फ़ुटबॉल खिलाड़ियों की 'नौटंकी'

  • 11 जुलाई 2014
आर्जेन रोबेन Image copyright Getty images

विपक्षी टीम के खिलाड़ी से भिड़कर ज़मीन पर गिरना और ऐसे तड़पना मानो आसमान टूट पड़ा हो.

पर जब रेफ़री उसकी इस 'करुण वेदना' से टस से मस नहीं होता तो वह खिलाड़ी यूं उठ खड़ा होता है मानो उसे कुछ हुआ ही न हो.

ऐसा लगता है मानो वह किसी फ़िल्म का ऑडिशन दे रहा हो और उसे गोली लग गई हो.

(पढ़िए : फ़ीफ़ा टिकट मामले में गिरफ़्तारी)

मौजूदा विश्व कप में खेल रहे ऐसे ही पांच 'ड्रामेबाज़' खिलाड़ियों के बारे में हमें बताया ब्राज़ील में मौजूद पत्रकार शोभन सक्सेना ने.

आर्येन रोबेन

नीदरलैंड्स के इस खिलाड़ी को लोग 'डाइविंग' स्पेशलिस्ट मानते हैं.

Image copyright getty images

उन्हें कोई ज़रा सा भी हाथ या पैर लगा दे तो वह गिर जाते हैं और हमेशा पेनल्टी एरिया में गिरने की कोशिश करते हैं ताकि उन्हें पेनल्टी मिल जाए.

उन्होंने 2014 के विश्व कप नॉक आउट दौर में मैक्सिको के ख़िलाफ़ वे पेनल्टी एरिया में गिर गए थे, जिस पर उन्हें पेनल्टी भी मिली थी. हालाँकि मैक्सिको के खिलाड़ियों का आरोप था कि उन्होंने डाइव लगाई थी.

टॉमस मुलर

Image copyright Reuters

जर्मनी के ये खिलाड़ी भी ज़रा सा हाथ लगने पर ज़मीन पर लोट जाते हैं और इनकी कोशिश पेनल्टी एरिया से बाहर या अंदर गिरने की रहती है.

उनकी कोशिश रहती है कि पेनल्टी या फ़्री किक तो मिल ही जाए.

16 जून को हुआ जर्मनी-पुर्तगाल का मुक़ाबला जिसमें मुलर ने 3 गोल मारे.

उनकी पुर्तगाल के खिलाड़ी पेपे से हलकी सी टक्कर हुई पर उन्होंने उस टक्कर को ऐसा दर्शाया मानो उन्हें बहुत ज़ोर से चोट लगी हो और रेफ़री से गुहार लगाने लगे.

फ़्रेड

Image copyright AFP

ब्राज़ील के इस खिलाड़ी को विश्व कप के पहले ही मैच में क्रोएशिया के ख़िलाफ़ मैच में टक्कर लगी और वह गिर पड़े. जिस वजह से ब्राज़ील को पेनल्टी मिल गई.

('जुनिगा के ख़िलाफ़ नहीं होगी कार्रवाई')

हालांकि बाद में रेफ़री के इस फ़ैसले पर ख़ासा बवाल मचा और फ़्रेड को नाटकबाज़ भी करार दिया गया.

ब्राज़ील के कोच ने भी माना कि इससे उनकी टीम की प्रतिष्ठा को धक्का पहुंचा.

क्रिस्टियानो रोनाल्डो

Image copyright Reuters

पुर्तगाल के खिलाडी रोनाल्डो अपने बेहतरीन खेल के साथ-साथ मैदान में 'ऐक्टिंग' के लिए भी विख्यात हैं.

ज़रा सा धक्का लगने पर गिरना, चोट लगने का बहाना करना, ज़मीन पर लोटना ताकि कम से कम एक फ़्री किक तो मिल ही जाए.

16 जून को जर्मनी के साथ हुए मुकाबले में आखिरी के कुछ समय में रोनाल्डो गिरे और उन्हें फ़्री किक भी मिली.

डी मारिया

Image copyright AFP

अर्जेंटीना के ये खिलाड़ी अपने कौशल के लिए तो मशहूर हैं ही लेकिन गाहे-बगाहे मैदान में गिर पड़ने के लिए भी ख़ासे लोकप्रिय हैं.

किसी तरह बस वह गिर जाएं और उनकी टीम को पेनल्टी मिल जाए.

25 जून को हुए मुकाबले में अर्जेंटीना के डी मारिया नाइजीरिया के पेनल्टी एरिया में जाकर गिरे पर रेफ़री ने उन्हें कोई भाव नहीं दिया.

फ़िलहाल उनकी जांघ में चोट लगी है जिसके चलते वह नीदरलैंड्स के विरुद्ध सेमीफ़ाइनल में नहीं खेल सके थे.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार