लेकिन इस टैटू का संदेश थोड़ा उत्तेजक है क्योंकि इसमें वार से विपक्षी खिलाड़ी की टांग टूटती दिख रही है.

फ़ुटबॉल मैचों के दौरान मोजे पहनने की बाध्यता के चलते ये टैटू सिर्फ़ प्रशिक्षण मैचों के दौरान ही दिखता है.

नेमार, ब्राज़ील

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ब्राज़ील के घायल सुपरस्टार नेमार की गर्दन पर बना यह टैटू दार्शनिक संदेश देता है. इसके मायने हैं सबकुछ गुज़र जाता है या कुछ भी हमेशा नहीं रहता.

रीढ़ की हड्डी में चोट के कारण बाहर हुए नेमार को अपनी टीम को जर्मनी के हाथों 7-1 से हारते देखना पड़ा.

उन्होंने अपने पैरों पर ऑसाडिया और अलेग्रिया गुदवाया है जिसका मतलब है बहादुर और खुश.

रहीम स्टर्लिंग, इंग्लैंड

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

युवा खिलाड़ी रहीम स्टर्लिंग का टैटू पश्चिमी लंदन में बीते उनके बचपन से प्रभावित है. दस साल का लड़का वेंब्ले स्टेडियम की प्रसिद्ध मेहराब को देख रहा है.

साथ में वाक्य लिखा है, "यह एक सपना है." एक बार रहीम ने कहा था, "मैं हमेशा से इंग्लैंड के लिए फ़ुटबॉल खेलना चाहता था."

राऊल मीरेलेस, पुर्तगाल

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मिडफ़ील्डर राऊल मिरेलेस ने अपनी समूची सीधी टांग पर बनी कलाकृति उनके जीवनगाथा की एक झलक भी पेश करती है.

तुर्की के लिए क्लब फ़ुटबॉल खेलने वाले राऊल के गृहनगर पोर्तो का एक चर्च, केबिल कार और इस्तांबुल की एक मस्जिद बनी है.

टीम हावर्ड, अमरीका

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बेशक़ टीम ब्राज़ील आए फ़ुटबॉलरों में टैटुओं से सबसे ज़्यादा सुसज्जित खिलाड़ी हैं.

उनके बदन पर सुपरमैन लोगो, ड्रेगन, सलीब समेत युवावस्था में उनकी माँ की तस्वीर और सैन्य पोशाक पहने उनके दादा की तस्वीरें गुदी हैं.

अन्य खिलाड़ियों के तरह हावर्ड मैदान पर अपनी शर्ट नहीं उतारते हैं. उनके टैटू थोड़ा व्यक्तिगत हैं.

ये तस्वीर उन्होंने जानवरों के अधिकारों के लिए लड़ने वाली संस्था पेटा के अभियान के लिए खिंचवाई थी.

लियोनेल मेसी, अर्जेंटीना

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मेसी का बाईं पिंडली पर दो छोटे हाथों के नीचे उनके बेटे थिएगो का नाम गुदा है.

माना जाता है कि ये डिएगो मेराडोना को 1986 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ क्वार्टर फ़ाइनल में किए गए 'हैंड ऑफ़ गॉड' गोल की ओर इशारा नहीं कर रहे हैं.

मैसी का यह टैटू भी मोजे में छुपा रहने के कारण कम ही दिखता है.

क्रिस्टियानो रोनाल्डो, पुर्तगाल

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पुर्तगाल के कप्तान क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने अपने बदन पर टैटू नहीं गुदवाया है.

वजह यह है कि वे अक़्सर रक्तदान करते हैं और रक्तदान करने वालों को टैटू गुदवाने की सलाह नहीं दी जाती है.

ब्रिटेन में तो टैटू गुदवाने के चार माह तक रक्तदान करना प्रतिबंधित भी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)