'जीवन भर के लिए अपाहिज' हो सकते थे नेमार

इमेज कॉपीरइट Reuters

ब्राजील के चोटग्रस्त खिलाड़ी नेमार का कहना है कि विश्व कप के दौरान लगी चोट उन्हें जीवन भर के लिए अपाहिज बना सकती थी.

कोलंबिया के साथ खेले गए क्वॉर्टर फाइनल मैच में 22 वर्षीय नेमार की रीढ़ की हड्डी में उस समय चोट लगी जब हुआन ज़ुनिगा का घुटना उनकी पीठ से टकराया था.

वैसे नेमार ने उम्मीद जताई है कि रविवार को होने वाले फाइनल में अर्जेंटीना जर्मनी को हरा देगा. बार्सिलोना क्लब में नेमार और मेसी साथ खेलते हैं.

नेमार ने कहा, "मेरे ख़्याल से ये अर्जेंटीना और जर्मनी दोनों के लिए काफ़ी अहम है क्योंकि दोनों टीमें अच्छा खेली हैं. मैं उम्मीद करता हूँ कि मेरी टीम के साथी जीतें. अर्जेंटीना की टीम में मेरे क्लब की टीम के दो साथी हैं- मेसी और (हाविए) मस्केरानो."

उन्होंने कहा कि वह फ़ाइनल में मेसी का समर्थन कर रहे होंगे. वह बोले, "उन्होंने अपने करियर में कई ख़िताब जीते हैं, मैं उनका उत्साह बढ़ाउँगा. वह मेरे दोस्त हैं, मेरे साथी हैं और मैं उन्हें शुभकामनाएँ देता हूँ."

नेमार की आँखों में आँसू

कोलंबिया के विरुद्ध मैच में लगी चोट के बारे में बात करते हुए नेमार की आंखों में आंसू आ गए और उन्होंने कहा, "मैं मदद के लिए भगवान का शुक्रगुज़ार हूं क्योंकि अगर कुछ इंच नीचे चोट लगती तो शायद मैं अपाहिज हो जाता.’’

इमेज कॉपीरइट AFP

सेमीफाइनल मैच में नेमार के बिना खेल रही ब्राज़ील की टीम जर्मनी से 7-1 से हार गई थी.

फीफा ने इस मामले में ज़ुनिगा के ख़िलाफ़ कोई अनुशासनात्मक कार्रवाई नहीं की और रेफ़री वेल्साको कारबालो की मैदान में की गई कार्रवाई को ही उपयुक्त बताया.

नेमार ने बताया कि ज़ुनिगा ने उन्हें चोट के अगले दिन फोन किया था और सॉरी कहा था लेकिन नेमार शायद उन्हें माफ नहीं कर पाए.

नेमार इस चोट से काफ़ी नाराज़ भी लगे. उनका कहना था, "मैं ये नहीं कहूंगा कि वह मुझे घायल करने के लिए ही आए थे. मैं नहीं जानता उनके दिमाग में क्या चल रहा था लेकिन जो भी फुटबॉल समझते हैं वो देख सकते हैं कि ये कोई सामान्य बात नहीं थी.’’

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार